सोनिया गांधी

समाचार | बयान

सोनिया गांधी द्वारा आरटीआई कानून के खत्म होने की आशंका जताए जाने सहित आज के पांच बड़े बयान

सोनिया गांधी | एस जयशंकर | फारुख अब्दुल्ला | एचडी कुमारस्वामी | इमरान खान

ब्यूरो | 23 जुलाई 2019 | फोटो: विकीमीडिया

1

‘केंद्र सरकार आरटीआई कानून में संशोधन करके इसे खत्म करना चाहती है.’ 

— सोनिया गांधी, कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष

सोनिया गांधी ने एक बयान जारी कर यह भी कहा कि ‘सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून पारित होने के बाद से 60 लाख से भी ज्यादा लोग इसका इस्तेमाल कर चुके हैं. इस कानून ने प्रशासन में विभिन्न स्तरों पर जवाबदेही और पारदर्शिता लाने में मददगार भूमिका निभाई है जिससे देश में लोकतंत्र की बुनियाद को मजबूती मिली है.’

2

‘प्रधानमंत्री ने डोनाल्ड ट्रंप से कश्मीर पर मध्यस्थता का कभी कोई अनुरोध नहीं किया.’

— एस जयशंकर, विदेश मंत्री

एस जयशंकर ने यह बयान राज्यसभा में डोनाल्ड ट्रंप के एक बयान पर सरकार की ओर से प्रतिक्रिया देते हुए दिया. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘पाकिस्तान के साथ कोई भी बातचीत सीमा पार से जारी आतंकवाद बंद होने पर होगी और यह लाहौर घोषणापत्र और शिमला समझौते के तहत ही होगी.’ एस जयशंकर का यह भी कहना था, ‘पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से किया जाएगा.’

3

‘कश्मीर मसले पर डोनाल्ड ट्रंप की पेशकश तारीफ के काबिल है.’ 

— फारुख अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री

फारुख अब्दुल्ला ने यह बात पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘यह खुशी की बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से इसे लेकर बात की. साथ ही नरेंद्र मोदी ने उन्हें कश्मीर को जटिल मुद्दा बताया.’ उन्होंने आगे कहा, ‘इस मसले के हल में किसी भी तरह की मदद अच्छी रहेगी.’

4

‘मैं बेहद आहत और मुख्यमंत्री पद त्यागने के लिए तैयार हूं.’ 

— एचडी कुमारस्वामी, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री

कर्नाटक में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की अगुवाई वाली जनता दल – सेकुलर (जेडीएस) और कांग्रेस की गठबंधन सरकार के विश्वासमत परीक्षण में असफल होने के बाद कुमारस्वामी ने यह बात कही.

5

‘डोनाल्ड ट्रंप की मध्यस्थता की पेशकश पर भारत की प्रतिक्रिया से मैं हैरान हूं.’ 

— इमरान खान, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

इमरान खान ने यह बात एक ट्वीट के जरिये कही. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘कश्मीर विवाद ने पिछले 70 साल से इस क्षेत्र को बंधक जैसा बना दिया है. कश्मीरियों को हर रोज इसका नुकसान उठाना पड़ रहा है. इसकी वजह से कश्मीर की कई पीढ़ियां प्रभावित हुई हैं.’

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019