सोनचिड़िया में सुशांत सिंह राजपूत

खरा-खोटा | सिनेमा

पांच बातें जो ‘सोनचिड़िया’ का ट्रेलर इस फिल्म के बारे में बताता है

चंबल के डकैतों पर आधारित 'सोनचिड़िया' में मुख्य भूमिकाएं सुशांत सिंह राजपूत, भूमि पेडनेकर और मनोज बाजपेयी ने निभाई हैं

ब्यूरो | 07 जनवरी 2019

1

‘सोनचिड़िया’ के ट्रेलर को पहली बार देखने पर चंबल, डकैत, इमरजेंसी और मारपीट-हिंसा के अलावा और कुछ समझ नहीं आता. इससे पता चलता है कि ट्रेलर अपनी बात पूरी तरह से नहीं कह सका है. हालांकि दूसरी बार देखने पर बागी, पुलिस, राजनीति जैसी कुछ खींचतान समझ आती है लेकिन यह सब क्यों हो रहा है और फिल्म की कहानी का केंद्र क्या होगा, इसका अंदाजा नहीं लग पाता.

2

ट्रेलर में शामिल कुछ जमीनी संवाद आपके कान खड़े करते हैं. उदाहरण के लिए, गोलीबारी के एक दृश्य में मनोज बाजपेयी कहते हैं कि ‘सरकारी गोली से कोई कबहौं मरे है, मरे तो इनके वादन (सरकार के वादों) से है.’ देश की राजनीति पर किया गया यह सर्वकालिक कटाक्ष काफी वजनदार है और फिल्म के जरिए ऐसे ही कई संवादों को सुने जाने की प्यास जगा जाता है.

3

साल 1994 में आई फूलन देवी की बायोपिक ‘बैंडिट क्वीन’ में मान सिंह की भूमिका निभाने वाले मनोज बाजपेयी एक बार फिर से इसी नाम के किरदार को निभा रहे हैं. उनका अभिनय वैसी ही दहशत पैदा करने की ताब रखता है, ऐसा इन झलकियों को देखकर कहा जा सकता है.

4

फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे सुशांत सिंह राजपूत लुक्स और एक्सप्रेशंस से तो बीहड़ के बागी लगते हैं लेकिन उनकी संवाद-अदायगी जरा नर्म सी लगती है. वहीं भूमि पेडनेकर एक बार फिर से नॉन-ग्लैमरस अवतार में नजर आई हैं और अपने हर अंदाज में टफ लगती हैं. इसके अलावा रणवीर शौरी और आशुतोष राणा भी अपने-अपने किरदारों में आपका ध्यान खींचते हैं.

5

‘इश्किया’ और ‘उड़ता पंजाब’ रचने वाले अभिषेक चौबे ने‘सोनचिड़िया’ का निर्देशन किया है जिसकी झलकियां देखते हुए लगातार इस बात का एहसास बना रहता कि कहीं कुछ कमी है. इसके बावजूद कटाक्ष भरे बढ़िया संवाद और कमाल का अभिनय फिल्म से उम्मीद लगाने की वजह बन जाते हैं. अब यह ‘सोनचिड़िया’ इन उम्मीदों पर कितने कैरेट खरी उतरेगी, इसका पता आठ फरवरी को फिल्म रिलीज के साथ ही चलेगा.

  • नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021

    किरण बेदी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    जब किरण बेदी पुडुचेरी में कांग्रेस की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई थीं तो उन्हें हटाया क्यों गया?

    अभय शर्मा | 19 फरवरी 2021

    एलन मस्क टेस्ला

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    जिस बिटकॉइन को प्रतिबंधित करने की मांग हो रही है, उस पर टेस्ला ने दांव क्यों लगाया है?

    ब्यूरो | 18 फरवरी 2021