नरेंद्र मोदी, ममता बनर्जी, राहुल गांधी, मायावती, नवीन पटनायक

विचार-रिपोर्ट | राजनीति

23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने पर किन पांच तरीकों से नई सरकार बन सकती है?

एग्जिट पोल्स पर ध्यान ना भी दें तो पांच में से तीन तरीकों से नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनते हुए और चार तरीकों से एनडीए की सरकार वापसी करती हुई दिखती है

ब्यूरो | 20 मई 2019

1

पहली और सबसे मजबूत संभावना यह है कि एग्जिट पोल के आंकड़े एकदम सही ठहरते हैं और एनडीए 300 से ज्यादा सीटें लेकर आती है. ऐसे में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में दोबारा एनडीए की सरकार बनती है.

2

दूसरी संभावना कहती है कि भाजपा अकेले 272 का आंकड़ा पार करती है. एनडीए के सहयोगी दल इसे और मजबूत करते हैं और नरेंद्र मोदी फिर प्रधानमंत्री बनते हैं. ऐसा होना तभी संभव है जब बीजेपी उत्तर प्रदेश में ज्यादा सीटें नहीं गंवाती है और उत्तर-पूर्व, दक्षिण सहित पश्चिम बंगाल, उड़ीसा जैसे राज्यों में भी शानदार प्रदर्शन करती है.

3

तीसरी संभावना यह है कि एनडीए 272 के आंकड़े से जरा ही पीछे रह जाती है और इस कमी को पूरा करने के लिए अलायंस में टीआरएस, वायएसआरसी और बीजेडी जैसे कुछ नए साझेदारों को शामिल किया जाता है. यहां पर भी नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनते दिखते हैं.

4

चौथी और अपेक्षाकृत कमजोर संभावना यह है कि एनडीए बहुमत से बहुत पीछे रह जाती है. एनडीए को कई और बाहरी दलों का समर्थन मिलता है. ऐसा होने पर नरेंद्र मोदी के अलावा राजनाथ सिंह या नितिन गड़करी के भी प्रधानमंत्री बनने के मौके आ सकते हैं.

5

पांचवी संभावना कहती है कि कांग्रेस एक ठीक-ठाक आंकड़े तक पहुंचती है और महागठबंधन और बाकी दल उसका साथ देते हैं. ऐसे में कोई ऐसा चेहरा प्रधानमंत्री बन सकता है जिसके बारे में अभी अंदाजा भी ना लगाया जा सकता हो. लेकिन ऐसा होने की चांसेज सबसे कम हैं.

द प्रिंट की रिपोर्ट पर आधारित

  • लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ज्ञानकारी | तकनीक

    लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ब्यूरो | 19 अक्टूबर 2021

    रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021