अंटार्कटिका आइसबर्ग

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

जलवायु बचाने के लिए पेरिस संधि पर हस्ताक्षर होने सहित 22 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

पेरिस संधि | विश्व पृथ्वी दिवस | सुभाष चंद्र बोस | आर डी कटारी | जर्मनी

ब्यूरो | 22 अप्रैल 2019 | फोटो: पिक्साबे

1

22 अप्रैल, 2016 को 170 से ज्यादा देशों ने जलवायु परिवर्तन पर पेरिस संधि पर हस्ताक्षर किए. इसे नवंबर 2016 में लागू किया गया. इसका मुख्य उद्देश्य अपने-अपनेे देश में ग्रीन हाउस गैसों के उत्पादन को नियंत्रित और कम करना था.

2

22 अप्रैल, 1970 को आज के दिन ‘पृथ्वी दिवस’ मनाने की शुरुआत हुई थी. तब इस परंपरा को 192 देशों ने अपनाया था. आज लगभग पूरी दुनिया में प्रति वर्ष पृथ्वी दिवस के मौके पर धरती का पर्यावरण बनाए रखने और हर तरह के जीव-जंतुओं को उनके हिस्से का स्थान और अधिकार देने का संकल्प लिया जाता है.

3

22 अप्रैल, 1921 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने देश सेवा के लिए भारतीय सिविल सेवा की नौकरी से इस्तीफा दिया था. 1920 में उन्होंने इंग्लैंड जाकर यह परीक्षा पास की थी लेकिन बाद में भारत के स्वतंत्रता संघर्ष में शामिल होने के लिए इसे छोड़ दिया. नौकरी छोड़ने के तुरंत बाद ही वे पहली बार जेल गए. अपने क्रांतिकार रुख के चलते 1921 से 1941 के बीच वे ग्यारह बार देश की अलग-अलग जेलों में भेजे गए.

4

22 अप्रैल 1958 को एडमिरल आरडी कटारी भारतीय नौसेना के पहले भारतीय प्रमुख बनाए गए. वे भारतीय नौ सेना के तीसरे प्रमुख थे. उनके नेतृत्व में कराए गए प्रमुख ऑपरेशन्स में गोआ को पुर्तगालियों से आजाद कराने वाले ऑपरेशन भी शामिल था.

5

22 अप्रैल, 1915 को प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मन सेना ने पहली बार जहरीली गैस का इस्तेमाल किया था.  जर्मन फौज ने फ्रेंच कॉलोनियल डिवीजन ईप्र और बेल्जियम पर करीब 150 टन लीथल क्लोरीन गैस के गोले दागे थे. इसमें करीब 1000 लोगों की मौत हो गई थी.

  • ममता बनर्जी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    पश्चिम बंगाल में चुनाव कराने के तरीके को लेकर चुनाव आयोग की आलोचना करना कितना जायज़ है?

    ब्यूरो | 05 मार्च 2021

    किसान आंदोलन

    विचार-रिपोर्ट | किसान

    क्या किसान आंदोलन कमजोर होता जा रहा है?

    ब्यूरो | 03 मार्च 2021

    नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021