नरेंद्र मोदी स्टेडियम

तथ्याग्रह | राजनीति

क्या सरकार का यह दावा सही है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम पहले सरदार पटेल स्टेडियम नहीं था?

अहमदाबाद में दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का नाम नरेंद्र मोदी स्टेडियम रखा गया है. विपक्ष का आरोप है कि ऐसा करना सरदार पटेल का अपमान है

अभय शर्मा | 26 फरवरी 2021 | फोटो : जीसीए/फेसबुक

1

विवाद कैसे शुरु हुआ?

बीते बुधवार को गुजरात के अहमदाबाद में बने दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया. हाल ही में इस स्टेडियम का पुनर्निर्माण हुआ है और इसमें एक साथ एक लाख दस हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था की गयी है. लेकिन उद्घाटन के बाद से ही अपनी भव्यता से ज्यादा यह स्टेडियम एक दूसरी वजह से सुर्ख़ियों में छाया हुआ है. दरअसल, बुधवार को जैसे ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रिमोट का बटन दबाकर इस स्टेडियम का उद्घाटन किया तो कई लोगों को काफी हैरानी हुई. इसकी वजह थी कि सामने स्क्रीन पर इस स्टेडियम का नया नाम ‘नरेंद्र मोदी स्टेडियम’ लिखा हुआ था. राष्ट्रपति ने उद्घाटन के बाद अपने संबोधन में कहा, ‘इस स्टेडियम की परिकल्पना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की थी, जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे. वे उस समय गुजरात क्रिकेट संघ के अध्यक्ष थे. यह स्टेडियम पर्यावरण के अनुकूल विकास का एक उदाहरण है.’ इसके बाद कार्यक्रम में मौजूद गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, ‘हमने इस स्टेडियम का नामकरण देश के प्रधानमंत्री के नाम पर करने का फैसला किया है. यह मोदी जी का ड्रीम प्रोजेक्ट था.’

2

विपक्ष का आरोप

स्टेडियम के उद्घाटन के तुरंत बाद इसे लेकर टीवी चैनलों और सोशल मीडिया पर बहस शुरू हो गई. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम की जगह स्टेडियम का नाम नरेंद्र मोदी रखा गया है और ऐसा करना सरदार पटेल का अनादर करना है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने एक ट्वीट में लिखा, ‘अब लौहपुरुष सरदार पटेल को भी वणक्कम! पहले महात्मा गांधी को खादी कैलेंडर से ग़ायब किया और अब मोटेरा स्टेडियम से सरदार पटेल को. एक “आत्ममुग्ध” प्रधानमंत्री और चाटुकारों की सरकार से इसी शर्मनाक व्यवहार की उम्मीद थी. जान लें, ‘बापू’ और ‘सरदार’ का नाम भाजपाई कभी नहीं मिटा सकते.’ इस नए नवेले स्टेडियम में एक छोर का नाम ‘अडानी पवेलियन एंड’ और दूसरे छोर का नाम ‘रिलायंस एंड’ रखा गया है, इसे लेकर भी सोशल मीडिया पर घमासान छिड़ गया. लोग ये सवाल पूछने लगे कि क्या स्टेडियम के बाद अब गुजरात का भी नाम बदलने जा रहा है? इसे लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी एक ट्वीट किया. इसमें उन्होंने लिखा, ‘सच किस तरह से सामने आता है. नरेंद्र मोदी स्टेडियम, अडानी एंड, रिलायंस एंड, जय शाह की अध्यक्षता में!’ इस ट्वीट में उन्होंने हैशटैग भी लगाया हम दो हमारे दो.

3

केंद्र और राज्य सरकार की सफाई

स्टेडियम का नाम बदलने को लेकर जब बवाल हुआ तो केंद्र और गुजरात सरकार, दोनों ने ही इसे लेकर सफाई दी. कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने एक ट्वीट में लिखा कि ‘पूरे कॉम्प्लेक्स का नाम सरदार पटेल स्पोर्ट्स एन्क्लेव है, केवल क्रिकेट स्टेडियम का नाम ही पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर रखा गया है. विडम्बना ये है कि जिस परिवार ने सरदार पटेल के निधन के बाद भी उनका सम्मान नहीं किया, वो आज इस बात पर हंगामा मचा रहा है.’ गुजरात सरकार की ओर से इस मामले पर राज्य के उप मुख्य्मंत्री नितिन पटेल का कहना था कि इस स्टेडियम का नाम कभी सरदार पटेल के नाम पर था ही नहीं. पीआईबी द्वारा पोस्ट किए गए एक वीडियो के मुताबिक नितिन पटेल ने कहा, ‘यह स्टेडियम गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के स्वामित्व में है और इसे हमेशा ‘मोटेरा स्टेडियम’ के रूप में जाना जाता था. इसलिए अब इसका नाम बदलने का कोई सवाल ही नहीं है. वह नरेंद्र मोदी ही थे, जिन्होंने सबसे पहले पुराने स्टेडियम की जगह पर नए स्टेडियम को बनाने का विचार सामने रखा, जब वो गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष थे.’ उन्होंने भी यह जोड़ा कि मोटेरा में नरेंद्र मोदी स्टेडियम, जिसका उद्घाटन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा किया गया है, एक बड़े परिसर का हिस्सा है, जिसका नाम अभी भी ‘सरदार पटेल स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स’ ही है.

