प्रज्ञा ठाकुर

समाचार | बुलेटिन

नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाले प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर विवाद होने सहित आज के बड़े समाचार

प्रज्ञा ठाकुर | पश्चिम बंगाल | अलवर गैंगरेप मामला | जम्मू-कश्मीर | अमेरिका

ब्यूरो | 16 जून 2019 | फोटो : प्रज्ञा ठाकुर / ट्विटर

1

नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने पर भाजपा ने प्रज्ञा ठाकुर से माफी मांगने को कहा

मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर ने आज एक नया विवाद खड़ा कर दिया. उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया. प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि गोडसे को आतंकवादी कहने वाले लोग पहले खुद के गिरेबां में झांककर देखें. उनका ये भी कहना था कि इस बार के चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा. इससे पहले चर्चित अभिनेता कमल हासन ने नाथूराम गोडसे को आजाद भारत का पहला आतंकवादी बताया था. इस पर भाजपा और शिवसेना सहित कई अन्य दलों के नेताओं ने आपत्ति जताई थी. उधर, प्रज्ञा ठाकुर के बयान को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधा है. पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहना एक अक्षम्य अपराध है. हालांकि, भाजपा ने भी प्रज्ञा ठाकुर के बयान की निंदा की है. पार्टी प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा कि उन्हें इसके लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए.

2

पश्चिम बंगाल : प्रचार एक दिन पहले ख़त्म करने के चुनाव आयोग के फ़ैसले से विपक्ष नाराज

पश्चिम बंगाल में प्रचार के मसले पर चुनाव आयोग का हालिया फ़ैसला विपक्षी दलों के निशाने पर आ गया है. आयोग ने राज्य में हो रही हिंसा के मद्देनज़र वहां चुनाव प्रचार पर निर्धारित समय से एक दिन पहले रोक लगा दी है. लोक सभा चुनाव के सातवें और आख़िरी चरण में 19 मई को पश्चिम बंगाल की नौ सीटों पर मतदान है. इन सीटों पर 17 मई को शाम पांच बजे चुनाव प्रचार थमना था. लेकिन आयोग ने 16 मई को रात 10 बजे से ही चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है. इस पर, बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि रात दस बजे से प्रचार इसलिए प्रतिबंधित किया गया है क्योंकि दिन में राज्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो रैलियां हैं. उन्होंने कहा कि अगर आयोग वाकई निष्पक्ष है तो उसने गुरुवार सुबह से चुनाव प्रचार प्रतिबंधित क्यों नहीं किया? उधर, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का कहना है कि ऐसा लग रहा है जैसे आयोग भाजपा मुख्यालय से आदेश ले रहा है. तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने भी आयोग के फ़ैसले को अनैतिक बताया है.

3

अलवर गैंगरेप मामला : राहुल गांधी पीड़िता से मिले, दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही

अप्रैल के आखिर में राजस्थान के अलवर में हुए गैंगरेप के मामले में कांग्रेस की डैमेज कंट्रोल की कोशिश जारी है. आज पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी पीड़ित महिला से मिलने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने कहा कि मामले में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी और न्याय किया जाएगा. राहुल गांधी का ये भी कहना था कि उन्होंने इस बारे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बात की है. इस घटना को लेकर गहलोत सरकार को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है. आरोप है कि पुलिस ने पीड़िता की शिकायत दर्ज करने में सात दिन लगा दिए. उधर, भाजपा इस घटना को लेकर राज्य सरकार का विरोध करने के साथ-साथ चुनाव अभियान में भी इसे लेकर कांग्रेस पर हमला बोल रही है.

4

जम्मू-कश्मीर : सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकी ढ़ेर

जम्मू-कश्मीर में आज सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए. ये मुठभेड़ पुलवामा में हुई. इलाके में आतंकियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना मिली थी. इसके बाद सुरक्षा बलों ने तलाशी अभियान चलाया. इसी दौरान आतंकियों ने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी. जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी मारे गए. इस दौरान गोलीबारी में एक सैनिक और एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हो गई. मुठभेड़ में दो सैनिकों सहित तीन लोग घायल भी हुए हैं. मारे गए आतंकियों को संबंध हिज्बुल मुजाहिदीन से बताया जा रहा है. इसी साल फरवरी में पुलवामा में ही सीआरपीएफ पर हुए हमले के बाद से सुरक्षा बलों ने घाटी में आतंकियों के खिलाफ अपना अभियान तेज कर दिया है. तब से अब तक उनके साथ मुठभेड़ में 45 से ज्यादा आतंकी मारे जा चुके हैं.

5

अमेरिका : डोनाल्ड ट्रंप ने साइबर हमले की आशंका के चलते राष्ट्रीय आपातकाल घोषित किया

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है. उन्होंने एक कार्यकारी आदेश जारी कर इसकी घोषणा की. व्हाइट हाउस द्वारा जारी बयान के मुताबिक इस आदेश का मकसद अमेरिका को विदेशी दुश्मनों के साइबर हमलों से बचाना है. डोनाल्ड ट्रंप के आदेश के तहत अमेरिकी कंपनियों को विदेशी टेलिकॉम कंपनियों की सेवाओं का इस्तेमाल करने से प्रतिबंधित किया गया है. आदेश में कहा गया है कि इन कंपनियों की सेवाओं से देश की सुरक्षा को ख़तरा हो सकता है. हालांकि डोनाल्ड ट्रंप ने अपने आदेश में किसी कंपनी का नाम नहीं लिया है. लेकिन माना जा रहा है कि उन्होंने ये कदम खास तौर पर चीन की दिग्गज टेलिकॉम कंपनी ह्वावे को लेकर उठाया है. अमेरिका कुछ समय से लगातार अपने सहयोगियों पर भी इस कंपनी की सेवाएं इस्तेमाल न करने के लिए दबाव बनाता रहा है.

  • बीेजेपी-जेडीयू

    विचार | राजनीति

    भाजपा और जेडीयू के बीच चल रहे संघर्ष में ताजा रुझान क्या हैं?

    ब्यूरो | 13 जुलाई 2019

    गूगल लोगो

    समाचार | अख़बार

    गूगल द्वारा उपभोक्ताओं की बातचीत सुनने की बात स्वीकार किए जाने सहित आज के अखबारों की सुर्खियां

    ब्यूरो | 13 जुलाई 2019

    इंडिगो विमान

    विचार | व्यापार

    इंडिगो एयरलाइन के प्रमोटरों के बीच आखिर किस बात का झगड़ा है?

    ब्यूरो | 13 जुलाई 2019

    एचडी कुमारस्वामी

    समाचार | बुलेटिन

    कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी के विश्वासमत साबित करने के दावे सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 12 जुलाई 2019