अमित शाह

विचार-रिपोर्ट | अख़बार

आखिरी वक्त पर अमित शाह की रैली रद्द होने सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

द टाइम्स ऑफ इंडिया | अमर उजाला | नवभारत टाइम्स | हिंदुस्तान टाइम्स | द हिंदू

ब्यूरो | 08 अप्रैल 2019 | फोटो: यूट्यूब

1

रॉबर्ट वाड्रा ने कांग्रेस के लिए देशभर में प्रचार करने की बात कही

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति और कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा ने लोकसभा चुनाव 2019 में पार्टी के लिए देशभर में प्रचार करने की बात कही है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने यह भी कहा है कि वे रायबरेली में सोनिया गांधी और अमेठी में राहुल गांधी के नामांकन पर्चा भरने के वक्त उनके साथ मौजूद रहेंगे. बताया जाता है कि 10 अप्रैल को राहुल गांधी और 11 अप्रैल को सोनिया गांधी अपना-अपना नामांकन पर्चा दाखिल करेंगे. दोनों संसदीय क्षेत्रों में पांचवें चरण के तहत छह मई को चुनाव होना है. फिलहाल रॉबर्ट वाड्रा मनी लॉन्डरिंग से जुड़े आरोपों का सामना कर रहे हैं.

2

अवैध खनन न रोकने पर एनजीटी ने आंध्र प्रदेश सरकार पर 100 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) ने राज्य में अवैध खनन रोकने में नाकाम रहने पर आंध्र प्रदेश सरकार पर 100 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. इसे चुकाने के लिए एनजीटी ने सरकार को एक महीने का वक्त दिया गया है. अमर उजाला की खबर के मुताबिक प्राधिकरण के अध्यक्ष न्यायाधीश एके गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने राज्य के मुख्य सचिव को अवैध खनन पर रोक लगाने का भी आदेश दिया है. साथ ही, पीठ ने कहा, ‘सरकार का यह कर्तव्य है कि वह प्राकृतिक संसाधनों को संपूर्ण सुरक्षा मुहैया कराए. सरकार अनियमित खनन की वजह से पर्यावरण पर पड़ने वाले असर को यह कहकर उचित नहीं ठहरा सकती कि यह खनन किसी कल्याणकारी कदम के तहत हो रहा है. यदि खनन के दौरान नुकसान होता है तो इसकी भरपाई ऐसे उल्लंघनकर्ताओं से की जाए.’

3

जम्मू-श्रीनगर-बारामूला नेशनल हाईवे पर केंद्र के आदेश को पीडीपी अदालत में चुनौती देगी

जम्मू-श्रीनगर-बारामूला नेशनल हाईवे पर हफ्ते में दो दिन आम नागरिकों के लिए यातायात बंद करने का फैसला किया गया है. इन दो दिनों में सुरक्षा बलों की सुरक्षित आवाजाही के लिए यह कदम उठाया गया है. नवभारत टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक जम्मू-कश्मीर की प्रमुख पार्टियों- पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने इसका विरोध किया है. पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा है, ‘आप (केंद्र सरकार) इस तरह कश्मीरियों का दमन नहीं कर सकते हैं. यह हमारा राज्य है. ये हमारी सड़कें हैं. जब भी हम चाहें, हमें उनका इस्तेमाल करने का अधिकार है.’ उन्होंने लोगों से इस आदेश की अवहेलना करने की अपील की. साथ ही, उन्होंने अदालत का दरवाजा खटखटाने की बात भी कही है. वहीं, नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने भी इसे गलत आदेश बताया है.

4

अधिकारियों के तबादले को लेकर चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी के आरोपों को खारिज किया

चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अधिकारियों के तबादलों से जुड़े आरोपों को खारिज कर दिया है. आयोग पर आरोप लगाए गए थे कि भाजपा के इशारे पर राज्य के चार पुलिस अधिकारियों का तबादला किया गया है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक आयोग ने कहा है कि तबादले का फैसला अधिकारियों के अलावा विशेष पुलिस पर्यवेक्षक की प्रतिक्रियाओं पर आधारित था और यह उनका अधिकार है. चुनाव आयोग ने इसके लिए जनप्रतिनिधित्व कानून का भी हवाला दिया. उसने कहा कि इस कानून की धारा 28-ए उसे अधिकारियों को स्थानांतरित करने और नियुक्त करने का अधिकार देती है. इसके अलावा आयोग ने यह भी कहा कि वह संविधान में दिए गए निर्देशों का पालने करने के लिए प्रतिबद्ध है.

5

नक्सल प्रभावित इलाकों में अमित शाह की जनसभा आखिरी वक्त में रद्द

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने महाराष्ट्र के नक्सल प्रभावित जिलों गढ़चिरौली और चंद्रपुर में रविवार को आयोजित होने वाली जनसभा को अंतिम वक्त पर रद्द कर दिया. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा ने इसके लिए तकनीकी वजह बताई है. हालांकि, जनसभा स्थल पर तैनात नक्सल विरोधी बल की मानें तो इसका कारण सुरक्षा संबंधी चिंताएं थीं. बताया जाता है कि गर्मी के बाद भी करीब 5,000 लोग गढ़चिरौली जनसभा के लिए इकट्ठे हुए थे.

  • सैमसंग गैलेक्सी एस20

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    सैमसंग गैलेक्सी एस20: दुनिया की सबसे अच्छी स्क्रीन वाले मोबाइल फोन्स में से एक

    ब्यूरो | 27 नवंबर 2020

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 26 नवंबर 2020

    निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 26 नवंबर 2020

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020