4

गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन इस स्टेडियम का क्या नाम लिखता था?

अगर इस मामले में जानकारों की मानें तो जब 1983 में यह स्टेडियम बना था, तब इसका नाम ‘गुजरात स्टेडियम’ था. इसके बाद साल 1994-95 में इस स्टेडियम के नाम के आगे सरदार वल्लभ भाई पटेल का नाम जोड़ दिया गया. जानकार यह भी बताते हैं कि यह स्टेडियम अहमदाबाद के मोटेरा इलाके में बना हुआ है, इसलिए इसका पूरा नाम ‘सरदार पटेल गुजरात स्टेडियम, मोटेरा’ हो गया था. अगर गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन (जीसीए) की वेबसाइट पर जाएं तो वहां उसके यूट्यूब चैनल का लिंक दिया हुआ है. इस यूट्यूब चैनल पर बीती पांच फरवरी को ही एक वीडियो अपलोड किया गया है जिसका टाइटल ‘ग्लिम्पसेज ऑफ ओल्ड सरदार पटेल मोटेरा स्टेडियम’ है. इस टाइटल के अलावा इस वीडियो में भी ‘सरदार पटेल गुजरात स्टेडियम, मोटेरा’ लिखकर आता है. हालांकि, इस यूट्यूब चैनल पर कुछ पुराने वीडियो ऐसे भी मिले जिनमें इस स्टेडियम को केवल ‘मोटेरा स्टेडियम’ ही कहा गया है. इसी तरह अगर जीसीए के फेसबुक पेज पर जाएं तो इसमें लिखे कुछ पोस्ट्स में इस स्टेडियम को ‘सरदार पटेल स्टेडियम, मोटेरा’ और ‘मोटेरा स्टेडियम’ दोनों से ही संबोधित किया गया है.

5

अन्य संस्थाएं इस स्टेडियम का क्या नाम लिखती थीं?

बीते साल अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जब भारत यात्रा पर आये थे तो उनके स्वागत में एक भव्य कार्यक्रम गुजरात के इसी स्टेडियम में रखा गया था. उस समय कई मीडिया संस्थानों ने इस स्टेडियम का नाम सरदार पटेल स्टेडियम लिखा था. यहां तक कि सरकारी मीडिया चैनलों दूरदर्शन और डीडी उर्दू के साथ-साथ प्रसार भारती ने भी अपने ट्वीट्स में इसे ‘सरदार पटेल स्टेडियम’ ही लिखा था. गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अलावा भी क्रिकेट से जुड़ी कुछ संस्स्थाएं इस स्टेडियम को ‘सरदार पटेल स्टेडियम, मोटेरा’ लिखती रही हैं. 24 फरवरी से इस स्टेडियम में खेले गए टेस्ट मैच का प्रीव्यू, क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था – आईसीसी – की वेबसाइट पर बीती 22 फरवरी को प्रकाशित हुआ है. इसमें साफ़ तौर पर स्टेडियम का नाम सरदार पटेल स्टेडियम लिखा हुआ है. इसके अलावा बीते हफ्ते जब इंग्लैंड की क्रिकेट टीम टेस्ट मैच खेलने इस स्टेडियम में पहुंची थी, तब इंग्लैंड के क्रिकेट बोर्ड ने एक ट्वीट किया था जिसमें स्टेडियम का नाम सरदार पटेल स्टेडियम ही लिखा गया था.

  • रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021

    कोविड 19 की वजह से मरने वाले लोगों की चिताएं

    आंकड़न | कोरोना वायरस

    भारत में अब तक कोरोना वायरस की वजह से कितने लोगों की मृत्यु हुई होगी?

    ब्यूरो | 27 मई 2021