नरेंद्र मोदी

विचार-रिपोर्ट | अख़बार

बालाकोट हमले को भुनाने की मोदी सरकार की तैयारी सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

अमर उजाला | द टाइम्स ऑफ इंडिया | नवभारत टाइम्स | हिंदुस्तान | द हिंदू

ब्यूरो | 07 मार्च 2019 | फोटो: पीआईबी

1

1971 के भारत-पाक युद्ध के वीर जवानों के प्रशस्ति पत्र नष्ट

साल 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में भारतीय सेना की 10 पैराशूट बटालियन (स्पेशल फोर्स) को मिले युद्ध वीरता पुरस्कार के प्रशंसा पत्र नष्ट कर दिए गए हैं. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक सेना की इस यूनिट ने एक आरटीआई के जवाब में इसकी जानकारी दी है. वहीं, आवेदक का कहना है कि प्रशस्ति पत्र की जानकारी के बिना खाली सूची का कोई अर्थ नहीं है. इसमें जवानों के शौर्य प्रदर्शन की कहानी लिखी होती है. बताया जाता है कि आवेदक ने इस बारे में केंद्रीय सूचना आयोग में आवेदन दायर किया था. इसके बाद आयोग ने संबंधित केंद्रीय जन सूचना अधिकारी के दो सुनवाइयों में मौजूद न होने पर नाराजगी जाहिर की. साथ ही, उसने आवेदक को उन रक्षा सेवा नियमों की एक प्रति भी उपलब्ध करवाने को कहा है जिसके तहत रिकॉर्ड नष्ट किए जाते हैं.

2

दिल्ली विश्वविद्यालय के पीजी छात्र भूख हड़ताल पर बैठे

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में गणित विषय से पोस्ट ग्रेजुएट (पीजी) की पढ़ाई कर रहे छात्रों ने परीक्षा के नतीजे को लेकर भूख हड़ताल शुरू की है. द टाइम्स ऑफ इंडिया   की रिपोर्ट के मुताबिक इन छात्रों की शिकायत है कि 40 में से 35 छात्रों को सैमेस्टर एक्जाम में फेल कर दिया गया. साथ ही, वाइस-चांसलर (वीसी) उनकी इस शिकायत को नहीं सुन रहे हैं. छात्रों का यह भी आरोप है कि उत्तर कॉपियों की दोबारा जांच किए बिना ही छात्रों के दो-तीन मार्क्स बढ़ाने की बात कही गई है. उन्होंने इस मामले की स्वतंत्र न्यायिक जांच के साथ इसके लिए दोषी व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. वहीं, डीयू के रजिस्ट्रार टीके दास ने कहा है कि प्रॉक्टर और स्टूडेंट वेलफेयर के डीन को छात्रों से मिलने को कहा गया है.

3

बालाकोट एयर स्ट्राइक को सरकार की बड़ी उपलब्धि के तौर पर पेश करने की तैयारी

भाजपा आम चुनाव तक बालाकोट एयर स्ट्राइक को अपनी बड़ी उपलब्धि के तौर पर पेश करने की तैयारी में है. नवभारत टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि बुधवार को एक बैठक में तय किया गया कि पार्टी प्रवक्ता जब भी किसी चैनल की बहस में जाएं या प्रेस कॉन्फ्रेंस करें तो इसे सरकार की बड़ी उपलब्धि बताया जाए. इस बैठक में पार्टी के मुख्य रणनीतिकार अरुण जेटली और रविशंकर प्रसाद मौजूद थे. वहीं, इसमें शामिल प्रवक्ताओं और टीवी बहस में शामिल होने वाले लोगों से कहा गया कि वे रफाल के मुद्दे पर पार्टी की आधिकारिक लाइन को ही मानें.

4

दिल्ली : अतिथि शिक्षकों की सेवानिवृति आयु 60 साल करने को मंजूरी

दिल्ली में अतिथि शिक्षकों को लेकर केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला किया है. हिन्दुस्तान  के पहले पन्ने पर प्रकाशित खबर के मुताबिक बुधवार को कैबिनेट की बैठक में इनका सेवाकाल भी नियमित शिक्षकों की तरह 60 साल तक करने की नीति को मंजूरी दी गई. इस फैसले को लेकर उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘मैं इस नीति को लेकर एलजी (उप-राज्यपाल) के पास जा रहा हूं. राजधानी में 28 फरवरी से अतिथि शिक्षकों की तैनाती अमान्य हो गई है. इस वजह से परीक्षा और नए सत्र में बड़ी दिक्कत होगी.’ उन्होंने आगे कहा, ‘हरियाणा में अतिथि शिक्षक 58 साल की उम्र तक काम करते हैं. जब वहां हो सकता है तो यहां क्यों नहीं.’ फिलहाल, दिल्ली में 22,000 अतिथि शिक्षक हैं.

5

कश्मीरी छात्रों की अपने-अपने शैक्षणिक संस्थानों में वापसी

पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश के अलग-अलग इलाकों से जम्मू-कश्मीर जा चुके छात्र अब वापस अपने-अपने शैक्षणिक संस्थानों में लौटने लगे हैं. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक इसकी जानकारी जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने दी है. इस बारे में एक अधिकारी ने बताया, ‘स्थिति सामान्य है और छात्र नियमित रूप से क्लास जा रहे हैं. कॉलेजों ने कश्मीरी छात्रों को सुरक्षा मुहैया कराई है. इसके अलावा वे हमें वापस लौटने वाले छात्रों की संख्या भी बता रहे हैं.’ वहीं, इस बारे में संपर्क अधिकारियों द्वारा एक रिपोर्ट भी तैयार की गई है. इसमें कहा गया है कि कश्मीरी छात्रों के खिलाफ हिंसा और उत्पीड़न के मामले वहीं सामने आए हैं, जहां छात्रों द्वारा विवादित सामाग्री सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई थी.

  • निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 5 घंटे पहले

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 15 घंटे पहले

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020

    सौरव गांगुली

    विचार-रिपोर्ट | क्रिकेट

    जिन ऑनलाइन गेम्स को गांगुली, धोनी और कोहली बढ़ावा दे रहे हैं उन्हें बैन क्यों किया जा रहा है?

    अभय शर्मा | 25 नवंबर 2020