थेरेसा मे

विचार-रिपोर्ट | अख़बार

जलियांवाला बाग कांड पर टेरेसा मे के अफसोस सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

द ट्रिब्यून | द हिंदू | अमर उजाला | द टाइम्स ऑफ इंडिया | नवभारत टाइम्स

ब्यूरो | 11 अप्रैल 2019 | फोटो: यूट्यूब

1

​जलियांवाला बाग हत्याकांड पर टेरेसा मे ने अफसोस जताया

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने ​जलियांवाला बाग हत्याकांड ( 13 अप्रैल,1919) को लेकर अफसोस जताया है. द ट्रिब्यून के मुताबिक बुधवार को ब्रिटेन की संसद में उन्होंने कहा, ‘उस दौरान जो कुछ भी हुआ और उसकी वजह से लोगों को जो पीड़ा पहुंची, उसका हमें बेहद अफसोस है.’ टेरेसा मे ने उस नरसंहार को भारत-ब्रिटेन के इतिहास में शर्मनाक दाग भी बताया. हालांकि, उन्होंने उस घटना को लेकर माफी नहीं मांगी. इससे पहले साल 2013 में भारत दौरे पर आए ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने भी उस हत्याकांड को इतिहास की ‘शर्मनाक घटना’ बताया था.

2

तेलंगाना : 10 महिला मजदूर जिंदा दफन

तेलंगाना के नारायणपेट में एक हादसे में 10 महिला मजदूर जिंदा दफन हो गईं. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक ये महिलाएं भूमि विकास कार्यक्रम के तहत काम कर रही थीं. बताया जाता है कि जब वे काम करने के बाद आराम कर रही थीं, उसी वक्त उन पर मिट्टी का ढेर और बोल्डर गिर गया. इसमें वे सभी दफन हो गईं. इस हादसे के वक्त 30 महिला मजदूर घटनास्थल पर मौजूद थीं. पुलिस ने बताया है कि इस मामले की जांच की जा रही है. वहीं, मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

3

जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर लोगों की आवाजाही रोकने की खबर अफवाह : गृह मंत्रालय

गृह मंत्रालय ने जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर लोगों की आवाजाही रोकने को अफवाह बताया है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक बुधवार को मंत्रालय ने दावा किया कि सड़क को एक हफ्ते के कुल घंटों के केवल 15 फीसदी वक्त के लिए बंद किया गया था. इससे पहले जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट ने इस संबंध में गृह मंत्रालय को नोटिस जारी किया है. इस नोटिस का जवाब देने के लिए उसे 19 अप्रैल तक का वक्त दिया गया है. वहीं, राज्य की प्रमुख पार्टियों- नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने इस आदेश के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन जारी रखा हुआ है.

4

900 से अधिक कलाकारों ने नरेंद्र मोदी का समर्थन करने की अपील की

देश के 900 से अधिक कलाकारों ने मतदाताओं से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन करने की अपील की है. इनमें पंडित जसराज, विवेक ओबेरॉय और रीता गांगुली शामिल हैं. द टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक इन कलाकारों ने एक बयान जारी कर कहा है, ‘यह दृढ़ विश्वास है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को बनाए रखना वक्त की जरूरत है. जब आतंकवाद जैसी चुनौतियां हमारे सामने हैं, तो हमें मजबूत सरकार की जरूरत है, न कि एक मजबूर सरकार’ की.’ इससे पहले 100 से अधिक फिल्मकारों, 200 से अधिक वैज्ञानिकों और 600 से थियेटर कलाकारों ने देश के लोगों से नफरत की राजनीति के खिलाफ वोट करने की अपील की थी.

5

पाकिस्तान सरकार ने मंदिरों की मरम्मत कर उन्हें हिंदुओं को सौंपने का फैसला किया

पाकिस्तान की सरकार ने हिंदू मंदिरों की मरम्मत करने और उन्हें दोबारा खोलने का फैसला किया है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक पाकिस्तान के हिंदू अल्पसंख्यक लंबे समय से इसकी मांग कर रहे थे. बताया जाता है कि सरकार करीब 400 मंदिरों की मरम्मत कर उन्हें हिंदू समुदाय कौ सौंपने की तैयारी में है. यह प्रक्रिया सियालकोट और पेशावर के दो ऐतिहासिक मंदिरों से शुरू की जाएगी. इससे पहले एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ था कि विभाजन (1947) के बाद ये मंदिर रेस्त्रां, स्कूल या फिर सरकारी दफ्तर में तब्दील हो गए हैं.

  • निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 3 घंटे पहले

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 14 घंटे पहले

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020

    सौरव गांगुली

    विचार-रिपोर्ट | क्रिकेट

    जिन ऑनलाइन गेम्स को गांगुली, धोनी और कोहली बढ़ावा दे रहे हैं उन्हें बैन क्यों किया जा रहा है?

    अभय शर्मा | 25 नवंबर 2020