अरविंद केजरीवाल

समाचार | अख़बार

चुनाव आयोग के अरविंद केजरीवाल की चिट्ठियां सील करने सहित आज के अख़बारों की पांच बड़ी खबरें

दैनिक भास्कर | नवभारत टाइम्स | द इंडियन एक्सप्रेस | द हिंदू | अमर उजाला

ब्यूरो | 27 मार्च 2019 | फोटो: यूट्यूब

1

चुनाव आयोग ने अरविंद केजरीवाल की चिट्ठियां सील कीं

चुनाव आयोग ने सरकारी मशीनरी के जरिए अरविंद केजरीवाल के नाम से मतदाताओं को भेजी जाने वाली चिट्ठियों को सील कर दिया है. दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक इन चिट्ठियों को पानी के बिलों के साथ भेजे जाने की तैयारी थी. इनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री ने पिछली सरकारों के समय पानी और सीवर की बदहाली का जिक्र कर अपनी सरकार के किए गए कामों को उपलब्धि के तौर पर पेश किया था. बताया जाता है कि भाजपा ने इसकी शिकायत की थी. पार्टी ने चुनाव आयोग से आदर्श चुनाव संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया था.

2

उत्तर प्रदेश : ‘आप’ उम्मीदवार को 10 प्रस्तावक न मिलने से नामांकन खारिज

उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर लोकसभा क्षेत्र में आम आदमी पार्टी (आप) को बड़ा झटका लगा है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक इस सीट पर आप की उम्मीदवार श्वेता शर्मा का नामांकन खारिज कर दिया गया. चुनाव अधिकारियों ने बताया कि वे 10 प्रस्तावक जुटा पाने में विफल रहीं. इन अधिकारियों की मानें तो कोई उम्मीदवार जो राज्य की मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय या क्षेत्रीय पार्टी से नहीं है, उसके लिए 10 प्रस्तावकों का नाम देना अनिवार्य होता है. आप ने लोकसभा चुनाव में देशभर की करीब 100 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारने का फैसला किया है.

3

सपा-बसपा-रालोद गठबंधन में तीन अन्य पार्टियां शामिल

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने अपना कुनबा और बढ़ा लिया है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बताया कि निषाद पार्टी, जनवादी पार्टी (समाजवादी) और राष्ट्रीय समानता दल इस गठबंधन का हिस्सा होंगी. हालांकि, उन्होंने साफ नहीं किया है कि इन्हें कितनी सीटें दी जाएंगी या फिर गठबंधन में इनकी भूमिका क्या होगी? वहीं, निषाद पार्टी के प्रमुख संजय निषाद ने दो सीटों-गोरखपुर और महाराजगंज पर अपने प्रत्याशी उतारने की बात कही है. उन्होंने गोरखपुर से सपा के निशान पर अपने पुत्र प्रवीण निषाद और महाराजगंज में अपनी पार्टी की ओर से खुद चुनावी मैदान में उतरने का एलान किया है. साल 2018 के गोरखपुर उपचुनाव में प्रवीण निषाद ने भाजपा उम्मीदवार उपेंद्र दत्त शुक्ला को मात दी थी.

4

पश्चिम बंगाल : घोषित उम्मीदवारों को लेकर भाजपा के भीतर नाराजगी

मंगलवार को पश्चिम बंगाल के 10 उम्मीदवारों की सूची जारी करने के बाद भाजपा के भीतर नाराजगी सामने आ रही है. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है कि यह बंगाल को तृणमूल के लिए छोड़ने जैसा है. साथ ही, उन्होंने राज्य में तृणमूल को मात देने के बारे में पार्टी की गंभीरता पर भी सवाल उठाया. हालांकि, उन्होंने इससे इनकार नहीं किया कि एक बंगाली अखबार के संपादक रंतिदेव सेनगुप्ता अच्छे उम्मीदवार है. बताया जाता है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से इनका करीबी संबंध है. वहीं, भाजपा की 10वीं सूची में राज्य के लिए घोषित अन्य नौ उम्मीदवारों में तृणमूल सरकार के पूर्व मंत्री, एक अभिनेता और तीन डॉक्टर भी शामिल हैं.

5

मांकडिंग खेल भावना के खिलाफ है तो इस पर फिर से विचार होना चाहिए : अश्विन

किंग्स इलेवन के कप्तान आर अश्विन ने साफ किया है कि उन्हें राजस्थान रॉयल्स के बल्लेबाज जोस बटलर को ‘मांकडिंग’ आउट करने का कोई मलाल नहीं है. अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने कहा है कि अगर यह खेल भावना के खिलाफ है तो इस पर फिर से विचार होना चाहिए. वहीं, राजस्थान रॉयल्स के कोच पेडी उपटन ने अश्विन को निशाने पर लिया है. उन्होंने कहा, ‘अश्विन का कदम खुद उनके स्तर को बयां कर रहा है. नियम और खेल भावना दो अलग-अलग मसले हैं.’ दूसरी ओर, आईपीएल के अध्यक्ष राजीव शुक्ला ने दावा किया है कि कप्तानों की एक बैठक में तय किया गया था कि इस लीग में किसी भी बल्लेबाज को ‘मांकडिंग’ नहीं किया जाएगा.

  • श्रीलंका में बम धमाके

    समाचार | अख़बार

    श्रीलंका में बम धमाकों में 290 लोगों की मौत सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

    ब्यूरो | 2 घंटे पहले

    ऑनलाइन बैंकिंग

    ज्ञानकारी | अर्थव्यवस्था

    एनईएफटी ट्रांजैक्शन से जुड़ी पांच बातें जो आपको जाननी चाहिए

    ब्यूरो | 3 घंटे पहले

    नरेंद्र मोदी

    विचार | राजनीति

    पांच मौके जब चुनाव आयोग ने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नरेंद्र मोदी के प्रति नरम रुख अपनाया

    ब्यूरो | 5 घंटे पहले