गेटवे ऑफ इंडिया पर अंग्रेजी सेना का विदाई समारोह

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

अंग्रेजो के पूरी तरह भारत छोड़ने सहित 28 फरवरी को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

अंग्रेजी सेना की आखिरी टुक्ड़ी | रमन प्रभाव | मिस्र | यूरो | पोप बेनेडिक्ट-16

ब्यूरो | 28 फरवरी 2019 | फोटो: विकीमीडिया

1

28 फरवरी, 1948 को भारत की आजादी के तकरीबन छह माह बाद ब्रिटिश सेना की अंतिम टुकड़ी अपने देश लौट गई. उनके लिए मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर एक विदाई समारोह का आयोजन भी किया गया था.

2

28 फरवरी, 1928 को महान वैज्ञानिक सीवी रमन ने ‘रमन प्रभाव’ का आविष्कार किया था. पारदर्शी पदार्थ से गुजरने पर प्रकाश की किरणों में आने वाले बदलाव पर की गई इस महत्‍वपूर्ण खोज के लिए 1930 में उन्हें भौतिकी के नोबेल पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया. वे यह पुरस्कार ग्रहण करने वाले भारत ही नहीं बल्कि एशिया के पहले वैज्ञानिक थे. वहीं, 1954 में भारत ने उनको सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान भारत रत्‍न से नवाजा था. इसीलिए भारत में 28 फरवरी का दिन ‘विज्ञान दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

3

28 फरवरी, 1922 को मिस्र को एक स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया. हालांकि इंग्लैंड और आयरलैंड ने मिस्र की विदेश नीति, सेना और सूडान से जुड़े कुछ मसलों पर शर्तों के साथ उसे आज़ादी दी थी लेकिन 1936 में ये शर्तें भी खत्म कर दी गईं.

4

28 फरवरी, 2002 को यूरो जोन के देशों में उनकी राष्ट्रीय मुद्रा के चलन का अंतिम दिन था. इसके बाद सभी देशों की मुद्रा यूरो हुई.

5

28 फरवरी, 2013 को पोप बेनेडिक्ट 16 ने इस्तीफा दिया था. करीब 600 साल में यह पहला मौका था जब पोप ने अपना पद छोड़ा हो. 86 वर्षीय  पोप ने इसके पीछे बुढ़ापे के कारण हुई अस्वस्थता को कारण बताया था.

  • लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ज्ञानकारी | तकनीक

    लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ब्यूरो | 19 अक्टूबर 2021

    रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021