राजधानी एक्सप्रेस

समाचार | अख़बार

रेल मंत्रालय के एक अहम फैसले सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

अमर उजाला | हिंदुस्तान | नवभारत टाइम्स | द हिंदू | दैनिक जागरण

ब्यूरो | 08 मई 2019 | फोटो: mumbailive.com

1

श्रीलंका : एक डॉक्टर पर 4,000 सिंहली बौद्ध महिलाओं को बिना बताए उनकी नसबंदी कर देने का आरोप

श्रीलंका में एक डॉक्टर पर 4,000 सिंहली बौद्ध महिलाओं को बिना बताए उनकी नसबंदी कर देने का आरोप लगा है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक एक स्थानीय अखबार ने दावा किया है कि डॉक्टर सेगु शिहाबदीन मोहम्मद शफी ने बच्चे को जन्म देने के लिए ऑपरेशन कराने वाली महिलाओं की चोरी से नसबंदी की है. पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि, पुलिस का कहना है कि उसे मनी लॉन्डरिंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. वहीं, इस बात का खुलासा होने के बाद श्रीलंका में तनाव का माहौल बना हुआ है.

2

आइएलएंडएफएस जिस वक्त डूब रहा था, उस वक्त इसके अधिकारी कर्जदारों के पैसे पर मौज कर रहे थे : जांच रिपोर्ट

इन्फ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिडेट (आइएलएंडएफएस) कंपनी जिस वक्त कर्ज में डूब रही थी, उसी दौरान इसके अधिकारी कर्जदारों के पैसे पर एय्याशी कर रहे थे. हिन्दुस्तान की खबर के मुताबिक आइएलएंडएफएस की जांच में इसका खुलासा हुआ है. इस जांच में पाया गया कि अधिकारी कर्ज पास कराने के बदले विदेश यात्रा, निजी विमानों से सैरसपाटा और हेलिकॉप्टर की सवारी जैसी सुविधाएं हासिल कर रहे थे. साथ ही, ये अधिकारी कर्ज की वसूली टालने के बदले कर्जदारों से अपने विदेश स्थित मकानों की आंतरिक साज-सज्जा तक करवाते थे. मार्च, 2018 तक आइएलएंडएफएस समूह पर 90,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज था.

3

पांच से 10 फीसदी कॉन्डम लैब टेस्ट में फेल

सुरक्षित शारीरिक संबंध और अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कॉन्डम के इस्तेमाल पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत हासिल एक जवाब में इस बात का खुलासा हुआ है कि पांच से 10 फीसदी सैंपल जांच में विफल हो रहे हैं. बताया जाता है कि सेंट्रल ड्रग टेस्टिंग लैब ने जून, 2018 से अप्रैल, 2019 तक 411 सैंपलों की जांच की थी. इसमें 22 सैंपल (पांच फीसदी) फेल हो गए. इससे पहले पिछले साल जुलाई में 66 सैंपलों में से सात विफल रहे थे. कॉन्डम के फेल होने की मुख्य वजह प्रेशर न झेल पाना और लीकेज पाया गया है. इस बारे में डॉक्टरों का कहना है कि यदि इस तरह से कॉन्डम फेल हो रहे हैं तो लोगों पर इसका सीधा असर होगा. इसकी वजह से लोग यौन संबंधित बीमारियों के शिकार हो सकते हैं. साथ ही, अनचाहा गर्भ भी ठहर सकता है. सेंट्रल ड्रग टेस्टिंग लैब की रिपोर्ट सामने आने के बाद स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस संबंध में जांच के आदेश दिए हैं.

4

रेल मंत्रालय ने जनसंपर्क का काम निजी कंपनी को देने का फैसला किया

रेल मंत्रालय ने जनसंपर्क और यात्रियों की शिकायत निवारण का काम निजी कंपनी को देने का फैसला किया है. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे बोर्ड ने इसकी जानकारी सभी रेलवे जोन के जनरल मैनेजरों (जीएम) को दी है. फिलहाल, इस काम को अलग-अलग जोन के मुख्यालय और डिवीजन स्तर पर वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी, इंस्पेक्टरों और अन्य कर्मचारियों द्वारा अंजाम दिया जाता है. दक्षिणी रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि मंत्रालय ने लोगों से संवाद करने और शिकायतों को दूर करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों- फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और इंस्टाग्राम – के इस्तेमाल पर अधिक जोर देने की बात कही है. साथ ही, इन निजी एजेंसियों द्वारा फोटो और इन्फोग्राफिक्स सहित अन्य माध्यमों से भी लोगों तक जानकारियां पहुंचाई जाएगी.

5

हरियाणा : गर्भवती महिलाओं की प्रसव पीड़ा कम करने के लिए गायत्री मंत्र का इस्तेमाल 

हरियाणा में सरकारी स्कूलों की तरह अब अस्पतालों में भी मरीजों को भी गायत्री मंत्र सुनाया जाएगा. दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक गर्भवती महिलाओं की प्रसव पीड़ा कम करने के लिए स्त्री रोग विभाग, प्रसव वार्ड और ऑपरेशन थियेटर में म्यूजिक सिस्टम पर गायत्री मंत्र सुनाया जाएगा. इस फैसले के पीछे की वजह यह मान्यता है कि डिलीवरी के दौरान गायत्री मंत्र के जरिए हीलिंग साउंड थैरेपी से गर्भवती महिला को प्रसव पीड़ा कम होगी. साथ ही, उसका ब्लड प्रेशर भी सामान्य बना रहेगा. इस योजना को पूरी तरह कारगर बनाने के लिए स्वास्थ्य निदेशालय ने गायनी वॉर्ड और लेबर रूम में सुविधाएं बढ़ाने के निर्देश दिए हैं.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019