गोधरा कांड, साबरमती एक्सप्रेस

समाचार | आज का कल

गोधरा कांड सहित 27 फरवरी को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

गोधरा कांड | चंद्रशेखर आजाद | स्पेलिंग बिल | फारस खाड़ी युद्ध | नाइजीरिया

ब्यूरो | 27 फरवरी 2019 | फोटो: विकीमीडिया

1

27 फरवरी, 2002 को गुजरात के गोधरा स्टेशन से रवाना हुई साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन में उन्मादी भीड़ ने आग लगा दी थी. इस भीषण अग्निकांड में 59 लोगों की मौत हो गई. घटना के बाद गुजरात में सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी और जानोमाल का भारी नुकसान हुआ. हालात इस कदर बिगड़े कि तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को जनता से शांति की अपील करनी पड़ी थी.

2

27 फरवरी, 1931 को देश के महान क्रांतिकारी एवं स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद ने ब्रिटिश पुलिस के साथ मुठभेड़ में गिरफ्तारी से बचने के लिए इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में खुद को गोली मार ली.

3

27 फरवरी, 1953 को अंग्रेजी भाषा को आने वाली पीढ़ियों के लिए आसान बनाने के इरादे से ब्रिटेन की संसद में ‘स्पैलिंग बिल’ का प्रस्ताव पेश किया गया. इस बिल के पास होने के बाद बच्चों को अंग्रेजी के शुद्ध उच्चारण की शिक्षा देने के लिए कुछ प्रयोग भी किए गए जो असफल होने के चलते बाद में बंद कर दिए गए.

4

27 फरवरी, 1991 को अमेरिका के राष्ट्रपति जार्ज बुश ने फारस खाड़ी युद्ध में जीत दर्ज करने की घोषणा के साथ ही युद्धविराम का ऐलान किया. अगस्त 1990 में इराक द्वारा कुवैत पर हमले के बाद यहां अमेरिका ने दखल दिया था.

5

27 फरवरी, 1999 को नाइजीरिया में 15 साल में पहली बार असैन्य शासक चुनने के लिए मतदान हुए थे. इन पहले चुनावों में ही बड़ी संख्या में लोग वोट डालने पहुंचे.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019