मधुबाला

समाचार | आज का कल

मधुबाला के निधन सहित 23 फरवरी को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

मधुबाला | एल्युमिनियम | एमएफ हुसैन | कर्मचारी भविष्य निधि कानून | स्पेन

ब्यूरो | 23 फरवरी 2019

1

23 फरवरी, 1969 को हिंदी सिनेमा की सबसे खूबसूरत अभिनेत्रियों में से एक मधुबाला का निधन हो गया था. महज 36 साल की जिंदगी में उन्होंने अपनी अदाकारी और खूबसूरती से ऐसा जलवा बिखेरा जो आज तक कायम है. मुगलिया शान-ओ-शौकत दिखाती ‘मुगल-ए-आजम’ हो या फिर किशोर कुमार और बंधुओं के हास्य से भरी ‘चलती का नाम गाड़ी’, मधुबाला के दिलकश और शोख अंदाज ने इन फिल्मों को यादगार बना दिया. उनकी खूबसूरती के चलते उन्हें ‘वीनस ऑफ हिंदी सिनेमा’ कहा गया.

2

23 फरवरी, 1886 को अमेरिका के आविष्कारक और रसायनशास्त्री चार्ल्स मार्टिन हेल ने एल्यूमिनियम धातु की खोज की थी. हालांकि एल्युमिनियम तत्व की खोज 1825 में ही कर ली गई थी लेकिन इसे इसके वर्तमान स्वरूप और उपयोग के लायक बनाने का काम हेल ने किया थी.

3

23 फरवरी, 2010 को कतर ने भारत के मशहूर चित्रकार एमएफ हुसैन को अपने देश की नागरिकता दी थी. ऐसा होना इसलिए भी महत्वपूर्ण था क्योंकि कतर के नागरिकता कानून बहुत ही सख्त हैं, इसके अलावा हुसैन को भारत से निर्वासित भी किया गया था.

4

23 फरवरी, 1952 को कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम पारित किया गया. इसके बाद 4 मार्च, 1952 को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की स्थापना की गई जो आर्गैनिज्ड सेक्टर में कर्मचारियों के पीएफ, इंश्योरेंस और पेंशन योजनाओं की निगरानी करता है.

5

23 फरवरी, 1981 को स्पेन में दक्षिणपंथी सेना ने सरकार का तख्ता पलट दिया, जिससे राजनीतिक अनिश्चितता की स्थिति पैदा हो गई. इस दिन करीब दो सौ हथियारबंद सैन्य अधिकारिंयों ने प्रधानमंत्री चुने जाने की प्रक्रिया को रोककर सभी सांसदों को 18 घंटे के लिए बंदी बना लिया था.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    शक्तिकांत दास

    विचार और रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    आरबीआई द्वारा सरकार को 1.76 लाख करोड़ रु दिए जाने का गणित क्या है?

    ब्यूरो | 29 अगस्त 2019

    इमरान खान

    विचार और रिपोर्ट | विदेश

    क्या कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में ले जाने से पाकिस्तान को कुछ फायदा हो सकता है?

    ब्यूरो | 28 अगस्त 2019