सोनचिड़िया में भूमि पेडनेकर और सुशांत सिंह राजपूत

खरा-खोटा | सिनेमा

सोनचिड़िया: एक दुर्लभ और उम्दा फिल्म जो बीहड़ के बागियों की महागाथा भी है

निर्देशक: अभिषेक चौबे | लेखक: सुदीप शर्मा, अभिषेक चौबे | कलाकार : सुशांत सिंह राजपूत, भूमि पेडनेकर, मनोज बाजपेयी, रणवीर शौरी, आशुतोष राणा | रेटिंग: 4/5

ब्यूरो | 01 मार्च 2019

1

सोन चिड़िया बागियों के अंतर्मन में झांकने की महागाथा है. यह फैक्ट और फिक्शन का मारक फेंटा लगाने वाली एक काल्पनिक कहानी कहते हुए चंबल बागियों के मनोविज्ञान को टटोलती है. अपनी महीन लिखाई, आलातरीन निर्देशन, अति की प्रभावशाली सिनेमेटोग्राफी और अलहदा पार्श्व संगीत की वजह से अथाह हिंसा के बावजूद ध्यान में डूबा हुआ एक मेडिटेटिव सिनेमा बन जाती है.

2

चंबल में पाई जाने वाली लेकिन यदा-कदा ही नजर आने वाली दुर्लभ सोनचिरैया नाम की चिड़िया का रूपक भी बेहद प्रभावशाली अंदाज में उपयोग करती है. सुदीप शर्मा के लिखे ‘बीहड़ में सब अपनी-अपनी सोनचिरैया ढूंढ़ रहे हैं’ जैसे मुक्ति और पश्चाताप वाले कई फलसफों से लदे मारक देसी संवाद आपको विशाल भारद्वाज की याद दिलाते हैं.. साफ तौर पर उनके अलावा फिल्म के निर्देशक अभिषेक चौबे पर भी विशाल का विशाल प्रभाव है और  ऐसा होने से ‘सोनचिड़िया’ को विशाल भारद्वाज के लीग की ही सुंदर सिनेमैटिक लैंग्वेज मिलती है.

3

‘बैंडिट क्वीन’ की राह पर चलकर ‘सोनचिड़िया’ जातिवाद, पितृसत्ता, दमित महिलाओं की स्थिति, हिंसा से पैदा दुस्वप्नों जैसी कई थीम्स को समानांतर पटकथा का हिस्सा बनाती है. भूमि पेडनेकर के बहादुर पात्र इंदुमति तोमर के बहाने पारिवारिक हिंसा से लेकर यौन उत्पीड़न तक, और जातिवाद के जहर से लेकर चंबल के हिंसक इतिहास में महिलाओं के होते शोषण पर ज्वलंत कमेंट्री करती है.

4

कहना न होगा कि भूमि पेडनेकर फिल्मी सुंदरता से कोसों दूर खड़े ऐसे किरदार में बेहद प्रभावशाली काम करती हैं. उनको सलाम! उतनी ही ईमानदारी से सुशांत सिंह राजपूत भी बागी बनते हैं. मनोज बाजपेयी जहां मान सिंह नाम के सौम्य-सज्जन काल्पनिक बागी का रोल अकल्पनीय परिपक्वता से अभिनीत करते हैं. वहीं, अक्सर ही शहरी किरदार निभाने वाले अंडररेटिड अभिनेता, रणवीर शौरी अपने काम से आपको अति का प्रभावित करते हैं.

5

अभिनय के अलावा लिखाई, ब्लैक ह्यूमर, निर्देशन, अनुज राकेश धवन की सिनेमेटोग्राफी, खूबसूरत स्लो-मोशन दृश्य और उनमें सुनाई देने वाला अलहदा पार्श्व संगीत मिलकर ‘सोनचिड़िया’ को दुर्लभ और उम्दा फिल्म बनाते हैं. अब ऐसा सिनेमा सम्मोहन नहीं तो और क्या कहलाएगा!

  • बीेजेपी-जेडीयू

    विचार | राजनीति

    भाजपा और जेडीयू के बीच चल रहे संघर्ष में ताजा रुझान क्या हैं?

    ब्यूरो | 13 जुलाई 2019

    गूगल लोगो

    समाचार | अख़बार

    गूगल द्वारा उपभोक्ताओं की बातचीत सुनने की बात स्वीकार किए जाने सहित आज के अखबारों की सुर्खियां

    ब्यूरो | 13 जुलाई 2019

    इंडिगो विमान

    विचार | व्यापार

    इंडिगो एयरलाइन के प्रमोटरों के बीच आखिर किस बात का झगड़ा है?

    ब्यूरो | 13 जुलाई 2019

    एचडी कुमारस्वामी

    समाचार | बुलेटिन

    कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी के विश्वासमत साबित करने के दावे सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 12 जुलाई 2019