पैनटॉप्टिकॉन प्रोजेक्टर

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

अमेरिका में विकसित पहले फिल्म प्रोजेक्टर के प्रदर्शन सहित 21 अप्रैल को घटी पांच घटनाएं

मुगल साम्राज्य | पैनटॉप्टिकॉन | एलिजाबेथ द्वितीय | मोहम्मद इकबाल | श्रीलंका

ब्यूरो | 21 अप्रैल 2019 | फोटो : ट्विटर / प्रोजेक्टर रिव्यूज

1

21 अप्रैल, 1526 को भारत में मुगल साम्राज्य की नींव पड़ी. इस दिन काबुल के शासक जहीरूद्दीन मोहम्मद बाबर और दिल्ली की सल्तनत के सम्राट इब्राहिम लोदी के बीच पानीपत की पहली लड़ाई में लोदी की हार हुई थी. इस लड़ाई में बाबर ने जहां तोपों का इस्तेमाल किया वहीं, लोदी ने हाथियों की परंपरागत ताकत के दम पर जंग लड़ी, लेकिन बाबर की सेना संख्या में कम होने के बावजूद लोदी की सेना पर भारी पड़ी.

2

21 अप्रैल, 1895 को वुडविल लैथम और उनके बेटे ओटवे और ग्रे ने अमेरिका में विकसित पहले फिल्म प्रोजेक्टर ‘पैनटॉप्टिकॉन’ को प्रदर्शित किया था. हालांकि वहां थॉमस एडिसन की ‘काइनेटोस्कोप’ मशीन के जरिए फिल्मों का प्रदर्शन पहले से हो रहा था. लेकिन, उससे फिल्म देखने के लिए बाइस्कोप जैसी चीज का इस्तेमाल होता था जिस वजह से एक बार में केवल एक ही व्यक्ति फिल्म देख सकता था.

3

21 अप्रैल, 1926 को इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का जन्म हुआ था. उनका पूरा नाम ‘एलिजाबेथ एलेक्जेंद्रा मेरी ‘है और वह सबसे लंबे समय तक इंग्लैंड पर शासन करने का रिकार्ड बना चुकी हैं.

4

21 अप्रैल, 1938 को सारे जहां से अच्‍छा हिंदोस्‍ता हमारा… के रचयिता मशहूर शायर मोहम्मद इकबाल का पाकिस्तान के लाहौर में निधन हुआ. मुहम्मद इक़बाल अविभाजित भारत के प्रसिद्ध कवि, नेता और दार्शनिक थे. उर्दू और फ़ारसी में इनकी शायरी को आधुनिक काल की सर्वश्रेष्ठ शायरी में गिना जाता है. इकबाल को द्विराष्ट्र सिद्धांत का जन्मदाता भी कहा जाता है. उन्होंने ही पहली बार मुस्लिम लीग के अध्यक्ष के तौर पर ‘द्विराष्ट्र सिद्धांत’ का मसला हवा में उछाला था.

5

21 अप्रैल, 1987 को श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में हुए बम धमाके में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो हुई. इस हमले में 300 लोग घायल भी हुए. आतंकियों ने एक कार में विस्फोटक रखा था. इस हमले का आरोप अलगाववादी संगठन ‘लिबरेशन टाइगर्स तमिल ईलम’ (लिट्टे) पर लगा था.

  • रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021

    कोविड 19 की वजह से मरने वाले लोगों की चिताएं

    आंकड़न | कोरोना वायरस

    भारत में अब तक कोरोना वायरस की वजह से कितने लोगों की मृत्यु हुई होगी?

    ब्यूरो | 27 मई 2021