राजनाथ सिंह

समाचार | बुलेटिन

आज – 28 दिसंबर – के पांच प्रमुख समाचार

द एक्सीडेंटल प्राइममिनिस्टर | गगनयान अभियान को मंजूरी | जम्मू कश्मीर में चुनाव | मेघालय में फंसे मजदूरों का बचावकार्य | अमेरिका में शटडाउन

ब्यूरो | 28 दिसंबर 2018 | फोटो: पीआईबी

1

‘द एक्सीडेंटल प्राइममिनिस्टर’ पर राजनीति घमासान

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर का ट्रेलर आते ही इस पर सियासी घमासान छिड़ गया है. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल पर बनी इस फिल्म को कांग्रेस ने भाजपा का प्रोपेगेंडा बताया है. पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने शुक्रवार को कहा कि इसके पीछे का मकसद केंद्र सरकार की नाकामयाबियों से जनता का ध्यान हटाना है. कांग्रेस के ही एक और नेता पीएल पुनिया ने भी यही बात कही. उनका कहना था कि अब जब मोदी सरकार को जनता को जवाब देना है तो वो इस तरह के हथकंडे अपना रही है. उन्होंने सरकार को खेती से लेकर रोजगार तक सभी मोर्चों पर असफल भी बताया. शुक्रवार को ही ये खबर भी आई थी कि मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार इस फिल्म पर रोक लगाएगी. लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इसे खारिज कर दिया.
गुरुवार को भाजपा ने इस फिल्म के ट्रेलर को अपने ट्विटर हैंडल से साझा किया था. पार्टी ने इसे एक परिवार द्वारा देश को 10 साल तक बंधक बनाए जाने की कहानी बताया. इसके बाद ही विवाद शुरू हुआ. कइयों ने एक व्यावसायिक फिल्म को प्रमोट करने के लिए भाजपा पर सवाल उठाए. राष्ट्रीय जनता दल ने कहा कि द ऐक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर ही नहीं, रफाल और नोटबंदी पर भी फिल्में बनायी जानी चाहिए.

2

मानवयुक्त गगनयान अभियान को मोदी सरकार की मंजूरी

केंद्र सरकार ने गगनयान कार्यक्रम को मंजूरी दे दी है. शुक्रवार को कैबिनेट की बैठक में ये फैसला हुआ. इसके तहत भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो तीन सदस्यीय एक दल को सात दिन के लिए अंतरिक्ष में भेजेगा. इस मिशन पर 10 हजार करोड़ रु खर्च होने का अनुमान है. गगनयान का ऐलान इसी साल 15 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से दिये अपने भाषण में किया था. इसके तहत पहला मानवरहित यान दिसंबर 2020 तक भेजा जा सकता है. 2022 में यान के साथ भारतीय यात्री भी जाएंगे. अभी तक सिर्फ एक ही भारतीय यात्री अंतरिक्ष में गया है. 1984 में राकेश शर्मा तत्कालीन सोवियत संघ के एक यान में वहां गए थे.

3

राजनाथ सिंह: सरकार जम्मू कश्मीर में चुनाव के लिए तैयार

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि सरकार जम्मू-कश्मीर में चुनाव के लिए तैयार है. शुक्रवार को उन्होंने लोकसभा में कहा कि अब आगे का फैसला चुनाव आयोग को करना है. गृह मंत्री ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के फैसले को भी सही ठहराया. उन्होने कहा कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक के पास राष्ट्रपति शासन की सिफारिश के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था. राजनाथ सिंह ने विपक्षी दलों के इस आरोप को बेबुनियाद बताया कि भाजपा राज्य में क्षेत्रीय दलों के साथ मिलकर सरकार बनाने की तैयारी कर रही थी. उन्होंने कहा कि यदि पार्टी को ये करना होता तो वो राज्यपाल शासन के दौरान ही इसकी कोशिश कर सकती थी. जम्मू-कश्मीर में बीते जून में राज्यपाल शासन लगा था. इसके छह महीने पूरे होने के बाद हाल ही में राज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की थी.

4

मेघायल की कोयला खदान में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए कोशिशें तेज

मेघालय की एक कोयला खदान में फंसे 15 मजदूरों को निकालने की कोशिशें तेज कर दी गई हैं. ये सभी करीब दो हफ्ते पहले खदान में पानी भर जाने से फंस गए थे. शुक्रवार को एयरफोर्स का एक विमान पानी निकालने के लिए 20 शक्तिशाली पंप लेकर वहां पहुंचा. इसके साथ ही नौसेना के गोताखोरों को भी बचाव कार्य के लिए भेजा गया है. इससे पहले एनडीआरएफ की टीम खदान से पानी निकालने में नाकाम रही थी. राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने चार साल पहले मेघालय में कोयला खनन पर रोक लगा दी थी. लेकिन वहां अवैध तरीके से ये अब भी जारी है.

5

अमेरिका में शटडाउन नए साल में भी जारी रहने के आसार

मेक्सिको की सीमा पर दीवार बनाने को लेकर अमेरिका में जारी शटडाउन जल्द खत्म होने के आसार नहीं दिख रहे. संसद इस दीवार के लिए जरूरी धन को फंडिंग बिल में शामिल नहीं कर रही है और डोनाल्ड ट्रप बिना इसके बिल पर दस्तखत नहीं कर रहे हैं. इसके चलते कई विभागों को मिलने वाला बजट अटक गया है. इससे कई कर्मचारियों की एक बड़ी संख्या को क्रिसमस औऱ नये साल के मौके पर भी बगैर वेतन के काम करना पड़ रहा है. इसके चलते लगभग चार लाख कर्मचारियों को अस्थायी रूप से छुट्​टी पर भी भेजा गया है. अमेरिका में इस साल तीसरी बार ये स्थिति बनी है, जिसके चलते सरकार का कामकाज ठप हो गया है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अवैध शरणार्थियों को रोकने के लिए मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाना चाहते हैं. इसके लिए उन्होंने करीब पैंतीस हजार करोड़ रुपयों का बजट मांगा है. लेकिन विपक्षी डेमोक्रेट इसका विरोध कर रहे हैं.

  • मुलायम सिंह मायावती

    समाचार | बुलेटिन

    24 साल बाद मायावती और मुलायम सिंह यादव के एक मंच पर आने सहित आज के पांच बड़े समाचार

    ब्यूरो | 11 घंटे पहले

    तिरंगा, भारतीय मुद्रा

    विचार | राजनीति

    क्या इलेक्टोरल बॉन्ड्स ने राजनीतिक चंदे की व्यवस्था को और भी कम पारदर्शी कर दिया है?

    ब्यूरो | 13 घंटे पहले

    हेली कॉमेट

    समाचार | आज का कल

    हेली कॉमेट को पहली बार देखे जाने सहित 19 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

    ब्यूरो | 16 घंटे पहले