उरी में विकी कौशल

खरा-खोटा | सिनेमा

उरी: सेना से ज्यादा राजनीति का पराक्रम दिखाने वाला एक उम्दा सरकारी विज्ञापन

कलाकार: विकी कौशल, यामी गौतम, परेश रावल, कीर्ति कुल्हारी, मोहित रैना, रजित कपूर, स्वरूप संपत | निर्देशक: आदित्य धर | लेखक: आदित्य धर | रेटिंग: 2/5

ब्यूरो | 11 जनवरी 2019

1

इस हफ्ते रिलीज हुई ‘उरी’ जब आप देखेंगे, तो लगेगा नहीं कि ये निर्देशक आदित्य धर की पहली फिल्म है. निकट के समय की प्रोपेगेंडा फिल्मों की तुलना में इसका क्राफ्ट उम्दा है और यह एक प्रतिभावान फिल्मकार के आगाज की मुनादी भी करती है. लेकिन अपनी तमाम तकनीकी खूबियों के बावजूद, सर्जिकल स्ट्राइक पर बनी ‘उरी’ एक सरकारी विज्ञापन फिल्म से ज्यादा नहीं हो पाती.

2

फिल्म में राजनेताओं को अहम फैसले लेते हुए बार-बार दिखाया जाता है. और इनके लंबे-लंबे दृश्यों के चलते सेना के जवानों का चेहरा केवल विकी कौशल ही बन पाते हैं. जबकि कोई भी वॉर फिल्म तभी उम्दा बनती है जब वो जंग लड़ने वाले अपने कई सारे सैनिकों को मुख्तलिफ पहचान देकर सीधे दर्शकों के दिल में स्थापित करती है. बॉर्डर और लक्ष्य जैसी कमर्शियल वॉर फिल्में इसीलिए आज भी दर्शकों के लिए यादगार बनी हुई हैं.

3

विकी कौशल का अभिनय ‘’उरी’’ में भी उम्दा है और वे मजबूत शरीर वाले मेजर की भूमिका बेहद ईमानदारी से निभाते हैं. आर्मी हीरोज को उग्र राष्ट्रवादी बनाकर स्टीरियोटाइप करने की बॉलीवुड की आदत के बावजूद, वे अपने किरदार को मानवीय बनाकर ही सबसे बड़ी जीत हासिल करते हैं.

4

परेश रावल, अजीत डोभाल से प्रेरित भूमिका निभाते हैं और उनका अभिनय काफी सराहनीय है. अभिनेत्रियों में कीर्ति कुल्हारी फिल्म में बेवजह हैं तो यामी गौतम एक काबिल एजेंट बनने के बावजूद ज्यादातर वक्त साइड में खड़े रहने को ही मजबूर रहती हैं.

5

कुल मिलाकर ‘उरी’ दर्शकों की उम्मीदों पर पूरी तरह से खरी उतरने वाली फिल्म नहीं है. ‘उरी’ के निराश करने की सबसे बड़ी वजह पटकथा में सेना तथा उसके जवानों से ज्यादा तवज्जो राजनीति को देना है. अगर ”उरी’’ का फोकस सिर्फ सेना का पराक्रम दिखाना होता – बिना किसी राजनीतिक शो-बाजी के – तो इस फिल्म की दर्शनीयता में खासा इजाफा हो सकता था.

  • मुलायम सिंह मायावती

    समाचार | बुलेटिन

    24 साल बाद मायावती और मुलायम सिंह यादव के एक मंच पर आने सहित आज के पांच बड़े समाचार

    ब्यूरो | 12 घंटे पहले

    तिरंगा, भारतीय मुद्रा

    विचार | राजनीति

    क्या इलेक्टोरल बॉन्ड्स ने राजनीतिक चंदे की व्यवस्था को और भी कम पारदर्शी कर दिया है?

    ब्यूरो | 13 घंटे पहले

    हेली कॉमेट

    समाचार | आज का कल

    हेली कॉमेट को पहली बार देखे जाने सहित 19 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

    ब्यूरो | 16 घंटे पहले