विचार और रिपोर्ट | विदेश

अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध में सोयाबीन सबसे बड़ा हथियार कैसे बन गया है?

बीते हफ्ते चीन की सरकार ने अमेरिकी सोयाबीन का आयात फिलहाल बंद करने का फैसला किया है

ब्यूरो | 12 मई 2019 | फोटो : geneticliteracyproject.org

1

बीते महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ व्यापार युद्ध में एक और कदम आगे बढ़ा दिया. उन्होंने चीन को बड़ा झटका देते हुए उसके 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर आयात शुल्क ढाई गुना तक बढ़ा दिया. इसके चलते अमेरिका में चीनी सामान की कीमत में 10 से 25 फीसदी तक का उछाल आ गया. अमेरिका के इस कदम पर चीन ने जल्द प्रतिक्रिया देने की बात कही थी.

2

अब खबर आयी है कि चीन ने अमेरिकी सोयाबीन का आयात फिलहाल बंद करने का फैसला किया है. अमेरिका दुनिया का सबसे बड़ा सोयाबीन उत्पादक देश है और इसे उसकी खेती की रीढ़ माना जाता है. ऐसे में इस खबर ने अमेरिकी किसानों और कृषि विभाग को चिंतिति कर दिया है. चीन पूरी दुनिया का करीब दो-तिहाई सोयाबीन अकेले खरीदता है. इसमें अमेरिका का करीब 60 फीसदी सोयाबीन भी शामिल है. ऐसे में जाहिर है कि चीन के सोयाबीन न खरीदने की सीधी मार अमेरिकी किसानों को झेलनी पड़ेगी.

3

जानकारों की मानें तो अमेरिका से चल रहे व्यापार युद्ध में चीन ने यह चाल काफी सोच-समझकर चली है. चीन जानता है कि अमेरिका से आने वाले उत्पादों में सोयाबीन ही ऐसा है जिससे अमेरिकी सरकार पर चौतरफा दबाव बनाया जा सकता है. बीते साल भी जब चीन ने उसके सोयाबीन पर आयात शुल्क बढ़ा दिया था तब अमेरिका में इसका बड़ा असर देखने को मिला था. उस समय हालात इतने खराब होने लगे थे कि ट्रंप प्रशासन को करीब 12अरब डॉलर की कृषि सब्सिडी की घोषणा करनी पड़ी थी.

4

ट्रंप इस मुद्दे को लेकर कितने चिंतित हैं इसका पता बीते साल अमेरिका और यूरोप के बीच हुए एक समझौते से भी चलता है. यह समझौता दोनों के बीच व्यापार युद्ध खत्म करने के लिए हुआ था और इसमें ट्रंप ने यूरोप के सामने पहले से कई गुना ज्यादा सोयाबीन खरीदने की शर्त रखी थी. ऐसा करके ट्रंप चीन से हो रहे नुकसान की कुछ भरपाई यूरोप से करना चाहते थे.

5

अमेरिकी जानकारों के मुताबिक अमेरिका के ओहायो, आयोवा, नेब्रास्का, इंडियाना और मिसौरी सोयाबीन के सबसे बड़े उत्पादक राज्य हैं. 2016 के राष्ट्रपति चुनावों में इन राज्यों में डोनाल्ड ट्रंप की बड़ी जीत हुई थी. ऐसे में अमेरिका के साथ व्यापार युद्ध में चीन के लिए सोयाबीन एक ऐसा हथियार है जिससे सीधे तौर पर भी डोनाल्ड ट्रंप पर दबाव बनाया जा सकता है.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019