पेरिस का नाट्र-डेम चर्च

विचार-रिपोर्ट | फोटो स्टोरी

पेरिस के नोट्र-डाम कथीड्रल में लगी आग से जुड़े पांच अहम ट्वीट और तस्वीरें

नोट्र-डाम कथीड्रल करीब 850 साल पुराना चर्च है जिसमें सोमवार को रेनोवेशन के दौरान आग लग गई है. लेकिन आग के कारणों का पता अब तक नहीं चल पाया है

ब्यूरो | 16 अप्रैल 2019 | फोटो: ट्विटर/Ministère de l'Intérieur

1

आंतरिक मामलों के मंत्रालय ने ट्वीट कर घटना स्थल की तस्वीरें जारी की हैं और बताया है कि आग को बुझाने के लिए पूरी कोशिश की जा रही है. इसके साथ ही उन्होंने नागरिकों से सहयोग करने की भी अपील की है.

2

खबरों के अनुसार इमानुएल मैक्रों ने इसे नेशनल इमरजेंसी की तरह लिया है और आज के दिन के अपने तमाम कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं. उन्होंने ट्विटर पर लिखा: ‘हमारी ‘लेडी ऑफ पेरिस’ (इमारत के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला संबोधन) फिलहाल आग की लपटों में है. देश के लिए यह एक भावुकता का समय है. सभी कैथोलिक और फ्रांस के बाकी सभी लोगों को संवेदनाएं. अपने एक हिस्से को जलता हुआ देखकर तमाम देशवासियों की तरह मैं भी दुखी हूं.’

 

3

पेरिस की मेयर एन हिडाल्गो ने घटनास्थल से ट्वीट कर जानकारी दी है कि ‘नोट्र-डाम कथेीड्रल में भयंकर आग लगी हुई है. इसके लिए बचाव काम जोरों पर है. मैं सबसे गुजारिश करती हूं कि वे सुरक्षा मानकों का पालन करेंगे.’

4

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर सलाह दी है कि हैलीकॉप्टर्स की मदद से पानी की बौछार की जाए तो संभवतः आग पर काबू पाया जा सकता है. ट्रंप के अलावा ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने भी दुर्घटना पर अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं

5

इन सबके अलावा दुर्घटना की भयावहता को फ्रांस के आम नागरिकों द्वारा पोस्ट की तस्वीरों और वीडियो मे भी देखा जा सकता है.

संबंधित
फ्रांस
  • सैमसंग गैलेक्सी एस20

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    सैमसंग गैलेक्सी एस20: दुनिया की सबसे अच्छी स्क्रीन वाले मोबाइल फोन्स में से एक

    ब्यूरो | 27 नवंबर 2020

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 26 नवंबर 2020

    निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 26 नवंबर 2020

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020