डॉ भीमराव अंबेडकर

समाचार | आज का कल

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के जन्म सहित 14 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

भीमराव अंबेडकर | अब्राहम लिंकन | टाइटैनिक | अपोलो 13 | बोको हराम

ब्यूरो | 14 अप्रैल 2019 | फोटो : विकीपीडिया

1

14 अप्रैल, 1891 को मध्य प्रदेश के महू में डॉ० भीमराव अंबेडकर का जन्म हुआ. वे एक विख्यात सामाजिक कार्यकर्ता, अर्थशास्त्री, कानूनविद, राजनेता और सामाज सुधारक थे. उन्होंने दलितों और निचली जातियों के अधिकारों के लिए छुआछूत और जाति भेदभाव जैसी सामाजिक बुराइयों के खिलाफ काफी संर्घष किया. डॉ० भीमराव अंबेडकर ने भारत के संविधान को तैयार करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया. वे स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री भी थे.

2

14 अप्रैल, 1865 को अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन को गोली मार दी गई. लिंकन को वाशिंगटन के ‘फोर्ड थियटर’ में उस समय गोली मारी गई, जब वह ‘आवर अमेरिकन कज़िन’ नाटक देख रहे थे. लिंकन का अगली सुबह निधन हो गया. घटना के दस दिन बाद उनके हत्यारे को अमेरिकी सैनिकों ने एक मुठभेड़ में मार गिराया.

3

14 अप्रैल, 1912 को ब्रिटेन का टाइटैनिक जहाज अंधमहासागर में एक हिमखंड से टकराकर डूब गया था. यह जहाज दुर्घटना से महज चार दिन पहले ही ब्रिटेन के साउथम्पटन से अपनी इस पहली यात्रा पर निकला था. इस हादसे में 1517 लोगों की मृत्यु हुई थी. यह शांतिकाल में हुई इतिहास की सबसे बड़ी समुद्री आपदाओं में से एक है.

4

14 अप्रैल, 1970 को अमेरिकी अंतरिक्ष यान अपोलो-13 में धमाके के बाद गंभीर स्थिति पैदा हो गई. धरती से रवाना होने के 56 घंटे बाद हुए इस हादसे के कारण एक बार तो उसमें सवार तीन अंतरिक्ष यात्रियों की जान पर ख़तरा मंडराने लगा था. लेकिन फिर इसे ठीक कर लिया गया और यह सकुशल धरती पर वापस लौट आया.

5

14 अप्रैल, 2014 को आतंकी संगठन बोको हराम ने नाइजीरिया में चीबॉक शहर स्थित एक बोर्डिंग स्कूल से 276 लड़कियों का अपहरण कर लिया. इस घटना के कुछ महीनों बाद करीब 57 लड़कियां आतंकियों के चंगुल से भागने में कामयाब रहीं. नाइजीरियाई सरकार के प्रयासों के बाद साल 2016-17 में बोको हरम ने करीब 103 लड़कियों को रिहा कर दिया.

  • श्रीलंका में बम धमाके

    समाचार | अख़बार

    श्रीलंका में बम धमाकों में 290 लोगों की मौत सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

    ब्यूरो | 1 घंटा पहले

    ऑनलाइन बैंकिंग

    ज्ञानकारी | अर्थव्यवस्था

    एनईएफटी ट्रांजैक्शन से जुड़ी पांच बातें जो आपको जाननी चाहिए

    ब्यूरो | 3 घंटे पहले

    नरेंद्र मोदी

    विचार | राजनीति

    पांच मौके जब चुनाव आयोग ने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नरेंद्र मोदी के प्रति नरम रुख अपनाया

    ब्यूरो | 4 घंटे पहले