गूगल लोगो

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

24 जनवरी को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

पंडित भीमसेन जोशी | शरावती पन बिजली परियोजना | भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव | चीन में गूगल | विंस्टन चर्चिल

ब्यूरो | 24 जनवरी 2019 | फोटो: जीएनआई

1

24 जनवरी, 2011 को भारत रत्न पंडित भीमसेन जोशी कानिधन हो गया था. ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा को’ अपनी आवाज देकर हर देशवासी को एक सूत्र में पिरोने का सुरीला संदेश देने वाले पंडित जोशी ने किराना घराने की गायकी को एक नया मुकाम दिया. ख्याल गायकी में महारत के साथ-साथ उन्होंने कई रागों के संयोजन से नए रागों की रचना भी की.

2

24 जनवरी, 1965 को भारत के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने मैसूर (अब कर्नाटक) के जोग में बनी शरावती पन बिजली परियोजना को राष्ट्र को समर्पित किया था. इसे उस समय अमेरिका की सहायता से बनी भारत की सबसे बड़ी बिजली परियोजना बताया गया था.

3

24 जनवरी, 1952 को बंबई (अब मुंबई) में पहले अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का आयोजन किया गया था. अब यह आयोजन हर साल गोवा में करवाया जाता है.

4

24 जनवरी, 2006 को गूगल ने चीन के लिए वहां के सेंसरशिप कानूनों के अनुसार नया सर्च इंजन गूगल डॉट सीएन बनाने का ऐलान किया. बाद में 2010 गूगल की सभी सेवाओं को चीनी सरकार ने प्रतिबंधित कर दिया.

5

24 जनवरी, 1965 को सर विंस्टन चर्चिल का 90 बरस की आयु में लंदन स्थित अपने घर में निधन हो गया था. दूसरे विश्वयुद्ध को इंग्लैंड के पक्ष में करने का श्रेय चर्चिल के दिया जाता है. इसके अलावा भी ब्रिटिश उपनिवेशवाद को लंबे समय तक कायम रखने में भी उनकी बड़ी भूमिका बताई जाती है.

  • नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021

    किरण बेदी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    जब किरण बेदी पुडुचेरी में कांग्रेस की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई थीं तो उन्हें हटाया क्यों गया?

    अभय शर्मा | 19 फरवरी 2021

    एलन मस्क टेस्ला

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    जिस बिटकॉइन को प्रतिबंधित करने की मांग हो रही है, उस पर टेस्ला ने दांव क्यों लगाया है?

    ब्यूरो | 18 फरवरी 2021