भारतीय क्रिकेट टीम

विचार-रिपोर्ट | खेल

आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में वह सबकुछ, जो आपको जानना चाहिए

आईसीसी ने क्रिकेट के सबसे पुराने प्रारूप को लोकप्रिय बनाने के लिए 'विश्व टेस्ट चैंपियनशिप' की घोषणा की है

ब्यूरो | 30 जुलाई 2019 | फोटो : बीसीसीआई

1

आईसीसी ने बहुप्रतीक्षित ‘विश्व टेस्ट चैंपियनशिप’ का कार्यक्रम घोषित कर दिया है. इसका आगाज एक अगस्त से इंग्लैंड में खेली जाने वाली ‘एशेज सीरीज’ से होगा. यह चैंपियनशिप करीब दो साल चलेगी और इसमें टेस्ट खेलने वाली शीर्ष नौ टीमें हिस्सा लेंगी. इन टीमों के बीच 27 द्विपक्षीय टेस्ट सीरीजों के तहत 71 मैच खेले जाएंगे. आईसीसी के मुताबिक हर मैच में निर्धारित अंक होंगे जो मैच के नतीजे के हिसाब से टीमों को आवंटित किए जाएंगे. सभी 71 मैच खेले जाने के बाद सबसे ज्यादा अंक हासिल करने वाली शीर्ष दो टीमों के बीच इंग्लैंड में जून 2021 में फाइनल मुकाबला खेला जाएगा. इस मुकाबले को जीतने वाली टीम ही विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की विजेता कहलाएगी.

2

आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में हिस्सा लेने वाली टीमें- भारत, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज और बांग्लादेश हैं. इन टीमों का चयन 31 मार्च, 2018 को आईसीसी की टेस्ट रैंकिंग के आधार पर किया गया है. क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था की ओर से यह भी कहा गया है कि अगले दो सालों में इन नौ टीमों में से कोई भी टीम अगर अफगानिस्तान, आयरलैंड और जिम्बाब्वे के साथ कोई टेस्ट सीरीज खेलती है तो वह सीरीज टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा नहीं होगी.

3

टेस्ट चैंपियनशिप में सभी नौ टीमों में से प्रत्येक टीम को तीन सीरीज घर में और तीन अन्य देशों में खेलनी होंगी. प्रत्येक टेस्ट सीरीज में मैचों की संख्या दो से लेकर अधिकतम पांच तक हो सकती है. यानी सभी टेस्ट सीरीजों में मैचों की संख्या समान नहीं होगी. यही वजह है कि इस चैंपियनशिप के दौरान सभी टीमें एक बराबर छह सीरीज तो खेलेंगी, लेकिन उनके कुल मैचों की संख्या अलग-अलग होगी. इस दौरान इंग्लैंड सर्वाधिक 22 टेस्ट मैच खेलेगा क्योंकि उसे चार और पांच मैचों की सबसे ज्यादा टेस्ट सीरीज खेलनी हैं. दो साल की इस टेस्ट चैंपियनशिप के दौरान ऑस्ट्रेलिया और भारत 18 मैच, दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज 15 मैच और बांग्लादेश और न्यूजीलैंड 14 मैच खेलेंगे. इस अवधि में पाकिस्तान और श्रीलंका की टीमें सबसे कम केवल 13-13 मैच ही खेलेंगी.

4

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में प्रत्येक सीरीज़ के लिए कुल 120 अंक होंगे. इन 120 अंकों को सीरीज में होने वाले कुल मैचों की संख्या के आधार पर बांट दिया जाएगा. उदाहरण के लिए, दो टेस्ट मैचों की सीरीज में प्रत्येक मैच के लिए 60 अंक, तीन मैचों की सीरीज में प्रत्येक मैच के लिए 40 अंक, चार मैचों की सीरीज में प्रत्येक मैच के लिए 30 अंक और पांच मैचों की सीरीज में प्रत्येक टेस्ट मैच के लिए 24 अंक निर्धारित होंगे. यहां मैच जीतने वाली टीम को पूरे अंक और हारने वाली टीम को शून्य मिलेगा. आईसीसी द्वारा जारी की गयी रिपोर्ट के मुताबिक टाई हुए मैचों में दोनों टीमों को जीत के मुकाबले आधे अंक मिलेंगे और ड्रॉ होने पर जीत के एक-तिहाई अंक दिए जाएंगे.

5

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल अगर ड्रॉ या टाई रहता है तो दोनों टीमों को संयुक्त विजेता घोषित किया जाएगा. हालांकि, आईसीसी ने रिजर्व डे यानी अतिरिक्त दिन का भी विकल्प दिया है. लेकिन, ऐसा तभी होगा जब पांचों दिन के कुल खेल समय में कुछ नुकसान हुआ हो. एक टेस्ट मैच के लिए पांच दिनों में कुल 30 घंटे (छह घंटे रोज) का समय निर्धारित है. आईसीसी के मुताबिक फाइनल मुकाबले के दौरान बारिश या किसी अन्य वजह से पांचों दिनों में 30 घंटे से कम का खेल ही होता है तो उस समय की भरपाई छठे यानी अतिरिक्त दिन में की जा सकती है.

  • रिलायंस प्रमुख मुकेश अम्बानी

    तथ्याग्रह | इंटरनेट

    क्या सच में रिलायंस जियो 555 रु वाला रीचार्ज मुफ्त में दे रही है?

    ब्यूरो | 30 नवंबर 2020

    अमित शाह, भाजपा

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    तेलंगाना का एक नगर निगम चुनाव भाजपा के लिए इतना बड़ा क्यों बन गया है?

    अभय शर्मा | 30 नवंबर 2020

    सैमसंग गैलेक्सी एस20

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    सैमसंग गैलेक्सी एस20: दुनिया की सबसे अच्छी स्क्रीन वाले मोबाइल फोन्स में से एक

    ब्यूरो | 27 नवंबर 2020

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 26 नवंबर 2020