ममता बनर्जी और के चंद्रशेखर राव

विचार और रिपोर्ट | राजनीति

क्यों फिलहाल किसी तीसरे मोर्चे का बनना संभव नहीं लगता?

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने तीसरे मोर्चे को बनाने के लिए दूसरे क्षेत्रीय दलों के नेताओं से मिलना शुरू कर दिया है

ब्यूरो | 24 दिसंबर 2018 | फोटो: फेसबुक

1

हाल ही में दूसरी बार तेलंगाना के मुख्यमंत्री बने के चंद्रशेखर राव एक बार फिर से तीसरा मोर्चा बनाने की कवायद में लग गए हैं. तेलंगाना राष्ट्र समिति के सर्वेसर्वा केसीआर अगले लोकसभा चुनावों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक गैर कांग्रेस और गैर भाजपा विकल्प तैयार करना चाहते हैं. वे पहले भी इस तरह के राष्ट्रीय मोर्चे की बात किया करते थे लेकिन विधानसभा चुनाव में भारी जीत के बाद से वे खासे उत्साहित हैं.

2

के चंद्रशेखर राव ने तीसरे मोर्चे के लिए समर्थन जुटाने के मकसद से दूसरे क्षेत्रीय दलों के नेताओं से मिलना शुरू कर दिया है. रविवार को उनकी मुलाकात ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से हुई. इसमें दोनों ने तीसरा राष्ट्रीय मोर्चा बनाने की दिशा में आगे बढ़ने की बात कही. इसके अगले ही दिन केसीआर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी मिले और जल्द ही उनकी मुलाकात मायावती और अखिलेश यादव से भी होने वाली है.

3

लेकिन अभी की राष्ट्रीय राजनीति में दो खेमे स्पष्ट तौर पर दिख रहे हैं. एक नरेंद्र मोदी और भाजपा का है और दूसरा खेमा कांग्रेस के साथ अन्य क्षेत्रीय दलों का है. इसी दूसरे खेमे में वामपंथी दल भी हैं. इसके पहले जब भी राष्ट्रीय स्तर पर तीसरा मोर्चा बना है, उसमें हमेशा वाम दल भी शामिल रहे हैं.

4

मायावती और आखिलेश यादव के बारे में भी यह कहा जा रहा है कि ये दोनों भले ही कांग्रेस से अलग होकर 2019 का चुनाव लड़ें लेकिन अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने की स्थिति आई तो ये उसके साथ ही रहेंगे. ममता बनर्जी के बारे में भी यही बात कही जा रही है.

5

यानी कि के चंद्रशेखर राव के तीसरे मोर्चे में उनके इकलौते मजबूत साझीदार नवीन पटनायक ही दिख रहे हैं. ऐसे में ज्यादातर लोगों को यह लगता है कि राष्ट्रीय मोर्चा बनाने की कोशिश वे चाहे जितनी भी कर लें लेकिन मोदी बनाम सभी वाले 2019 के लोकसभा चुनावों में इसके आकार लेने की संभावना काफी कम है.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019