भारत में पहली मालगाड़ी

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

22 दिसंबर को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

अमेरिकी सेना में समलैंगिकों को मान्यता | जर्मनी का एकीकरण | गुरू गोविंद सिंह | भारत में मालगाड़ी | थॉमस अल्वा एडिसन

ब्यूरो | 22 दिसंबर 2018 | फोटो: सत्यप्रकाश रेशू -ट्विटर

1

22 दिसंबर, 2010 को अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक कानून को मंजूरी देकर सेना में समलैंगिकों की सेवाओं को कानूनी मान्यता दे दी थी. इससे पहले तक 1993 में लागू हुए ‘डोंट आस्क, डोंट टैल’ कानून के चलते समलैंगिक सैनिकों को अपनी लैंगिकता छिपाने को मजबूर होना पड़ता था और उनके समलैंगिक होने की बात सामने आने पर उन्हें सेना से निकाल दिया जाता था.

2

22 दिसंबर, 1989 को बर्लिन में ब्रैंडनबर्ग गेट खोला गया था. इसके बाद पूर्वी एवं पश्चिमी जर्मनी एक बार फिर एक हो गए.

3

22 दिसंबर, 1666 को सिख समुदाय के दसवें व अंतिम गुरु, गुरु गोविंद सिंह जी का जन्म हुआ था. इनके बाद ‘गुरू मानयो ग्रंथ’ का पालन करते हुए सिखों ने गुरु ग्रंथ साहिब को ही अपना गुरु माना.

4

22 दिसंबर, 1851 को भारत में पहली मालगाड़ी चलाई गई थी. इसे रूड़की से चलाया गया था. यह क्षेत्र फिलहाल देश के उत्तराखंड राज्य में है.

5

22 दिसंबर, 1882 को थॉमस अल्वा एडिसन के बनाए गए बल्बों से पहली बार क्रिसमस ट्री को सजाया गया और यह रौशनी से जगमगा उठा.

  • किसान आंदोलन

    विचार-रिपोर्ट | किसान

    क्या किसान आंदोलन कमजोर होता जा रहा है?

    ब्यूरो | 58 मिनट पहले

    नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021

    किरण बेदी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    जब किरण बेदी पुडुचेरी में कांग्रेस की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई थीं तो उन्हें हटाया क्यों गया?

    अभय शर्मा | 19 फरवरी 2021