ज़ोहरा सहगल

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

‘भारत की इजाडोरा डंकन’ ज़ोहरा सहगल के जन्म सहित 27 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

ज़ोहरा सहगल | मुगल सल्तनत | कलकत्ता विश्वविद्यालय | द्वितीय विश्वयुद्ध | सियरा लिओन

ब्यूरो | 27 अप्रैल 2019

1

27 अप्रैल, 1912 को सशक्त हावभाव, चेहरे पर बच्चों जैसी मुस्कुराहट, जिंदगी से भरपूर, रंगमंच और फिल्मों की महान अदाकारा जोहरा सहगल का जन्म हुआ था. बतौर डांसर करियर की शुरूआत करने वाली जोहरा सहगल ने दुनिया भर के देशों में परफॉर्म किया. बाद में वे दिल से, चीनी कम, सांवरिया जैसी कई चर्चित बॉलीवुड फिल्मों में भी नज़र आईं. उन्हें पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण जैसे नागरिक सम्मानों से सम्मानित किया गया था.

2

27 अप्रैल को मुगल शासकों से जुड़ी तीन बड़ी घटनाएं इतिहास का हिस्सा बनीं थीं. 1526 में 27 अप्रैल के दिन ही बाबर ने दिल्ली का तख्तो-ताज संभाला था. वहीं, 1606 में बादशाह जहांगीर ने आज ही के दिन बगावत पर उतरे अपने पुत्र खुसरो को गिरफ्तार किया था. इसके अलावा, 1748 में एक बार फिर वह 27 अप्रैल का ही दिन था जब मुगल बादशाह मोहम्मद शाह का निधन हुआ था.

3

27 अप्रैल, 1848 को कलकत्ता विश्वविद्यालय ने महिलाओं को विश्वविद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में पात्रता के लिए पहली मंजूरी दी. इसके बाद सन 1849 में बेथून गर्ल्स स्कूल की स्थापना की गई जो आगे चलकर महिलाओं का पहला कॉलेज भी बना.

4

27 अप्रैल, 1945 को दूसरे विश्व युद्ध में नाजी नेता हिटलर की सेनाओं के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और सोवियत संघ की सेनाओं ने मिलकर मोर्चा बांधा. जर्मनी में एल्बे नदी के किनारे अमेरिका और सोवियत संघ की सेनाओं के बीच पहली मुलाकात हुई.

5

27 अप्रैल, 1961 को सियरा लिओन की आजाद हुआ था. यह पश्चिम अफ्रीकी देश तकरीबन डेढ़ सौ साल तक ब्रिटेन के अधीन रहा. इसी दिन आधी रात को हरी, सफेद और नीली पट्टियों वाला देश का ध्वज फहराया गया और आज़ादी की घोषणा की गई.

  • सैमसंग गैलेक्सी एस20

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    सैमसंग गैलेक्सी एस20: दुनिया की सबसे अच्छी स्क्रीन वाले मोबाइल फोन्स में से एक

    ब्यूरो | 24 घंटे पहले

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 26 नवंबर 2020

    निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 26 नवंबर 2020

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020