अमित शाह, भाजपा

विचार-रिपोर्ट | राजनीति

क्या अमित शाह 2024 में भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बन सकते हैं?

एक अनुभवी प्रचारक की मानें तो संघ यह मानता है कि नरेंद्र मोदी के बाद अगला भाजपा नेतृत्व उत्तर प्रदेश या मध्य प्रदेश से आना चाहिए

ब्यूरो | 03 अप्रैल 2019 | फोटो: फेसबुक/अमित शाह

1

गांधीनगर में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने जबर्दस्त शक्ति प्रदर्शन किया. उनके नामांकन के मौके पर राजनाथ सिंह और अरुण जेटली के अलावा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी मौजूद थे. जानकारों का कहना है कि अमित शाह ने 2019 के बाद की सियासत को ध्यान में रखते हुए ऐसा किया. दिल्ली में भाजपा के नेताओं का भी मानना है कि लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा में अमित शाह की भूमिका बदलने वाली है.

2

भाजपा के सूत्रों के मुताबिक 2019 में अगर नरेंद्र मोदी चुनाव जीते तो वे प्रधानमंत्री बनेंगे और अमित शाह देश के गृह मंत्री बन सकते है. और अगर मोदी चुनाव हारे तो अमित शाह 2024 की तैयारी करेंगे. इस बात को और गहराई से समझने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हालिया साक्षात्कार को देखा जा सकता है. इसमें उनका कहना था कि 2019 में तो कोई जगह नहीं है लेकिन 2024 में कोई नया चेहरा आ सकता है.

3

इसी तरह अमित शाह जब गांधीनगर की सड़कों पर रोड शो कर रहे थे तो उन्होंने अपने हर इंटरव्यू में यह जरूर कहा कि वे जनता के नेता हैं, इसलिए जनता के बीच आए हैं. पार्टी के सूत्र बताते हैं कि अमित शाह पर चुनाव लड़ने का दवाब था ही नहीं, वे राज्यसभा के सदस्य हैं और उनका राज्यसभा का टर्म भी अभी काफी बचा है. लेकिन लेकिन फिर भी अगर वे जनता के बीच जा रहे हैं तो ये वेवजह नहीं है.

4

अगर एक अनुभवी प्रचारक की मानें तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यह मानता है कि नरेंद्र मोदी के बाद अगला भाजपा नेतृत्व उत्तर प्रदेश या मध्य प्रदेश से आना चाहिए. संघ ने विकल्प के तौर पर दो नेताओं को ढूंढ भी लिया है, लेकिन ये दोनों नेता खुद ही इसके लिए तैयार नहीं दिख रहे हैं. इनमें से पहले नेता हैं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जो भाजपा के संसदीय बोर्ड के सदस्य होने के साथ-साथ पिछड़ी जाति से भी आते हैं.

5

संघ के सामने दूसरे विकल्प उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं. उनकी कट्टर हिंदूवादी नेता की छवि है. लेकिन शिवराज के साथ समस्या ये है कि वे अपने हर इंटरव्यू में ये कहते हैं कि वे पार्टी के वफादार हैं और अध्यक्ष जी जो कहेंगे वही करेंगे. और योगी आदित्यनाथ भी पक्के अमित शाह भक्त हैं. ऐसे में भाजपा का अगला नेता बनने की होड़ में फिलहाल अमित शाह ही आगे दिखते हैं.

  • निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 4 घंटे पहले

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 14 घंटे पहले

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020

    सौरव गांगुली

    विचार-रिपोर्ट | क्रिकेट

    जिन ऑनलाइन गेम्स को गांगुली, धोनी और कोहली बढ़ावा दे रहे हैं उन्हें बैन क्यों किया जा रहा है?

    अभय शर्मा | 25 नवंबर 2020