फीफा, महिला फुटबॉल विश्वकप-2019, शुभंकर इटी

ज्ञानकारी | खेल

महिला फुटबॉल विश्वकप-2019 से जुड़ी पांच बातें

महिला फुटबॉल विश्वकप-2019 फ्रांस में सात जून से सात जुलाई के बीच आयोजित किया जा रहा है

ब्यूरो | 07 जून 2019

1

टीम:

दुनिया भर के छह फुटबॉल कनफेडरेशन्स से कुल 24 टीमें विश्वकप में हिस्सा ले रही है. यूरोप से सबसे ज्यादा नौ टीमें, एशिया से पांच, लैटिन अमेरिका और अफ्रीका से तीन-तीन टीमें विश्वकप का हिस्सा हैं. इस साल चिली, जमैका, साउथ अफ्रीका और स्कॉटलैंड से विश्वकप में डेब्यू करने वाली टीमें शामिल हुई हैं. इन्हें छह ग्रुप में बांटा गया है –

ग्रुप ए – फ्रांस, दक्षिण कोरिया, नॉर्वे, नाइजीरिया.

ग्रुप बी – जर्मनी, चीन, स्पेन, साउथ अफ्रीका.

ग्रुप सी – ऑस्ट्रेलिया, इटली, ब्राजील, जमैका.

ग्रुप डी – इंग्लैंड, स्कॉटलैंड, अर्जेंटीना, जापान.

ग्रुप ई – कनाडा, कैमरून, न्यूजीलैंड, नीदरलैंड.

ग्रुप एफ – यूनाइटेड स्टेट्स, थाइलैंड, चिली, स्वीडन.

2

फॉरमैट:

ग्रुप राउंड में इन छहों समूहों की टीमें आपस में भिड़ेंगी. इनमें से शीर्ष दो टीमें अपने आप राउंड-16 यानी प्री-क्वार्टर फाइनल के लिए क्वालिफाई कर लेंगी. तीसरे नंबर पर रहने वाली टीमों में से वे चार टीमें जिनके अंक सबसे ज्यादा होंगे, राउंड-16 के लिए चुन ली जाएंगी

3

शेड्यूल:

ग्रुप स्टेज मैच – 07 जून से 21 जून तक.

राउंड – 16 मैच – 22 जून से 25 जून तक.

क्वार्टर फाइनल मैच – 27, 28 और 29 जून.

सेमी फाइनल मैच – 02 और 03 जून.

थर्ड प्लेस मैच – 06 जून.

फाइनल मैच – 07 जून.

4

ब्रॉडकास्टिंग:

फ्रांस में सात जून को रात नौ बजे होने वाला पहला मैच, भारतीय समयानुसार आठ जून को रात साढ़े बारह बजे से शुरू होगा. यानी भारत में यह विश्वकप आठ जून से शुरू हुआ माना जा सकता है. भारत में इसका प्रसारण अधिकार सोनी पिक्चर्स नेटवर्क को दिया गया है. सोनी लिव चैनल पर इसका सीधा प्रसारण किया जाएगा.

5

खास बात:

महिला फुटबाल विश्वकप में वीडियो असिस्टेंट रेफरी पहली बार इस्तेमाल किया जाएगा. इसके लिए चार कनफेडरेशन के 15 प्रतिनिधि कैमरों के जरिए मैचों की निगरानी करेंगे.

  • ममता बनर्जी

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    पश्चिम बंगाल में चुनाव कराने के तरीके को लेकर चुनाव आयोग की आलोचना करना कितना जायज़ है?

    ब्यूरो | 05 मार्च 2021

    किसान आंदोलन

    विचार-रिपोर्ट | किसान

    क्या किसान आंदोलन कमजोर होता जा रहा है?

    ब्यूरो | 03 मार्च 2021

    नरेंद्र मोदी स्टेडियम

    तथ्याग्रह | राजनीति

    क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

    ब्यूरो | 26 फरवरी 2021

    अमित शाह

    विचार-रिपोर्ट | राजनीति

    क्या पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्यवाही ने भाजपा को वह दे दिया है जिसकी उसे एक अरसे से तलाश थी?

    ब्यूरो | 24 फरवरी 2021