लता मंगेशकर और दिलीप कुमारलता मंगेशकर और दिलीप कुमार

खरा-खोटा | जन्मदिन

एक गाना जो गायक दिलीप कुमार से आपका परिचय करवाता है

दिलीप कुमार ने बेहद सुरीला यह गाना सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर के साथ गाया है

ब्यूरो | 11 दिसंबर 2018 | फोटो: यूट्यूब

1

1957 में निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी की पहली फिल्म ‘मुसाफिर’ रिलीज हुई थी. इसके नायक दिलीप कुमार और नायिका सुचित्रा सेन थीं. इस ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म की सबसे बड़ी खासियत इसमें नायक नहीं बल्कि गायक दिलीप कुमार का होना था. इस फिल्म में संगीत निर्देशक सलिल चौधरी के कहने पर उन्होंने एक पूरा क्लासिकल गीत गाया था – ‘लागी नाहीं छूटे, चाहे जिया जाए’.

2

‘लागी नाहीं छूटे’ एक युगल गीत था जिसमें दिलीप कुमार की सहयोगी गायिका लता मंगेशकर थीं. इसे गाना बेहद मुश्किल इसलिए भी था क्योंकि इसमें ज्यादातर समय वाद्य यंत्रों का इस्तेमाल न के बराबर किया गया है.

3

गाने से जुड़ा किस्सा कुछ यूं है कि एक बार फिल्म के सेट पर दिलीप साहब अपनी धुन में कुछ गुनगुना रहे थे. उसे सुनकर सलिल चौधरी जैसे संगीतकार इतने प्रभावित हुए कि उनसे एक गाना गंवाने की जिद कर बैठे.

4

राग आधारित यह गीत अगर आप सुनें तो खुद ही समझ जाएंगे कि शैलेंद्र के लिखे इन बोलों को दिलीप साहब ने सुर में रहते हुए क्या खूब गाया है. और हां, उस दौर में ऑटो-ट्यून नहीं था कि खराब आवाज को आज की तरह मधुर बना देता.

5

इस क्लासिकल गीत को सुनने पर साफ जाहिर होता है कि दिलीप साहब के पास अद्भुत अभिनय के अलावा एक नेचुरल सिंगर वाला कमाल का गला भी था. यह और बात है कि ऐसी मधुर और सधी आवाज का फिर कभी इस्तेमाल नहीं किया गया.

सत्याग्रह की रिपोर्ट पर आधारित

  • डॉक्टर

    विचार-रिपोर्ट | कोविड-19

    ऑक्सीजन और आईसीयू के बाद अगला महासंकट डॉक्टरों और नर्सों की कमी के रूप में सामने आ सकता है

    ब्यूरो | 05 मई 2021

    सीटी स्कैन

    ज्ञानकारी | स्वास्थ्य

    कोरोना संक्रमण होने पर सीटी स्कैन कब करवाना चाहिए?

    ब्यूरो | 04 मई 2021

    इंडिगो विमान

    विचार-रिपोर्ट | अर्थव्यवस्था

    पैसे वाले भारतीय इतनी बड़ी संख्या में देश छोड़कर क्यों जा रहे हैं?

    ब्यूरो | 27 अप्रैल 2021

    कोरोना वायरस

    विचार-रिपोर्ट | स्वास्थ्य

    ट्रिपल म्यूटेशन वाला कोरोना वायरस अपने पिछले स्वरूपों से कितना ज्यादा खतरनाक है?

    ब्यूरो | 22 अप्रैल 2021