'मणिकर्णिका – द क्वीन ऑफ झांसी' में कंगना रनौट

खरा-खोटा | सिनेमा

पांच बातें जो ‘मणिकर्णिका – द क्वीन ऑफ झांसी’ का ट्रेलर इस फिल्म के बारे में कहता है

‘मणिकर्णिका – द क्वीन ऑफ झांसी’ में कंगना रनौट रानी लक्ष्मीबाई की मुख्य भूमिका निभा रही हैं

ब्यूरो | 18 दिसंबर 2018

1

‘मणिकर्णिका – द क्वीन ऑफ झांसी’ की झलकियों में कंगना रनौट अपने तीखे एक्सप्रेशन्स और बुलंद आवाज के साथ रानी लक्ष्मीबाई को परदे पर उतारने की पूरी कोशिश करती दिखाई दे रही हैं. यहां पर ज्यादातर समय वे आक्रामक नज़र आती हैं और हिंसा से भरे एक्शन दृश्यों को बखूबी अंज़ाम देती दिखती हैं. वे अपने इस अवतार से दर्शकों को थोड़ा चौंकाती तो हैं लेकिन तारीफें भी बटोरने वाली हैं, ऐसा ट्रेलर कहता है.

2

कहानी पर आएं तो ट्रेलर इस बात का अंदाजा नहीं देता है कि ‘मणिकर्णिका – द क्वीन ऑफ झांसी,’ रानी लक्ष्मीबाई की इस जगजानी कहानी को किस तरह का ट्रीटमेंट देने वाली है. वह नहीं बताता कि फिल्म रानी लक्ष्मीबाई की वीरांगना वाली छवि से इतर भी कुछ दिखाने वाली है या फिर अति हिंसा में डूबे दृश्यों के जरिये सिर्फ देशभक्ति के संदेश देने में ही अपना पूरा ध्यान लगाने वाली है.

3

ट्रेलर की एक बड़ी खामी यह है कि यह लक्ष्मीबाई के अलावा बाकी किरदारों से भी आपको ठीक से नहीं मिलवाता. यहां तक कि झलकारी बाई से भी नहीं जो एक मुख्य किरदार तो है ही, साथ ही इस किरदार के जरिये टीवी स्टार अंकिता लोखंडे बॉलीवुड में एंट्री करने भी जा रही हैं. लेकिन यह सिर्फ ट्रेलर की कमी भी हो सकती है.

4

फिल्म की पटकथा, जहां ‘बाहुबली’ के लेखक केवी विजयेंद्र प्रसाद ने लिखी है, वहीं इसका निर्देशन राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता और मशहूर तेलुगु निर्देशक क्रिश ने किया है. इसके साथ ही कुछ महत्वपूर्ण दृश्यों का निर्देशन और शूटिंग के बाद एडिटिंग-प्रोडक्शन का काम कंगना रनौट ने खुद भी किया है. यही वजह है कि क्रेडिट लिस्ट में उनका नाम भी बतौर निर्देशक नज़र आता है.

5

अपने अपीयरेंस, संगीत और संवादों से ‘मणिकर्णिका…’ अच्छा पीरियड ड्रामा हो जाने की बात तो कहती ही है, साथ ही यहां कुछ चौंधिया देने वाले विजुअल्स होने की ओर इशारा भी करती है. और, यह सब मिलकर कहते हैं कि भले ही यह कहानी देखी-सुनी हो लेकिन 25 जनवरी को इसके परदे पर उतरने का इंतजार किया जाना चाहिए.

  • मुलायम सिंह मायावती

    समाचार | बुलेटिन

    24 साल बाद मायावती और मुलायम सिंह यादव के एक मंच पर आने सहित आज के पांच बड़े समाचार

    ब्यूरो | 11 घंटे पहले

    तिरंगा, भारतीय मुद्रा

    विचार | राजनीति

    क्या इलेक्टोरल बॉन्ड्स ने राजनीतिक चंदे की व्यवस्था को और भी कम पारदर्शी कर दिया है?

    ब्यूरो | 13 घंटे पहले

    हेली कॉमेट

    समाचार | आज का कल

    हेली कॉमेट को पहली बार देखे जाने सहित 19 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

    ब्यूरो | 16 घंटे पहले