ज्योतिरादित्य सिंधिया

समाचार | बयान

ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा जम्मू-कश्मीर से जुड़े फैसले की तारीफ किए जाने सहित आज के बड़े बयान

इमरान खान | ज्योतिरादित्य सिंधिया | अधीर रंजन चौधरी | अमित शाह | राहुल गांधी

ब्यूरो | 06 अगस्त 2019 | फोटो: ट्विटर-ज्योतिरादित्य सिंधिया

1

‘मैं जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के भारत में पूर्ण एकीकरण का समर्थन करता हूं.’ 

— ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस के नेता

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यह बात एक ट्वीट के जरिये जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के फैसले की सराहना करते हुए कही. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘बेहतर होता कि ऐसा संवैधानिक प्रक्रिया का पूरी तरह पालन करके किया जाता. ऐसा होता तो कोई प्रश्न खड़े नहीं होते.’ इसके साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आगे कहा, ‘क्योंकि यह फैसला राष्ट्रहित में लिया गया है इसलिए मैं इसका समर्थन करता हूं.’

 

2

‘मेरे जम्मू-कश्मीर बोलने का अर्थ पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर और अक्साई चिन का भी उसमें समाहित होना है.’ 

— अमित शाह, गृहमंत्री

अमित शाह ने यह बात लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पर चर्चा के दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘हम इसके लिए अपनी जान तक दे देंगे. लेकिन मैं जानना चाहता हूं कि क्या कांग्रेस पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) को भारत का हिस्सा नहीं मानती?’ इस मौके पर अ​मित शाह का यह भी कहना था, ‘क्यों​ हम कभी पंजाब या उत्तर प्रदेश के लिए भारत का अभिन्न अंग होने जैसी बात नहीं कहते. क्यों सिर्फ कश्मीर के लिए इसका इस्तेमाल होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि धारा 370 उसे भारत से अलग करने का काम करती है.’

3

‘यह कैसे कहा जा सकता है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अंदरूनी मामला है.’ 

— अधीर रंजन चौधरी, लोकसभा में कांग्रेस के नेता

अधीर रंजन चौधरी ने यह बात धारा 370 को अप्रभावी बनाने और इसे दो केंद्र शासित राज्यों में बांटने संबंधी प्रस्ताव पर लोकसभा में चर्चा के दौरान कही. इस मौके पर सवालिया लहजे में उन्होंने यह भी कहा, ‘1948 से संयुक्त राष्ट्र इसकी निगरानी कर रहा है. इसके अलाव इसे लेकर पहले हमने शिमला फिर लाहौर समझौता किया. क्या वो भी आंतरिक मामला है.’ इसके साथ ही अधीर रंजन चौधरी का यह भी कहना था, ‘यदि यह साधारण मामला है तो सोमवार को इसे लेकर सरकार ने अलग-अलग दूतावासों को संबोधित क्यों किया था. सरकार को इसका जवाब देना चाहिए.’

4

‘कार्यपालिका की शक्तियों के दुरुपयोग का देश की सुरक्षा पर गंभीर असर पड़ेगा.’ 

— राहुल गांधी, कांग्रेस के नेता

राहुल गांधी ने यह बात एक ट्वीट के जरिये जम्मू-कश्मीर से धारा 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने को लेकर कही. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘जम्मू-कश्मीर के एकतरफा ढंग से विभाजन, निर्वाचित जन प्रतिनिधियों की कैद और संविधान का उल्लंघन करके राष्ट्रीय एकीकरण का काम आगे बढ़ने वाला नहीं है.’ इसके साथ ही राहुल गांधी ने यह भी कहा, ‘यह देश जमीन के टुकड़ों से नहीं बल्कि उसकी जनता से बना है.’

5

‘जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करना पुलवामा जैसे हमलों को जन्म देगा.’ 

— इमरान खान, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

इमरान खान ने यह बात पाकिस्तान की संसद में दिए एक संबोधन में कही. इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर से धारा 370 के प्रावधानों को हटाने को उन्होंने भारत-पाकिस्तान के दरम्यान तनाव बढ़ाने वाला बताया. उन्होंने कहा, ‘अगर दोनों के बीच जंग हुई तो कोई उसे जीतेगा नहीं बल्कि सारी दुनिया के लिए उसके गंभीर नतीजे आएंगे.’ इस मौके पर इमरान खान ने यह भी कहा, ‘हम कश्मीर मसले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (यूएनएससी) के सामने उठाएंगे. साथ ही अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के समक्ष इस मुद्दे को कैसे उठाया जाए हम इसपर भी विचार कर रहे हैं.’

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019