अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी

समाचार | बुलेटिन

अखिलेश यादव द्वारा भी महागठबंधन से अलग होने के संकेत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

महागठबंधन | अमित शाह | केरल | लोकसभा | श्रीलंका

ब्यूरो | 04 मई 2019 | फोटो: फेसबुक - अखिलेश यादव

1

अखिलेश यादव ने भी महागठबंधन से अलग होने के संकेत दिए, कहा – सपा भी अकेले उपचुनाव लड़ेगी

लोकसभा चुनावों के बाद उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा महागठबंधन में आई दरार बढ़ती दिख रही है. बसपा प्रमुख मायावती के बाद अब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी अलग राह चलने के संकेत दिए हैं. मायावती ने सोमवार को प्रदेश में 11 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव अकेले लड़ने की बात कही थी. आज भी उन्होंने कहा कि उन्हें ये फैसला राजनीतिक विवशताओं के चलते लेना पड़ा क्योंकि गठबंधन से कोई फायदा नहीं हुआ. हालांकि मायावती का ये भी कहना था कि अगर अखिलेश यादव अपनी पार्टी में बदलाव लाने में सफल रहे तो बाद में बसपा उनसे वापस गठबंधन कर सकती है. इसके बाद अखिलेश यादव की भी प्रतिक्रिया आई. सपा अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी भी अपने साधनों और संसाधनों से चुनाव लड़ेगी. उनका ये भी कहना था कि 2022 के विधानसभा चुनाव में राज्य में सपा की सरकार बनेगी.

2

जम्मू-कश्मीर : अमित शाह की बड़ी बैठक, राज्य में नए सिरे से परिसीमन पर विचार

गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर को लेकर आज एक अहम बैठक की. इसमें गृह सचिव राजीव गौबा और कश्मीर मामलों के अतिरिक्त सचिव ज्ञानेश कुमार सहित कई अधिकारी शामिल हुए. बताया जा रहा है कि बैठक के दौरान जम्मू-कश्मीर में नए सिरे से परिसीमन और इसके लिए आयोग के गठन पर विचार किया गया. इस मामले में अमित शाह राज्यपाल सत्यपाल मलिक से भी बात कर चुके हैं. जम्मू-कश्मीर में विधानसभा सीटों के नए सिरे से परिसीमन की मांग पुरानी है. इसके पीछे तर्क है कि इससे राज्य की सभी जातियों और जनजातियों को विधानसभा में उचित प्रतिनिधित्व मिल सकेगा. इस समय राज्य विधानसभा में कश्मीर से 46, जम्मू से 37 और लद्दाख से चार सीटें हैं.

3

केरल : एक बार फिर निपाह वायरस की पुष्टि, केंद्र ने छह सदस्यीय टीम भेजी

केरल में एक बार फिर जानलेवा निपाह वायरस की पुष्टि हुई है. राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने ये जानकारी दी. उन्होंने कहा कि ये जानलेवा वायरस 23 साल के एक छात्र में पाया गया है. फिलहाल इस छात्र की हालत स्थिर बनी हुई है. इस मामले के बाद प्रशासन ने अतिरिक्त सावधानियां बरतनी शुरू कर दी हैं. उधर, इस मामले को लेकर आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी अधिकारियों के साथ एक बैठक की. इसके बाद उन्होंने बताया कि छह अधिकारियों की एक टीम केरल के लिए रवाना कर दी गई है. उन्होंने राज्य को इस मामले में हरसंभव मदद का भरोसा भी दिया है. जानवरों से इंसानों में फैलने वाला निपाह वायरस 24 से 48 घंटे के भीतर इंसान को कोमा में पहुंचा सकता है. पिछले साल इस वायरस ने केरल में 17 लोगों की जान ले ली थी.

4

नई लोकसभा का पहला सत्र 17 जून से, राज्यसभा की बैठक 20 जून से शुरू होगी

नई लोकसभा का गठन होते ही संसद के पहले सत्र का कार्यक्रम भी घोषित हो गया है. 17वीं लोक सभा का सत्र 17 जून से शुरू होगा. शुरू के तीन दिनों तक चूंकि नई लोक सभा के सदस्यों की शपथ और दूसरे कुछ कार्यक्रम ही चलेंगे, इसलिए राज्यसभा की बैठक 20 जून से शुरू होगी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को भी 20 जून को ही संबोधित करेंगे. इसके बाद औपचारिक तौर पर संसद की कार्यवाही संचालित की जाएगी. संसद का ये सत्र 26 जुलाई तक चलेगा. लगातार दूसरी बार सत्ता में आई नरेंद्र मोदी सरकार इस सत्र में, जारी वित्तीय वर्ष का पूर्ण बजट पेश करेगी. देश की पहली पूर्णकालिक महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के लिए बजट पेश करने का ये पहला अवसर है.

5

श्रीलंका : सभी मुस्लिम मंत्रियों ने सरकार से इस्तीफा दिया

बौद्ध बहुल श्रीलंका में बीते अप्रैल में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों से मची उथल-पुथल अब तक जारी है. ताज़ा घटनाक्रम में वहां सभी नौ मुस्लिम मंत्रियों ने केंद्रीय सरकार से इस्तीफ़ा दे दिया है. उनके अलावा दो प्रांतीय गवर्नरों ने भी यही कदम उठाया है. ये इस्तीफे वहां के एक प्रभावी बौद्ध संन्यासी अथुरालिये रतना की भूख हड़ताल के चलते हुए हैं. रतना ने कहा था कि जब तक दो प्रांतीय मुस्लिम गवर्नर और एक मंत्री इस्तीफ़ा नहीं दे देते हैं तब तक उनका अनशन जारी रहेगा. इस बौद्ध संन्यासी का आरोप है कि इन तीन मंत्रियों का बम धमाकों को अंजाम देने वाले आत्मघाती हमलावरों से संबंध था. तीनों मंत्रियों के साथ बाकी मंत्रियों ने भी एकजुटता दिखाते हुए इस्तीफा दिया है. इन धमाकों में 250 से ज्यादा लोग मारे गए थे. इनकी जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएस ने ली थी.

  • इंटरनेट कम्प्यूटर सेक्योरिटी

    समाचार | इंटरनेट

    क्या आपको इंटरनेट की दुनिया में सुरक्षित रहना आता है?

    संजय दुबे | 01 अप्रैल 2020

    शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019