सिंबा में रणवीर सिंह औऱ सारा अली खान

खरा-खोटा | सिनेमा

सिंबा: सिर्फ रणवीर सिंह के जायकेदार अभिनय के लिए

कलाकार: रणवीर सिंह, सारा अली खान, सोनू सूद, आशुतोष राणा, अजय देवगन | निर्देशक: रोहित शेट्टी | लेखक: यूनुस सजावल, साजिद-फरहाद | रेटिंग: 2/5

ब्यूरो | 28 दिसंबर 2018

1

रोहित शेट्टी ने ‘सिंबा’ में ज्यादातर चीजें ‘रीक्रिएट’ की हैं. न सिर्फ पुराने गाने, बल्कि फिल्म भी जो 2015 की तेलुगु फिल्म ‘टेंपर’ की ज्यादातर कहानी और मुख्य दृश्यों को रीक्रिएट करके बनाई है. इसी वजह से, मौलिकता से दूर होकर ‘सिंबा’ एक छोटे कद की फिल्म हो जाती है. लेकिन ये बात रणबीर सिंह पर लागू नहीं होती. सारा अली खान के ऊपर भी नहीं क्योंकि वे इस फिल्म में होकर भी नहीं के बराबर ही हैं. केवल रणवीर ही हैं जो रेप-रिवेंज जॉनर के इस लाउड बॉलीवुडीय संस्करण को रोचक और दर्शनीय बनाते हैं.

2

‘सिंबा’ के इंटरवल से पहले वाले हिस्से में रणवीर कहर ढा देते हैं. ये वो हिस्सा है जब सिंबा नाम के नायक को एक भ्रष्ट पुलिस अफसर के तौर पर स्थापित किया जाता है. इस दौरान चमकदार मूंछों के साथ खीसें निपोरते हुए रणवीर सिंह अपने किरदार में गजब की मौलिकता भरते हैं. फिल्म के इस हिस्से में उनकी ऊर्जा और अंदाज देखकर ऐसा लगता है जैसे वे ‘गोविंदा’ नाम की कोई गोली गटककर, अभिनय कर रहे हों!

3

‘सिंबा’ का दूसरा हिस्सा भ्रष्ट सिंबा के अंदर के ईमानदार अफसर के जागने और खलनायकों से बदला लेने को समर्पित है. ये तब होता है जब उसकी मुंहबोली बहन बलात्कार का शिकार होती है, और नायक का ह्दय-परिवर्तन हो जाता है. यहां आकर फिल्म ठीक वैसी हो जाती है जैसे कि 80-90 के दशक की मेलोड्रामा ग्रसित रेप-रिवेंज बॉलीवुड फिल्में हो जाया करती थीं. ये ‘टोनल शिफ्ट’ लेते ही फिल्म का संतुलन बिगड़ जाता है. अब वो समाज की इस बुराई पर दर्शनीय थ्रिलर गढ़ने की जगह, इससे लड़ने के मध्ययुगीन तरीके सुझाने लगती है और कद के साथ-साथ समझ से भी छोटी हो जाती है.

4

रणवीर सिंह फिल्म के दूसरे हिस्से में भी पहले जितना ही मजबूत काम करते हैं और अपने सामने अजय देवगन तक को फीका साबित कर देते हैं. वहीं सारा अली खान को शुक्र मनाना चाहिए कि ‘सिंबा’ उनकी डेब्यू फिल्म नहीं है. वरना भविष्य में वे इसे वैसे ही छिपाने को मजबूर होतीं, जैसे आलिया भट्ट ‘स्टूडेंट ऑफ द इयर’ को छिपाए फिरती हैं!

5

सिंबा देख लीजिए, क्योंकि रणवीर सिंह को मसाला किरदार में जायकेदार अभिनय करते हुए अभी तक आपने नहीं देखा होगा. बस रुई साथ ले जाएं, क्योंकि अमर मोहिले का कर्कश-प्रिय बैकग्राउंड स्कोर आपके कान गरम कर सकता है.

  • अमित शाह, भाजपा

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    तेलंगाना का एक नगर निगम चुनाव भाजपा के लिए इतना बड़ा क्यों बन गया है?

    अभय शर्मा | 30 नवंबर 2020

    सैमसंग गैलेक्सी एस20

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    सैमसंग गैलेक्सी एस20: दुनिया की सबसे अच्छी स्क्रीन वाले मोबाइल फोन्स में से एक

    ब्यूरो | 27 नवंबर 2020

    डिएगो माराडोना

    विचार-रिपोर्ट | खेल

    डिएगो माराडोना को लियोनल मेसी से ज्यादा महान क्यों माना जाता है?

    अभय शर्मा | 26 नवंबर 2020

    निसान मैग्नाइट

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या मैगनाइट बाजार को भाएगी और निसान की नैया पार लगाएगी?

    ब्यूरो | 26 नवंबर 2020