सुपर-30 में ऋतिक रोशन

खरा-खोटा | सिनेमा

पांच बातें जो ‘सुपर-30’ का ट्रेलर फिल्म के बारे में बताता है

'सुपर-30' में मुख्य भूमिकाएं ऋतिक रोशन, पंकज त्रिपाठी और आदित्य श्रीवास्तव ने निभाई हैं

ब्यूरो | 05 जून 2019

1

इंजीनियर बनने का ख्वाब देखने वाले और आईआईटी-जेईई की तैयारी करने वाले हर छात्र ने आनंद कुमार का नाम कभी न कभी जरूर सुना होगा. आनंद कुमार ने पटना में सुपर-30 के नाम से एक संस्था शुरू की थी जहां मेधावी बच्चों को मुफ्त में इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करवाई जाती है. ‘सुपर-30’ इन्हीं आनंद कुमार के जीवन पर आधारित है जिसमें उनकी भूमिका ऋतिक रोशन निभा रहे हैं.

2

आनंद कुमार की उपलब्धियों का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उनके कामों के लिए उन्हें राष्ट्रीय बाल कल्याण पुरस्कार, एस रामानुजन अवॉर्ड, गोल्डन एजुकेशन अवॉर्ड सहित कई देसी-विदेशी सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है. टाइम और न्यूजवीक जैसी पत्रिकाएं उन पर बात कर चुकी हैं और बीते साल डिस्कवरी चैनल ने उन पर एक घंटे की लंबाई वाली डॉक्युमेंट्री फिल्म भी बनाई है.

3

‘सुपर-30’ का ट्रेलर आनंद कुमार द्वारा सुपर-30 शुरू किए जाने की परिस्थितियों और घटनाओं की झलकियां दिखाता है. लेकिन समग्रता में कहानी का जो अंदाजा लगता है वह यही है कि फिल्म अमीर-गरीब की जंग को दोहराने वाली है. ट्रेलर आनंद कुमार से जुड़े कुछ विवादों और उन पर लगने वाले तमाम तरह के आरोपों का कोई जिक्र नहीं करता. उम्मीद की जा सकती है कि इसे फिल्म के लिए बचाकर रखा गया होगा.

4

आनंद कुमार के रूप में ऋतिक रोशन देखने में तो दूर-दूर तक उनके जैसी छवि बनाते नहीं दिखते. उनके लुक से वे एक सरफिरे गणितज्ञ तो लग सकते हैं लेकिन मजे-मजे में बच्चों को सिखा-पढ़ा देने वाले शिक्षक कतई नहीं दिखते. इसके ऊपर से उनका अति-बनावटी बिहारी उच्चारण जरा और खीझ पैदा करता है.

5

फिल्म का निर्देशन ‘क्वीन’ फेम विकास बहल ने किया है. इसके पहले वे मीटू कैंपेन के दौरान यौन शोषण के आरोप लगाए जाने को लेकर चर्चा में आए थे. हाल ही में उन्हें इस मामले में क्लीन चिट दे दी गई है. फिलहाल, उनकी फिल्म सुपर-30 का ट्रेलर बहुत प्रभावित तो नहीं कर रहा है. फिल्म करेगी या नहीं, इसका पता 12 जुलाई को फिल्म रिलीज के साथ ही चल सकेगा.

  • नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021

    किरण बेदी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    जब किरण बेदी पुडुचेरी में कांग्रेस की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई थीं तो उन्हें हटाया क्यों गया?

    अभय शर्मा | 19 फरवरी 2021

    एलन मस्क टेस्ला

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    जिस बिटकॉइन को प्रतिबंधित करने की मांग हो रही है, उस पर टेस्ला ने दांव क्यों लगाया है?

    ब्यूरो | 18 फरवरी 2021