मीरवाइज उमर फारुक

विचार-रिपोर्ट | अख़बार

कश्मीरी अगगाववादियों की सुरक्षा वापस लिए जाने सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

द ट्रिब्यून | नवभारत टाइम्स | अमर उजाला | हिंदुस्तान | द हिंदू

ब्यूरो | 18 फरवरी 2019 | फोटो: यूट्यूब

1

जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस ली गई

जम्मू-कश्मीर में पुलवामा आतंकी हमले के बाद मीरवाइज उमर फारुक सहित छह अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस लेने का फैसला किया गया है. द ट्रिब्यून के मुताबिक जिन नेताओं की सुरक्षा वापस ली गई उनमें अब्दुल गनी भट, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी, फजल हक कुरैशी और शबीर शाह भी शामिल हैं. वहीं, अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का नाम इस सूची में नहीं है. इससे पहले राज्य सरकार ने कुछ आतंकवादी समूहों से उनके जीवन को खतरा होने के अंदेशे को देखते हुए केंद्र के साथ सलाह-मशविरा कर उन्हें खास सुरक्षा दी थी.

2

रफाल की मिसाइल बनाने वाली यूरोपीय कंपनी के भारत प्रमुख को ईडी ने समन भेजा

लड़ाकू विमान रफाल की मिसाइल बनाने वाली दिग्गज कंपनी एमबीडीए भारतीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के घेरे में आ गई है. नवभारत टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक ईडी ने कॉरपोरेट लॉबीइस्ट दीपक तलवार से कंपनी के रिश्ते के संबंध में एमबीडीए के कंट्री हेड लोइस पीडीवाचे को जांच में शामिल होने के लिए समन जारी किया है. अखबार ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा है कि दीपक तलवार की एमबीडीए में हिस्सेदारी है. बताया जाता है कि लोइस सोमवार को ईडी के दिल्ली स्थित दफ्तर में हाजिर हो सकते हैं.

3

बजरंग को ओलंपिक में स्वर्ण पदक जितवाने के लिए योगेश्वर दत्त का अंतरराष्ट्रीय कुश्ती से संन्यास

ओलंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त ने अंतरराष्ट्रीय कुश्ती से संन्यास लेने का एलान किया है. अमर उजाला के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि वे पहलवान बजरंग पुनिया को साल 2020 के टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जिताने के लिए वे अंतरराष्ट्रीय कुश्ती छोड़ रहे हैं. योगेश्वर दत्त का कहना था, ‘मैं चाहता हूं कि बजरंग मेरी कमी पूरी करे और उसने यह बहुत अच्छे तरीके से की भी है.’ योगेश्वर दत्त ने 2012 के लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक हासिल किया था. इसके अलावा उन्होंने 2010 के दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों और 2014 के एशियाई खेलों स्वर्ण पदक हासिल किया था.

4

किडनी और लिवर के काले कारोबार में दिल्ली के दो बड़े अस्पतालों के नाम

दिल्ली के बड़े अस्पतालों में किडनी और लिवर के काले कारोबार का खुलासा हुआ है. हिन्दुस्तान के पहले पन्ने पर प्रकाशित खबर के मुताबिक उत्तर प्रदेश पुलिस ने इसमें शामिल गिरोह के सरगना टी राजकुमार को कोलकाता से गिरफ्तार किया है. साथ ही, देश के अलग-अलग शहरों से अन्य पांच को भी गिरफ्तार किया गया है. बताया जाता है कि इनसे पूछताछ में दिल्ली के दो बड़े अस्पतालों का नाम सामने आया है. इस गिरोह में शामिल अपराधी इन अस्पतालों से 25 से 30 लाख रुपये में किडनी और 70 से 80 लाख रुपये में लिवर का सौदा करते थे. इसके अलावा यह गिरोह किडनी और लिवर देने वाले का रिश्तेदार बनकर यह सारा कारोबार संचालित कर रहा था.

5

पुलवामा हमले के बाद देश के अलग-अलग कोने से 100 छात्र जम्मू-कश्मीर वापस लौटे

पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश भर में पढ़ाई कर रहे जम्मू-कश्मीर के छात्रों को अराजकता फैलाने की कोशिश कर रहे लोगों द्वारा धमकियां मिल रही हैं. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक इसकी वजह से देश के अलग-अलग शहरों से करीब 100 छात्र राज्य वापस लौट चुके हैं. इनमें सबसे अधिक उत्तराखंड के देहरादून में पढ़ाई करने वाले छात्र शामिल हैं. वहीं, एक शीर्ष अधिकारी ने अखबार को बताया कि बीते दो दिनों में जम्मू-कश्मीर स्थित पुलिस कंट्रोल रुम को मदद के लिए 50 कॉल आ चुकी हैं. वहीं, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के पास भी इतनी ही कॉल आई हैं. इनमें भी सबसे अधिक कॉल देहरादून और पंजाब के अंबाला शहर से संबंधित हैं. इसकी जानकारी जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने गृह मंत्रालय को दे दी है.

  • निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 6 घंटे पहले

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 16 घंटे पहले

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020

    सौरव गांगुली

    विचार-रिपोर्ट | क्रिकेट

    जिन ऑनलाइन गेम्स को गांगुली, धोनी और कोहली बढ़ावा दे रहे हैं उन्हें बैन क्यों किया जा रहा है?

    अभय शर्मा | 25 नवंबर 2020