अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

रिपोर्ट | विदेश

शटडाउन का अमेरिका पर क्या असर हो रहा है?

बीते कई हफ्तों से अमेरिका के सरकारी दफ्तरों में कामकाज बंद होने का असर अब वहां के आम जीवन पर साफ दिखाई देने लगा है

ब्यूरो | 19 जनवरी 2019

1

मेक्सिको की सीमा पर दीवार बनाने को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों के बीच चला आ रहा गतिरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है. इसके कारण अमेरिकी संसद में धन विधेयक अटका पड़ा है जिसकी वजह से सरकारी दफ्तरों का कामकाज ठप है. तकरीबन आठ लाख सरकारी कर्मचारी जो फेडरल गवर्नमेंट यानी अमेरिका की संघीय सरकार के लिए काम करते हैं, बीते कई हफ्तों से वेतन भत्ते के बगैर काम कर रहे हैं. ऐसे हालात में ये सब अपने जरूरी बिलों, लोन और इंश्योरेंस की किस्तों आदि का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अगर जल्द ही हालात नहीं सुधरे तो इन्हें खाने-पीने की मुश्किलों का सामना भी करना पड़ सकता है.

2

शटडाउन की वजह से ट्रांसपोर्ट खासकर हवाई सेवाओं की हालत खराब हो रही है. अमेरिका में ज्यादातर विमानन सेवा निजी कंपनियां देती हैं लेकिन इसकी सुऱक्षा का जिम्मा एक सरकारी निकाय ट्रांसपोर्ट सेक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेशन (टीएसए) के पास है. शटडाउन के बाद से टीएसए के ज्यादातर कर्मचारी छुट्टी पर चले गए हैं. इसके चलते यहां के एयरपोर्ट्स् पर कई सिक्योरिटी काउंटर्स बंद रहने लगे हैं और वहां भीड़ बढ़ने लगी है. ऐसा ही कुछ फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन के साथ भी हो रहा है. शटडाउन की वजह से एयर ट्रैफिक को कंट्रोल करने वाले इस विभाग के स्टाफ पर काम का अतिरिक्त बोझ आ गया है.

3

पिछले कुछ समय से वाशिंगटन और कई बड़े शहरों के कम्युनिटी पार्क और सार्वजनिक जगहों पर कूड़े के ढेर आसानी से देखे जा सकते हैं. कई जगहों पर ऐसा होने की वजह से नेशनल पार्क्स और स्मारकों को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया है. पर्यावरण सुरक्षा के लिए काम करने वाली एजेंसियां भी यहां अपना काम ठीक से नहीं कर पा रही हैं. इसके चलते हवा में मौजूद प्रदूषकों की रूटीन जांच और सफाई का काम बीती 28 दिसंबर से बंद हैं.

4

अमेरिका में शटडाउन के चलते ‘डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेज’ द्वारा चलाए जाने वाले कई स्वास्थ्य कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए हैं. दि न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक पौष्टिक भोजन की उपलब्धता से जुड़ा सरकार का सबसे बड़ा कार्यक्रम ‘सप्लिमेंटल न्यूट्रिशनल असिस्टेंस प्रोग्राम’ भी पैसों की कमी के चलते जनवरी के आखिर तक बंद हो सकता है.

5

मीडिया के मुताबिक नासा समेत अमेरिका के तमाम वैज्ञानिक अनुसंधान संस्थानों में चल रहे शोध कार्य फिलहाल रोक दिए गए हैं. यहां तक कि आपात स्थितियों से निपटने के लिए काम करने वाली फेडरल एमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी (फेमा) भी अपने कॉन्ट्रैक्टरों का भुगतान ठीक से नहीं कर पा रही है. इसका मतलब यह है कि अमेरिका इस समय अचानक आई किसी प्राकृतिक आपदा का सामना करने के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मैक्सिको की सीमा पर दीवार बनाने के लिए आपात बजट से पैसा निकालने की चेतावनी भी दी है. उनके ऐसा करने से फेमा की फंड संबंधी मुश्किलें और बढ़ सकती हैं.

  • मुलायम सिंह मायावती

    समाचार | बुलेटिन

    24 साल बाद मायावती और मुलायम सिंह यादव के एक मंच पर आने सहित आज के पांच बड़े समाचार

    ब्यूरो | 12 घंटे पहले

    तिरंगा, भारतीय मुद्रा

    विचार | राजनीति

    क्या इलेक्टोरल बॉन्ड्स ने राजनीतिक चंदे की व्यवस्था को और भी कम पारदर्शी कर दिया है?

    ब्यूरो | 13 घंटे पहले

    हेली कॉमेट

    समाचार | आज का कल

    हेली कॉमेट को पहली बार देखे जाने सहित 19 अप्रैल को घटी पांच प्रमुख घटनाएं

    ब्यूरो | 16 घंटे पहले