मोहन भागवत

समाचार | अख़बार

आरएसएस के पहले विश्वविद्यालय की तैयारी सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

द टाइम्स ऑफ इंडिया | द इंडियन एक्सप्रेस | द एशियन एज | अमर उजाला | हिंदुस्तान

ब्यूरो | 18 मार्च 2019 | फोटो: यूट्यूब

1

मनोहर पर्रिकर नहीं रहे

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को निधन हो गया. कैंसर से पीड़ित 63 वर्षीय मनोहर पर्रिकर हालत बिगड़ने के बाद शनिवार से ही अस्पताल में भर्ती थे. वे चार बार गोवा के मुख्यमंत्री रहे. मनोहर पर्रिकर ने केंद्र में रक्षा मंत्रालय भी संभाला. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक बीमारी के बावजूद उन्होंने लगभग आखिरी दिन तक काम किया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित तमाम हस्तियों ने मनोहर पर्रिकर के निधन पर दुख जताया है.

2

एनसीईआरटी ने वर्ग संघर्ष से संबंधित चैप्टर नौवीं के पाठ्यक्रम से हटाने का फैसला किया

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने कक्षा नौ के इतिहास की किताब से तीन अध्यायों को हटाने का फैसला किया है. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक इनमें ‘वर्ग संघर्ष’ से संबंधित एक अध्याय भी शामिल है. इस चैप्टर में बताया गया है कि त्रावणकोर की नाडर महिलाओं को अपने शरीर के ऊपरी हिस्से को कपड़े से ढकने से बलपूर्वक रोका गया था. बताया जाता है कि परिषद का यह फैसला मानव संसाधन और विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा छात्रों पर पढ़ाई का बोझ कम करने की पहल का हिस्सा है. इससे पहले साल 2017 में भी एनसीईआरटी ने 182 किताबों में कुल 1,334 बदलाव किए थे.

3

पहला आरएसएस विश्वविद्यालय खोलने की तैयारी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) देश में अपना पहला विश्वविद्यालय खोलने की तैयारी में है. द एशियन एज की खबर की मानें तो आरएसएस से जुड़ी विश्व हिंदू परिषद (विहिप) अपने शैक्षणिक एजेंडा को आगे बढ़ाने के लिए एक वेद विश्वविद्यालय खोलने के प्रस्ताव पर काम कर रही है. बताया जाता है कि इस प्रस्ताव पर कई वर्षों से विचार किया जा रहा था. बीते साल संघ के नेताओं ने शैक्षणिक संस्थाओं में वेदों और अन्य प्राचीन साहित्य की पढ़ाई को पर्याप्त नहीं बताया था. फिलहाल विहिप देशभर में 16 वेद विद्यालयों का संचालन कर रही है. इसमें 12वीं तक की पढ़ाई होती है. वहीं, संघ से मान्यता हासिल विद्या भारती देशभर में शिशु मंदिर-विद्या मंदिर विद्यालयों को चला रही है.

4

अमेरिकी कंपनियों के दबाव में कोरोनरी स्टेंट की कीमत बढ़ने के आसार

दिल की धमनियों में ब्लॉकेज को दूर करने वाले कोरोनरी स्टेंट की कीमत एक बार फिर बढ़ने के आसार दिख रहे हैं. अमर उजाला में छपी खबर की मानें तो केंद्र सरकार एक अप्रैल से इसकी नई कीमत तय करने की तैयारी में है. इसके लिए राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) ने स्टेंट निर्माताओं और आयातकों से साल 2018 तक का पूरा ब्यौरा मांगा है. इससे पहले साल 2017 में सरकार ने इसकी कीमत 85 फीसदी तक कम की थी. बताया जाता है कि स्टेंट बाजार पर अमेरिकी कंपनियों का दावा है. वहीं, कीमत बढ़ाने को लेकर सरकार पर इनका दबाव बढ़ता जा रहा है. इससे पहले इन कंपनियों ने स्टेंट की कीमत घटाए जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखकर सवाल उठाए थे.

5

देश के नौ राज्यों में महिला मतदाता की संख्या पुरुष वोटरों से अधिक

17वीं लोकसभा के लिए होने वाले चुनाव में पूर्वोत्तर और दक्षिण भारत के कुल नौ राज्यों में महिला मतदाताओं की संख्या पुरुष वोटरों के मुकाबले अधिक है. हिन्दुस्तान के मुताबिक इनमें पूर्वोत्तर के अरुणाचल, मणिपुर, मेघालय और मिजोरम शामिल हैं. वहीं, दक्षिण के राज्यों की बात करें तो तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी के नाम भी इस सूची में हैं. वहीं, इनके अलावा गोवा में भी महिला मतदाता अधिक हैं. में प्रकाशित खबर के मुताबिक राष्ट्रीय स्तर पर प्रति 1000 पुरुष मतदाता की तुलना में केवल 958 महिला वोटर हैं. इस मामले में सबसे पीछे दिल्ली है. यहां यह आंकड़ा केवल 812 है. उधर, देश की आबादी के लिहाज से 1,000 लोगों में मतदाताओं की संख्या 631 है. यानी कुल आबादी के 63 फीसदी हिस्से को वोट देने का अधिकार हासिल हो चुका है.

  • श्रीलंका में बम धमाके

    समाचार | अख़बार

    श्रीलंका में बम धमाकों में 290 लोगों की मौत सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

    ब्यूरो | 1 घंटा पहले

    ऑनलाइन बैंकिंग

    ज्ञानकारी | अर्थव्यवस्था

    एनईएफटी ट्रांजैक्शन से जुड़ी पांच बातें जो आपको जाननी चाहिए

    ब्यूरो | 2 घंटे पहले

    नरेंद्र मोदी

    विचार | राजनीति

    पांच मौके जब चुनाव आयोग ने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नरेंद्र मोदी के प्रति नरम रुख अपनाया

    ब्यूरो | 4 घंटे पहले