नरेंद्र मोदी

समाचार | अख़बार

3.6 करोड़ कर्मचारियों को मोदी सरकार की राहत सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

द टाइम्स ऑफ इंडिया | अमर उजाला | हिंदुस्तान | दैनिक जागरण | हिंदुस्तान टाइम्स

ब्यूरो | 14 मई 2019 | फोटो: भाजपा / सोशल मीडिया

1

अमित शाह अभी भाजपा अध्यक्ष बने रहेंगे

गृह मंत्री अमित शाह कम से कम साल के आखिर तक भाजपा के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी भी संभाले रहेंगे. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक जरूरत पड़ने पर उनकी मदद के लिए पार्टी किसी को कार्यकारी अध्यक्ष बना सकती है. साल के आखिर में तीन राज्यों – हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र – में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसे देखते हुए पार्टी किसी तरह का कोई खतरा नहीं उठाना चाहती. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इन तीनों राज्यों में अमित शाह की जमीनी स्तर पर मजबूत पकड़ है. उनके मुताबिक अगर संगठन की जिम्मेदारी किसी नए चेहरे को दी जाएगी तो उसे जमीनी समझ हासिल करने में ही लंबा वक्त लगेगा, जबकि पार्टी के पास तैयारी के लिए ज्यादा समय नहीं है.

2

वेव ग्रुप के मुखिया मोंटी चड्ढ़ा गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने वेव ग्रुप के मुखिया मनप्रीत सिंह चड्ढा उर्फ मोंटी को गिरफ्तार कर लिया है. अमर उजाला की खबर के मुताबिक मोंटी को 100 करोड़ से अधिक की धोखाधड़ी के आरोप में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया. आरोपित देश छोड़कर थाईलैंड भागने की फिराक में था. मोंटी चड्ढ़ा पर आरोप है कि उनकी कंपनी ने गाजियाबाद में एनएच-24 के पास टाउनशिप बसाने के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपये लिए, लेकिन न तो मकान दिए और न ही पैसे लौटाए. फिलहाल उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

3

ईएसआई के लिए वेतन से कम पैसा कटेगा

केंद्र ने कर्मचारी राज्य बीमा (ईएसआई) योजना के तहत किए जाने वाले योगदान को वेतन के 6.5 से घटाकर चार फीसदी करने का निर्णय किया है. हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक इसमें नियोक्ता का योगदान 4.75 से 3.25 फीसदी और कर्मचारियों का योगदान 1.75 से घटकर 0.75 फीसदी रह जाएगा. यह बदलाव एक जुलाई से लागू होगा. केंद्र के इस फैसले से करीब 3.6 करोड़ कर्मियों एवं 12.85 लाख नियोक्ताओं को राहत मिलेगी. केंद्रीय श्रम मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि कर्मचारी एवं नियोक्ता की ओर से किए जाने वाले योगदान की वर्तमान दरें जनवरी 1997 से चली आ रही थीं.

4

दुनिया की सबसे बड़ी 2000 कंपनियों में 57 भारत की

दुनिया की 2000 सबसे बड़ी सूचीबद्ध कंपनियों की सूची में भारत की 57 कंपनियों को जगह मिली है. दैनिक जागरण के मुताबिक प्रतिष्ठित पत्रिका फोर्ब्स ने यह सूची जारी की है. रिलायंस इंडस्ट्रीज देश की एकमात्र कंपनी है जो शीर्ष 200 कंपनियों में जगह बनाने में कामयाब रही. वह 71वें पायदान पर है. फोर्ब्स की वैश्विक 2000 कंपनियों की सूची -2019 में पहले पायदान पर चीन का इंडस्ट्रियल एंड कॉमर्शियल बैंक ऑफ चाइना (आईसीबीसी) है. शीर्ष 2000 कंपनियों में भारत के कुछ और नाम हैं – एचडीएफसी बैंक (209), ओएनजीसी (220), इंडियन ऑयल (288) और एचडीएफसी लिमिटेड (332).

5

बजट से पहले संबंधित पक्षों के साथ निर्मला सीतारमण की बैठक

बजट लोकसभा में पेश करने से पहले वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण की अलग-अलग पक्षों के साथ बैठकें जारी हैं. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक गुरुवार को उन्‍होंने बैंकरों और पूंजी बाजार के प्रतिनिधियों से मुलाकात की. बताया जा रहा है कि इस दौरान उन्हें सरकार की लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दरों की समीक्षा के साथ कर्ज को सस्ता करने के भी सुझाव मिले. वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण पांच जुलाई 2019 को अपना पहला बजट पेश करेंगी. यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का भी पहला बजट होगा.

  • कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज, कोलकाता

    समाचार | आज का कल

    कलकत्ता शेयर बाजार की स्थापना सहित 15 जून को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

    ब्यूरो | 8 घंटे पहले

    रज पर्ब, ओडिशा

    ज्ञानकारी | तीज-त्यौहार

    रज पर्ब: रजस्वला महिलाओं को अछूत बनाने के बजाय उनकी इसी खासियत को मनाने वाला एक अनोखा उत्सव

    ब्यूरो | 11 घंटे पहले

    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

    समाचार | अख़बार

    मनमोहन सिंह की राज्यसभा से चुपचाप विदाई सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

    ब्यूरो | 15 घंटे पहले

    गेम ओवर में तापसी पन्नू

    खरा-खोटा | सिनेमा

    गेम ओवर: पल-पल चौंकाता खालिस मनोरंजक सिनेमा

    ब्यूरो | 14 मई 2019