कोरोना वायरस वैक्सीन

ज्ञानकारी | कोरोना वायरस

कोवीशील्ड और कोवैक्सिन एक-दूसरे से कितनी अलग हैं और वे विवादों में क्यों हैं?

भारत में कोरोना वायरस की दो वैक्सीनों - कोवीशील्ड और कोवैक्सिन - को आपातकालीन उपयोग की मंजूरी मिल गई है

ब्यूरो | 05 जनवरी 2021 | फोटो : पिक्सल्स

1

किन संस्थानों ने बनाया है?

कोवीशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटेन की फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने मिलकर बनाया है. भारत में पुणे का सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) इसका मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर है. इस वैक्सीन को भारत से पहले ब्रिटेन, अर्जेंटीना व अल-सल्वाडोर में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है. अगर, कोवैक्सिन की बात करें तो यह पूर्ण रूप से स्वदेशी वैक्सीन है. इसे हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने सरकारी संस्था इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के साथ मिलकर बनाया है.

2

कैसे विकसित हुईं?

कोवीशील्ड वैक्सीन एडिनोवायरस की क्षमता को कमजोर कर के बनाई गई है ताकि लोग इससे संक्रमित न हों. एडिनोवायरस जानवरों विशेषकर चिम्पांजी में सर्दी-खांसी जैसे लक्षण पैदा करता है. भारत बायटेक की ‘कोवैक्सिन’ के निर्माण में मृत कोरोना वायरस का इस्तेमाल किया गया है. ऐसा इसलिए किया गया है ताकि यह लोगों को नुकसान न पहुंचाए. दोनों वैक्सीन शरीर में प्रवेश करने के बाद कोरोना संक्रमण के खिलाफ एंटीबॉडीज़ पैदा करती हैं.

3

ट्रॉयल और नतीजे

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजेआई) के मुताबिक ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका ने दुनिया भर में 23,745 लोगों पर कोवीशील्ड का ट्रायल किया है. ट्रायल के नतीजों के अनुसार वैक्सीन को औसतन 70.4 प्रतिशत लोगों पर प्रभावी पाया गया. भारत में तीसरे चरण में इसका ट्रायल 1,600 लोगों पर किया गया है जिसके नतीजे अभी सार्वजनिक नहीं हुए हैं. हालांकि, डीसीजीआई का कहना है कि भारत में हुए ट्रायल के नतीजे अंतरराष्ट्रीय ट्रायल से मिलते-जुलते ही हैं. वहीं स्वदेशी कोवैक्सिन के पहले और दूसरे चरण का ट्रायल 800 लोगों पर किया गया था. इनमें वैक्सीन का इम्यून रिस्पॉन्स अच्छा पाया गया. तीसरे चरण के तहत 25,800 लोगों पर ट्रायल शुरू किया गया है, जिसमें अभी तक 22,500 लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है. तीसरे ट्रायल के नतीजे अभी जारी नहीं हुए हैं. हालांकि, डीसीजीआई के मुताबिक यह वैक्सीन इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है. कोवीशील्ड और कोवैक्सिन दोनों ही दो खुराक वाले टीके हैं जिन्हें कुछ हफ्तों के अंतर से दिया जाता है.

4

टीकों की कीमत

सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला का एक साक्षात्कार में कहना है कि कोवीशील्ड की पहली 100 मिलियन (दस करोड़) खुराकें भारत सरकार को दी जाएंगी. सरकार को कोवीशील्ड वैक्सीन की एक खुराक 200 रुपये में दी जाएगी. इसके बाद जब सरकार वैक्सीन को बाजार में बेचने की इजाजत देगी तो यह आम लोगों के लिए एक हजार रुपये में उपलब्ध होगी. भारत बायोटेक के वैक्सीन की कीमत अभी तक बताई नहीं गई है. हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कुछ समय पहले भारत बायोटेक के एमडी डॉक्टर कृष्ण एला ने कहा था कि इस वैक्सीन की कीमत पानी की बोतल से भी कम होगी. तभी से कयास लगाए जा रहे हैं कि कोवैक्सिन की कीमत 100 रुपये से कम हो सकती है.

5

विवाद की वजह

भारत में बीते रविवार को कोवीशील्ड और कोवैक्सिन को अनुमति दिए जाने के बाद कई जानकारों और नेताओं ने इस फैसले पर सवाल उठाए हैं. इनका कहना है कि दोनों वैक्सीनों के तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजे जारी किए बिना ही इन्हें अनुमति कैसे दे दी गई. किसी वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि इसमें सबसे ज्यादा लोग शामिल होते हैं. इसके परिणामों के आधार पर पता लगाया जाता है कि कोई दवा कितने प्रतिशत लोगों पर असर कर रही है. भारत में कोवीशील्ड के तीसरे चरण का ट्रायल 1,600 लोगों पर किया गया है, लेकिन ट्रायल के आंकड़े जारी नहीं किए गए हैं. हालांकि, अंतरराष्ट्रीय स्तर हुए ट्रायल के नतीजों के चलते इस पर कम सवाल उठाये जा रहे हैं. लेकिन, कोवैक्सिन को लेकर विवाद ज्यादा है क्योंकि इसका पहला और दूसरा ट्रायल महज 800 लोगों पर ही किया गया था. ऐसे में 25 हजार से ज्यादा लोगों पर किये जा रहे तीसरे ट्रायल के नतीजे काफी मायने रखते हैं, जिन्हें अभी तक सार्वजनिक नहीं किया गया है.

  • भारतीय भोजन की थाली

    विचार-रिपोर्ट | संसद

    क्या संसद की कैंटीन से सब्सिडी हटने का सबसे ज्यादा नुकसान सांसदों को ही होने वाला है?

    ब्यूरो | 21 जनवरी 2021

    वाट्सएप

    विचार-रिपोर्ट | तकनीक

    क्यों हमें वाट्सएप की मनमानी रोकने के लिए यूरोप से सबक लेने की जरूरत है

    ब्यूरो | 19 जनवरी 2021

    केपी शर्मा ओली नेपाल

    विचार-रिपोर्ट | विदेश

    जब चीन से इतनी दोस्ती है तो नेपाल कोरोना वायरस की भारतीय वैक्सीन को क्यों तरजीह दे रहा है?

    अभय शर्मा | 17 जनवरी 2021

    पोल्ट्री

    ज्ञानकारी | स्वास्थ्य

    क्या यह सच है कि चिकन या अंडा खाने से बर्ड फ्लू हो सकता है?

    ब्यूरो | 15 जनवरी 2021