मणिकर्णिका में कंगना रनोट

खरा-खोटा | सिनेमा

मणिकर्णिका: जो अभिनेत्री कंगना रनोट का कद बढ़ाती है और लेखक प्रसून जोशी का घटाती है

कलाकार: कंगना रनोट, अंकिता लोखंडे, डैनी डेंग्जोप्पा, अतुल कुलकर्णी, मोहम्मद जीशान अय्यूब | निर्देशक: कृष, कंगना रनोट | रेटिंग: 2.5/5

ब्यूरो | 25 जनवरी 2019

1

मणिकर्णिका के कण-कण में कंगना रनोट हैं. फिल्म में ऐसे फ्रेम गिनती के ही है जिनमें वे नहीं हैं और जैसे ही आपका ध्यान इस पर जाता है, कंगना ओज से भरा कोई संवाद बोलती हुई दोबारा नजर आने लगती हैं. यहां वे सुंदर चंचल राजकुमारी से लेकर गरिमामय महारानी और जाबांज योद्धा के रूप में दिखाई देती हैं. उनके कमाल के एक्सप्रेशन और लाजवाब एक्शन ही इस फिल्म को देखने लायक बनाते हैं.

2

केवी विजयेंद्र प्रसाद की लिखी इस पटकथा में अंग्रेजों और रियासतों के अपसी समीकरण को सरलता से दिखाया जाना अच्छा लगता है लेकिन ऐतिहासिक घटनाओं की नाटकीयता बुरी तरह अखरती है. उस पर संवाद लिखते हुए प्रसून जोशी की बहकी हुई कलम उन दृश्यों की जान भी ले लेती है जो जनमानस की कल्पनाओं में हमेशा आदर्श रहे हैं. जैसे ‘मैं अपनी झांसी नहीं दूंगी’ जैसी अमर पंक्ति भी यहां सही तरह से इस्तेमाल नहीं हो पाई है.

3

फिल्म की बड़ी खामी ये है कि रानी लक्ष्मीबाई के अलावा इसमें बाकी किरदारों को स्थापित नहीं किया गया है. इसके चलते मणिकर्णिका में तात्या टोपे, झलकारी बाई और गौस खान की भूमिका निभाने वाले अतुल कुलकर्णी, अंकिता लोखंडे और डैनी जैसे बेहद प्रतिभाशाली कलाकार भी जाया हो जाते हैं.

4

हिंदी के साथ तमिल और तेलुगु में भी बनी इस फिल्म का एक बड़ा हिस्सा तेलुगु निर्देशक राधाकृष्ण जगरलामुड़ी (कृष) ने और बाकी कंगना रनोट ने निर्देशित किया है. इसलिए निर्देशन की खामियों का ठीकरा किसके सिर फोड़ा जाए, यह कहना मुश्किल है. लेकिन फिल्म से जुड़ी चर्चाओं में अक्सर इस बात का जिक्र रहा है कि जरूरी एक्शन दृश्यों को कंगना रनोट ने दोबारा निर्देशित किया है. सच्चाई का पता नहीं लेकिन ये दृश्य हैं कमाल के.

5

इस फिल्म का संगीत आपको याद रहता है, लोकेशन्स लुभाती हैं और कुछ विजुअल्स प्रभावित करते हैं लेकिन बनी मणिकर्णिका यादगार सिनेमाई अनुभव नहीं बन पाती है. कुल मिलाकर इस फिल्म को देखने की वजह रानी लक्ष्मीबाई और उनकी भूमिका में कंगना रनोट का होना है.

  • सहारा रेगिस्तान

    समाचार | आज का कल

    सहारा रेगिस्तान में बर्फबारी सहित 18 फरवरी को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

    ब्यूरो | 3 घंटे पहले

    मीरवाइज उमर फारुक

    समाचार | अख़बार

    कश्मीरी अगगाववादियों की सुरक्षा वापस लिए जाने सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

    ब्यूरो | 11 घंटे पहले

    नरेंद्र मोदी

    समाचार | अख़बार

    पुलवामा हमले पर सर्वदलीय बैठक सहित आज के अखबारों की पांच बड़ी खबरें

    ब्यूरो | 16 फरवरी 2019