महागुजरात आंदोलन-1960

विचार-रिपोर्ट | आज का कल

गुजरात और महाराष्ट्र के गठन सहित 01 मई को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

गुजरात-महाराष्ट्र | मजदूर दिवस | पोलियो | कोयला खनन | समलैंगिक विवाह

ब्यूरो | 01 मई 2019

1

01 मई, 1960 को महाराष्ट्र और गुजरात अलग-अलग राज्य बने थे. साल 1956 में गुजराती भाषियों ने एक अलग राज्य की मांग करते हुए महागुजरात आंदोलन किया था. इसके चलते बॉम्बे स्टेट के दो हिस्से कर मराठी भाषियों के लिए महाराष्ट्र और गुजराती बोलने वालों के लिए गुजरात राज्य का स्थापना की गई.

2

01 मई, 1877 को अमेरिका में मजदूरों ने काम के घंटे तय करने की मांग को लेकर आंदोलन शुरू किया था जो जल्दी ही दुनिया भर में फैल गया. नौ साल बाद एक मई, 1886 को पूरे अमेरिका के लाखों मजदूरों ने एक साथ हड़ताल शुरू की. इसमें 11,000 फैक्टरियों के कम से कम तीन लाख 80 हजार मजदूर शामिल हुए. वहीं से एक मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाने की शुरूआत हुई.

3

01 मई, 1956 को जोनास साल्क द्वारा विकसित पोलियो वैक्सीन जनता के लिए उपलब्ध कराई गई. इसी साल उन्हें मेडिकल साइंस के सबसे बड़े सम्मानों में से एक लास्कर अवॉर्ड दिया गया था. साल्क ने साल 1955 में पोलियो के पहले सफल टीके की खोज की थी. इसी के चलते दुनिया के कई देश अब पोलिया के खतरे से मुक्त हैं और भारत उनमें से एक है.

4

01 मई, 1972 को देश की कोयला खदानों का राष्ट्रीयकरण किया गया था. इसके पहले तक इन कोयला खदानों में से ज्यादातर में गलत तरीके से खनन किया जाता था. साथ ही मजदूरों के काम करने की परिस्थितियां भी खतरनाक थीं. इन्हीं सब को देखते हुए सरकार ने इसे अपने नियंत्रण में लेने का फैसला लिया था.

5

01 मई, 2009 को स्वीडन ने समलैंगिक विवाह को मंजूरी दी थी. इसके साथ ही कानून में बदलाव कर जेंडर न्यूट्रल मैरिज लॉ भी बनाया गया. स्वीडन समलैंगिक विवाह को कानूनन मंजूरी देने वाला दुनिया का सातवां देश है.

  • डॉक्टर

    विचार-रिपोर्ट | कोविड-19

    ऑक्सीजन और आईसीयू के बाद अगला महासंकट डॉक्टरों और नर्सों की कमी के रूप में सामने आ सकता है

    ब्यूरो | 05 मई 2021

    सीटी स्कैन

    ज्ञानकारी | स्वास्थ्य

    कोरोना संक्रमण होने पर सीटी स्कैन कब करवाना चाहिए?

    ब्यूरो | 04 मई 2021

    इंडिगो विमान

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    पैसे वाले भारतीय इतनी बड़ी संख्या में देश छोड़कर क्यों जा रहे हैं?

    ब्यूरो | 27 अप्रैल 2021

    कोरोना वायरस

    विचार-रिपोर्ट | स्वास्थ्य

    ट्रिपल म्यूटेशन वाला कोरोना वायरस अपने पिछले स्वरूपों से कितना ज्यादा खतरनाक है?

    ब्यूरो | 22 अप्रैल 2021