प्रियंका गांधी

समाचार | बुलेटिन

सोनभद्र जा रहीं प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

प्रियंका गांधी | कर्नाटक संकट | बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला | मायावती | अफगानिस्तान

ब्यूरो | 19 जुलाई 2019 | फोटो : कांग्रेस/फेसबुक

1

सोनभद्र में हुए नरसंहार के पीड़ितों से मिलने जा रहीं प्रियंका गांधी को हिरासत में लिया गया

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में हुए नरसंहार के पीड़ितों से मिलने जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को आज मिर्जापुर में हिरासत में ले लिया गया. इससे पहले सोनभद्र में धारा 144 लगे होने के चलते प्रशासन ने उन्हें रोकने की कोशिश की थी. लेकिन इसके विरोध में प्रियंका गांधी और कई कांग्रेसी नेता धरने पर बैठ गए. उन्होंने कहा कि वे किसी भी हालत में पीड़ितों से मिले बिना वापस नहीं जाएंगी. योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था की हालत खराब हो गई है. बुधवार को सोनभद्र जिले में दो पक्षों के बीच जमीन का विवाद खूनी संघर्ष में तब्दील हो गया था. इसमें तीन महिलाओं सहित 10 लोगों की मौत हो गई थी और 18 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

2

कर्नाटक : राज्यपाल ने कुमारस्वामी सरकार को बहुमत साबित करने के लिए नई समयसीमा दी, कांग्रेस फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंची

कर्नाटक में असाधारण राजनीतिक हालात पैदा हो गए हैं. राज्यपाल वजूभाई वाला ने एचडी कुमारस्वामी को आज दोपहर डेढ़ बजे से पहले विश्वासमत पर वोटिंग के लिए कहा था. लेकिन ये समयसीमा इसके बिना ही गुजर गई. इसके बाद राज्यपाल ने एक बार फिर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार को बहुमत साबित करने के लिए आज छह बजे तक का वक्‍त दिया है. उधर, कांग्रेस दोबारा सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है. पार्टी की कर्नाटक इकाई अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव ने एक याचिका दायर कर शीर्ष अदालत से 17 जुलाई का आदेश साफ करने के लिए कहा है. कांग्रेस का कहना है कि इस फैसले से विधायकों के लिए पार्टी व्हिप जारी करने के उसके संवैधानिक अधिकार पर चोट हो रही है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि इस्तीफा दे चुके सत्ताधारी गठबंधन के 15 बागी विधायक को विधानसभा की कार्रवाई में हिस्सा लेने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता. उधर, आज विधानसभा में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी ने भाजपा पर तीखा हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि उनके विधायकों को लुभाने के लिए 40 से 50 करोड़ रुपये तक की पेशकश की गई.

3

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सुप्रीम कोर्ट का अहम आदेशकहा – फैसला सुनाने तक विशेष जज रिटायर नहीं होंगे

सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत को नौ महीने के भीतर फैसला सुनाने को कहा है. शीर्ष अदालत ने 30 सितंबर को रिटायर होने जा रहे विशेष न्यायाधीश का कार्यकाल इस मामले में सुनवाई पूरी होने तक बढ़ाने का निर्देश भी दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मामले की सुनवाई में सबूतों की रिकार्डिंग छह महीने में पूरी कर ली जाए. इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और कई अन्य नेताओं पर आरोप हैं. इससे पहले अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराए जाने से जुड़े मुकदमे की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश ने इसकी सुनवाई पूरी करने के लिए और छह महीने का समय मांगा था. विशेष न्यायाधीश ने शीर्ष अदालत को एक चिट्ठी लिखकर सूचित किया था कि वे 30 सितंबर, 2019 को रिटायर हो रहे हैं.

4

मायावती का भाजपा पर गंभीर आरोपकहा – पार्टी ने लोकसभा चुनाव बेनामी संपत्तियों की मदद से जीता

अपने भाई की कथित बेनामी संपत्ति ज़ब्त किए जाने से नाराज़ बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए हैं. शुक्रवार को उन्होंने कहा कि भाजपा ने पिछला लोकसभा चुनाव बेनामी संपत्ति के जरिए ही जीता है. मायावती ने कहा कि जब दलित और वंचित वर्ग का कोई व्यक्ति तरक्की हासिल करता है तो भाजपा के लोगों को बहुत परेशानी होती है. बसपा प्रमुख का कहना था कि इसके बाद पार्टी सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल करके अपना जातिवादी द्वेष बाहर निकालती है. मायावती का इशारा अपने भाई बसपा उपाध्यक्ष आनंद कुमार की तरफ था. गुरुवार को आयकर विभाग द्वारा उनका नोएडा स्थित 400 करोड़ रुपए का बेनामी भूखंड जब्त किए जाने की खबरें आई थीं. मायावती प्रमुख ने दावा किया कि लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा के खाते में दो हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम जमा हुई जिसका खुलासा आज तक नहीं किया गया.

5

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए बम धमाके में छह लोगों की मौत

अफगानिस्तान में एक बम धमाके में नौ लोगों की मौत हो गई है. ये धमाका आज काबुल विश्वविद्यालय के बाहर हुआ. उस समय वहां एक परीक्षा चल रही थी. मरने वालों में सभी छात्र हैं. धमाके में 27 लोग घायल भी हुए हैं. अभी तक किसी भी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. लेकिन माना जा रहा है कि इसके पीछे तालिबान या आईएस का हाथ हो सकता है. ये दोनों संगठन बीते कुछ समय से अफगान सुरक्षाबलों, सरकारी अधिकारियों और अल्पसंख्यक शियाओं को निशाना बनाते हुए अक्सर इस तरह के हमले करते रहे हैं. कल भी अफगानिस्तान के दक्षिण कांधार प्रांत में तालिबान ने एक हमला किया था. पुलिस मुख्यालय में हुए इस हमले में करीब 12 लोगों की मौत हो गई थी और 90 अन्य घायल हो गए थे.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019