अमित शाह, भाजपा

विचार-रिपोर्ट | राजनीति

भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व, दिल्ली प्रदेश इकाई से नाराज़ क्यों है?

हाल ही में भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई ने लोकसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट भेजी थी

ब्यूरो | 02 अप्रैल 2019 | फोटो: फेसबुक-अमित शाह

1

भारतीय जनता पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व पार्टी की दिल्ली प्रदेश इकाई से खफा है. इस नाराजगी की वजह लोकसभा चुनावों के लिए दिल्ली प्रदेश भाजपा की ओर से भेजी गई एक सूची है. भाजपा के बड़े नेताओं को लगता है कि दिल्ली प्रदेश के जिन नेताओं पर संगठन की अहम जिम्मेदारियां हैं, उन्होंने इस सूची में अपने नाम ही भेज दिए हैं.

2

इस सूची के संसदीय बोर्ड में पहुंचते ही बोर्ड के तकरीबन हर सदस्य ने इस पर नाराजगी जताई थी. दरअसल सूची में दिल्ली की सात लोकसभा सीटों के लिए प्रदेश भाजपा ने 21 नाम भेजे थे. पार्टी के बड़े नेता इस बात से खासे नाराज हुए कि लोकसभा चुनावों के प्रबंधन के लिए 19 सदस्यों की जो समिति बनाई गई है, उसके 15 लोगों के नाम इस सूची में हैं. इसके अलावा पार्टी के तीन प्रदेश महासचिवों का नाम इसमें है. साथ ही कुछ प्रभारियों के नाम भी शामिल हैं.

3

पार्टी के बड़े नेता इसलिए नाराज हुए कि चुनावों के प्रबंधन के लिए जो सांगठनिक व्यवस्था उन लोगों ने बनाई है, उसके अधिकांश लोग चुनाव लड़ना चाहते हैं. ऐसे में अगर इस सूची में से लोगों को टिकट मिलता है तो चुनाव प्रबंधन के लिए फिर से व्यवस्था करनी पड़ेगी. दूसरी समस्या यह है कि जिन लोगों को टिकट नहीं मिलेगा, वे टिकट मिलने वालों के खिलाफ अंदर ही अंदर काम कर सकते हैं जिससे अंततः पार्टी को ही नुकसान होगा.

4

संसदीय बोर्ड की बैठक में भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली भी खासे नाराज थे. बताया जा रहा है कि उनकी नाराजगी की असली वजह उम्मीदवारों की सूची में गौतम गंभीर का नाम नहीं होना है.

5

संसदीय बोर्ड में सूची को लेकर नाराजगी इतनी बढ़ गई कि प्रदेश इकाई को फिर से नई सूची भेजने को कहा गया है. बैठक में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को अधिकृत किया गया कि नई सूची आने के बाद अंतिम निर्णय वे अपने स्तर पर लें.

  • नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021

    किरण बेदी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    जब किरण बेदी पुडुचेरी में कांग्रेस की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई थीं तो उन्हें हटाया क्यों गया?

    अभय शर्मा | 19 फरवरी 2021

    एलन मस्क टेस्ला

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    जिस बिटकॉइन को प्रतिबंधित करने की मांग हो रही है, उस पर टेस्ला ने दांव क्यों लगाया है?

    ब्यूरो | 18 फरवरी 2021