सोनिया गांधी

विचार और रिपोर्ट | राजनीति

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनीं सोनिया गांधी के सामने क्या प्रमुख चुनौतियां हैं?

अगले छह महीनों में दिल्ली, महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए सोनिया गांधी को कांग्रेस पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनाया गया है

ब्यूरो | 13 अगस्त 2019 | फोटो: विकीमीडिया

1

कांग्रेस अध्यक्ष पद से राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद चर्चा थी कि गांधी परिवार के बाहर के किसी व्यक्ति को अध्यक्ष बनाया जाएगा. लेकिन 2017 में अध्यक्ष पद छोड़ने वाली सोनिया गांधी को ही एक बार फिर से पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बना दिया गया.

2

दो साल के अंदर एक बार फिर से कांग्रेस की कमान अपने हाथों में लेने के बाद अब सोनिया गांधी को कई चुनौतियों का सामना करना है. इनमें से कुछ निजी स्तर की हैं तो अधिकांश राजनीतिक स्तर की. निजी तौर पर उनकी चुनौती खराब सेहत है. इसके पहले जब वे अध्यक्ष थीं तो उनके सामने उत्तराधिकारी के तौर पर राहुल गांधी का नाम बिल्कुल साफ था. लेकिन इस बार ये चुनौती और भी बड़ी इसलिए है कि जब वे अंतरिम अध्यक्ष का पद छोड़ेंगी तो नया अध्यक्ष कौन बनेगा.

3

राजनीतिक चुनौतियों में उन्हें पार्टी के अंदर भी मुश्किलों का सामना करना है और बाहर भी. कांग्रेस के कई प्रमुख नेता पिछले कुछ दिनों में भाजपा में शामिल हुए हैं. ऐसे में सोनिया गांधी के लिए सबसे बड़ी चुनौती ये होने वाली है कि अपने नेताओं को भाजपा में शामिल होने से कैसे रोका जाए. पार्टी में आंतरिक स्तर पर सोनिया की दूसरी चुनौती ये है कि अब भी कांग्रेस में उनके जमाने की पुरानी टीम ही मुख्य भूमिकाओं में है. ऐसे में खुद नई टीम तैयार करना या अगले अध्यक्ष का चुनाव होने तक इसी के साथ काम करना दोनों ही बातें काफी मुश्किल हैं.

4

कांग्रेस के अंदर सोनिया गांधी की तीसरी चुनौती ये है कि लोकसभा चुनावों में मिली करारी हार के बाद कार्यकर्ताओं और नेताओं में जबर्दस्त निराशा का माहौल है. राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश के बाद नेतृत्व को लेकर बनी भ्रम की स्थिति ने इस संकट को और गहरा किया है.

5

पार्टी से बाहर सोनिया गांधी की सबसे बड़ी चुनौती ये है कि उन्हें विस्तार की राह पर बढ़ रही भाजपा के मुकाबले एक वैकल्पिक राजनीतिक एजेंडा तैयार करना है. इसके अलावा उनके सामने एक बड़ी चुनौती आने वाले विधानसभा चुनाव भी हैं. अगले छह महीनों में महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड और दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने हैं. इनसे पहले वे पार्टी में जमीनी स्तर पर कितनी जान फूंक पाती हैं, यह भी देखा जाना है.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019