प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

विचार-रिपोर्ट | बुलेटिन

आज – 01 जनवरी – के पांच प्रमुख समाचार

नरेंद्र मोदी | कांग्रेस | इलाहाबाद | यूनेस्को | अफगानिस्तान

ब्यूरो | 01 जनवरी 2019

1

नरेंद्र मोदी: सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने पर विचार करेगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बड़ा बयान दिया है. मंगलवार को साल के अपने पहले साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार फिलहाल राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश नहीं लाएगी. प्रधानमंत्री का कहना था कि न्यायिक प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही इस पर विचार किया जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि भाजपा ने अपने घोषणापत्र में इस मुद्दे को संविधान सम्मत तरीके से सुलझाने का वादा किया था. इस दौरान प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि 70 साल शासन करने वालों ने ही राम मंदिर के मुद्दे को लटकाया है. नरेंद्र मोदी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के वकील सुप्रीम कोर्ट में बाधाएं पैदा कर रहे हैं जिसके चलते राम मंदिर मामले की सुनवाई धीमी गति से चल रही है. उधर, विपक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार किया है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इस साक्षात्कार में, मैं, मेरा और मुझे के अलावा कोई बात नहीं थी. उनका ये भी कहना था कि प्रधानमंत्री के इसी रवैये ने देश को नीतिगत लिहाज से बर्बादी के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है.

2

मायावती के समर्थन पर पुनर्विचार वाले बयान पर कांग्रेस की सफाई

मध्य प्रदेश और राजस्थान सरकार को समर्थन पर पुनर्विचार के मायावती के बयान के बाद कांग्रेस ने सफाई दी है. मंगलवार को पार्टी प्रवक्ता टॉम वडक्कन ने कहा कि बसपा सुप्रीमो के इस बयान का मतलब चेतावनी नहीं था. इससे पहले सोमवार को मायावती ने मांग की थी कि अप्रैल में हुए भारत बंद के दौरान दलितों पर दर्ज मामले वापस लिए जाएं. उनका कहना था कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो वे मध्य प्रदेश और राजस्थान की कांग्रेस सरकारों को समर्थन देने पर फिर विचार करेंगी. टॉम वडक्कन के मुताबिक इस मुद्दे को लेकर बसपा और कांग्रेस में कोई मतभेद नहीं है. उनका ये भी कहना था कि कांग्रेस पहले ही दोनों राज्यों में भारत बंद के दौरान दलितों पर दर्ज हुए मामलों की समीक्षा शुरू कर चुकी है.

3

इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने को गृह मंत्रालय की मंजूरी

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने को अपनी मंजूरी दे दी है. उसने इस संबंध में अन्य केंद्रीय मंत्रालयों को एक चिट्ठी लिखी है. इसमें कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने इलाहाबाद का नाम बदले जाने की मांग से जुड़े उत्तर प्रदेश सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है. योगी आदित्यनाथ सरकार ने बीते साल अक्टूबर में इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने की घोषणा की थी. इसके बाद प्रदेश सरकार ने केंद्र के पास इससे संबंधित प्रस्ताव भेजा था. इलाहाबाद के अलावा केंद्र सरकार बीते दिनों मुगल सराय और रॉबटर्सगंज रेलवे स्टेशनों के नाम बदलने को भी अपनी मंजूरी दे चुका है.

4

अमेरिका और इजरायल यूनेस्को से अलग हुए

अमेरिका और इजरायल आधिकारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र शैक्षणिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन यानी यूनेस्को से अलग हो गए हैं. उनका आरोप है कि ये वैश्विक संगठन इजरायल के खिलाफ पूर्वाग्रह से ग्रस्त है. अमेरिका और इजरायल का अलग होना यूनेस्को के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. द्वितीय विश्व युद्ध के बाद स्थापित किए गए यूनेस्को के संस्थापक देशों में अमेरिका भी शामिल रहा है. लेकिन 2011 में जब इस संगठन ने फिलिस्तीन को पूर्ण सदस्यता दी तो अमेरिका और इजरायल ने उसमें अपना वित्तीय योगदान बंद कर दिया था. अमेरिका यूनेस्को में बुनियादी सुधार’ की मांग कर रहा है. डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने यूनेस्को से अलग होने का नोटिस अक्टूबर 2017 में दिया था. इसके बाद इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भी यही कदम उठाया.

5

अफगानिस्तान में दो आतंकी हमलों में 15 जवानों की मौत

अफगानिस्तान में दो अलग-अलग आतंकी हमलों में अफगान सुरक्षा बलों के 15 जवानों की मौत हो गई. ये हमले देश के उत्तरी प्रांत सेर-ए-पुल में हुए. इनमें 21 जवान घायल भी हुए हैं. दोनों हमलों की जिम्मेदारी आतंकी संगठन तालिबान ने ली है. ये हमले ऐसे समय में हुए हैं जब तालिबान शांति वार्ता का अफगानिस्तान सरकार का प्रस्ताव ठुकरा चुका है. ये वार्ता इसी महीने सऊदी अरब में होनी है. तालिबान का कहना है कि पहले वो अमेरिका के साथ किसी समझौते पर पहुंचना चाहता है. उधर, अमेरिका ने कहा है कि आखिरी समझौता अफगान सरकार के नेतृत्व में ही होना चाहिए.

  • लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ज्ञानकारी | तकनीक

    लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ब्यूरो | 19 अक्टूबर 2021

    रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021