नरेंद्र मोदी, ममता बनर्जी, राहुल गांधी, मायावती, नवीन पटनायक

विचार-रिपोर्ट | राजनीति

23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने पर किन पांच तरीकों से नई सरकार बन सकती है?

एग्जिट पोल्स पर ध्यान ना भी दें तो पांच में से तीन तरीकों से नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनते हुए और चार तरीकों से एनडीए की सरकार वापसी करती हुई दिखती है

ब्यूरो | 20 मई 2019

1

पहली और सबसे मजबूत संभावना यह है कि एग्जिट पोल के आंकड़े एकदम सही ठहरते हैं और एनडीए 300 से ज्यादा सीटें लेकर आती है. ऐसे में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में दोबारा एनडीए की सरकार बनती है.

2

दूसरी संभावना कहती है कि भाजपा अकेले 272 का आंकड़ा पार करती है. एनडीए के सहयोगी दल इसे और मजबूत करते हैं और नरेंद्र मोदी फिर प्रधानमंत्री बनते हैं. ऐसा होना तभी संभव है जब बीजेपी उत्तर प्रदेश में ज्यादा सीटें नहीं गंवाती है और उत्तर-पूर्व, दक्षिण सहित पश्चिम बंगाल, उड़ीसा जैसे राज्यों में भी शानदार प्रदर्शन करती है.

3

तीसरी संभावना यह है कि एनडीए 272 के आंकड़े से जरा ही पीछे रह जाती है और इस कमी को पूरा करने के लिए अलायंस में टीआरएस, वायएसआरसी और बीजेडी जैसे कुछ नए साझेदारों को शामिल किया जाता है. यहां पर भी नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनते दिखते हैं.

4

चौथी और अपेक्षाकृत कमजोर संभावना यह है कि एनडीए बहुमत से बहुत पीछे रह जाती है. एनडीए को कई और बाहरी दलों का समर्थन मिलता है. ऐसा होने पर नरेंद्र मोदी के अलावा राजनाथ सिंह या नितिन गड़करी के भी प्रधानमंत्री बनने के मौके आ सकते हैं.

5

पांचवी संभावना कहती है कि कांग्रेस एक ठीक-ठाक आंकड़े तक पहुंचती है और महागठबंधन और बाकी दल उसका साथ देते हैं. ऐसे में कोई ऐसा चेहरा प्रधानमंत्री बन सकता है जिसके बारे में अभी अंदाजा भी ना लगाया जा सकता हो. लेकिन ऐसा होने की चांसेज सबसे कम हैं.

द प्रिंट की रिपोर्ट पर आधारित

  • नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021

    किरण बेदी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    जब किरण बेदी पुडुचेरी में कांग्रेस की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई थीं तो उन्हें हटाया क्यों गया?

    अभय शर्मा | 19 फरवरी 2021

    एलन मस्क टेस्ला

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    जिस बिटकॉइन को प्रतिबंधित करने की मांग हो रही है, उस पर टेस्ला ने दांव क्यों लगाया है?

    ब्यूरो | 18 फरवरी 2021