गली बॉय में रणवीर सिंह

खरा-खोटा | सिनेमा

पांच बातें जो ‘गली बॉय’ का ट्रेलर इस फिल्म के बारे में बताता है

ज़ोया अख्तर निर्देशित 'गली बॉय' में रणवीर सिंह और आलिया भट्ट ने मुख्य भूमिकाएं निभाई हैं

ब्यूरो | 10 जनवरी 2019

1

‘गली बॉय’ मुंबई झुग्गी बस्तियों से निकले हिपहॉप म्यूजिशियन और रैपर की कहानी दिखाने वाली है. बताया जा रहा है कि यह सॉन्ग-रैपर्स डिवाइन और नाएजी के सच्चे किस्सों से प्रेरित है. कुछ साल पहले इन दोनों रैपर्स ने मिलकर मुंबई, झुग्गी बस्तियों और यहां की गलियों पर रैप सॉन्ग्स बनाए थे जो खासे लोकप्रिय हुए थे. अब ये दोनों उन सफल-हुनरमंद लोगों की लिस्ट में शामिल हैं जिन्हें सोशल मीडिया ने पहचान दिलाई है.

2

ट्रेलर में रणवीर सिंह अपने किरदार के मिजाज़ को समझकर एकदम खरे-सच्चे एक्सप्रेशंस देते नजर आते हैं और बता देते हैं कि वे एक बार फिर वाहवाही लूटने वाले हैं. ‘गली बॉय’ में सबसे खास अनुभव रणवीर सिंह को रैपिंग करते हुए देखना होगा. हालांकि प्रमोशन के दौरान उन्हें बार-बार यह करते देख आशंका होती है कि कहीं फिल्म में इसे देखने का रोमांच खत्म ना हो जाए लेकिन यह भी सच है कि रणवीर सिंह जैसे एंटरटेनर से आप हमेशा ‘थोड़ा और’ की उम्मीद लगाए रख सकते हैं.

3

रणवीर सिंह के अलावा फिल्म में आलिया भट्ट भी हमेशा की तरह देखने लायक होने वाली हैं, इस बात का इशारा वे ट्रेलर में कुछ धांसू-मजेदार संवादों के जरिए दे देती हैं. इन झलकियों में उनकी जबरदस्त टाइमिंग उन्हें परदे पर देखे जाने की प्यास को बढ़ा देती है. ‘गली बॉय’ के करीब पौने तीन मिनट लंबे ट्रेलर में वे आधा वक्त ही नज़र आती हैं जिससे इस प्यास के ना मिट पाने की आशंका भी होती है.

4

फिल्म की लेखक-निर्देशक ज़ोया अख्तर बताती हैं कि इस म्यूजिकल फिल्म में दो कविताओं, दो बैकग्राउंड सॉन्ग और दो रिप्राइज्ड वर्जन सहित कुल 18 गाने रखे गए हैं.

5

जोया अख्तर पर अक्सर अभिजात्य लोगों और विषयों पर फिल्म बनाने की तोहमत लगाई जाती है. ऐसे में ‘गली बॉय’ से उम्मीद की जा सकती है कि यह उन पर लगे इस दाग को धो देगी. सच्ची कहानी, रियलिस्टिक टच और ढेर सारे सुरीले संगीत से लबरेज उनकी इस फिल्म की झलकियां कहती हैं कि 14 फरवरी को गली बॉय टिकट बुक कर लिया जाना चाहिए.

  • निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 8 घंटे पहले

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 19 घंटे पहले

    भारतीय पुलिस

    आंकड़न | पुलिस

    पुलिस हिरासत में होने वाली 63 फीसदी मौतें 24 घंटे के भीतर ही हो जाती हैं

    ब्यूरो | 25 नवंबर 2020

    सौरव गांगुली

    विचार-रिपोर्ट | क्रिकेट

    जिन ऑनलाइन गेम्स को गांगुली, धोनी और कोहली बढ़ावा दे रहे हैं उन्हें बैन क्यों किया जा रहा है?

    अभय शर्मा | 25 नवंबर 2020