म्यूजिक टीचर में मानव कौल और अमृता बागची

मनोरंजन | सिनेमा

म्यूजिक टीचर: एक ऐसा सिनेमा जिसे देखना, किताब पढ़ने सरीखा सुकून देता है

कलाकार: मानव कौल, अमृता बागची, दिव्या दत्ता, नीना गुप्ता | लेखक-निर्देशक: सार्थक दासगुप्ता | रेटिंग: 3/5

ब्यूरो | 22 अप्रैल 2019

1

एक जमाने में ‘द ग्रेट इंडियन बटरफ्लाई’ (2007) नाम की इंडी फिल्म बनाने वाले निर्देशक सार्थक दासगुप्ता की दूसरी फिल्म ‘म्यूजिक टीचर’ का शिल्प पहली फिल्म से बेहद मुख्तलिफ और निखरा हुआ है. उनका कैमरा (कौशिक मंडल) मनाली की ‘फिल्मी’ लोकेशन्स की जगह ऊंचे-ऊंचे दरख्तों के बीच घूमता हुआ मिलता है और स्थानीय जीवन को पकड़ने की उम्दा कोशिश करता है.

2

नेटफ्लिक्स की इस मौलिक हिंदी फिल्म की खास बात इसके मुख्य किरदार (बेनी माधव) के आंतरिक द्वद्वों को खूबसूरती से उकेरा जाना है. इस किरदार की लिखाई में ढेर सारे ऐसे व्यवहारिक शेड्स और खलिश मौजूद हैं कि अलग-अलग किस्म के दर्शकों को उसमें अपने लिए कुछ न कुछ जरूर मिलेगा. इसका बड़ा क्रेडिट मानव कौल के हिस्से में जाता है.

3

फिल्म में मानव कौल की शिष्या के रोल में अमृता बागची नाम की नई अभिनेत्री नजर आई हैं. कहानी नायिका के नजरिए से नहीं कही गई, इसलिए वे फिल्म में कम मौजूद हैं और उनकी तरफ की कहानी दर्शकों को देखने-सुनने को कम मिलती है. जिस एक महत्वपूर्ण सीन तक पहुंचने के लिए फिल्म शुरू से लेकर आखिर तक अपना कथा-संसार शिद्दत से रचती है, वहां पहुंचकर भी बागची का अभिनय थोड़ा निराशाजनक मालूम होता है.

4

फिल्म की कुछ और उल्लेखनीय कमियों में से एक तो कहानी का जाना-पहचाना होना है और दूसरा औसत संगीत का उपयोग है. संगीत आधारित फिल्मों में मौलिक गीतों का होना फिल्म का स्तर बहुत ऊंचा उठाता रहा है. लकी अली की ‘सुर’ इसका उदाहरण है. लेकिन ‘म्यूजिक टीचर’ में दो साधारण से मौलिक गीतों के अलावा बाकी दो गाने पुराने हिंदी फिल्म गीतों के नए संस्करण भर हैं.

5

‘म्यूजिक टीचर’ फिर भी अपनी कमियों से ऊपर उठ जाती है, क्योंकि उसके पास मानव कौल हैं.  एक आम इंसान बेनी माधव का किरदार निभाते वक्त जितनी कामयाबी से दिलचस्प शारीरिक मुरकियों का उपयोग मानव कौल करते हैं, उतना ही अकेलेपन और अधूरेपन को जी रहे उस किरदार के मेंटल स्पेस का खाका खींचने में भी कामयाब रहते हैं. अपने किरदार के आंतरिक द्वंद्वों को चेहरा देते वक्त वे कई बार चौंका जाते हैं. इस फिल्म को इसकी खूबसूरती और कौल के अभिनय के लिए देखा जा सकता है.

  • शाओमी रेडमी के-20 प्रो

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    शाओमी रेडमी के20 प्रो: एक ऐसा स्मार्टफोन जिसकी डिजाइन और कीमत सबसे ज्यादा आकर्षित करते हैं

    ब्यूरो | 08 सितंबर 2019

    ह्वावे लोगो

    विचार और रिपोर्ट | तकनीक

    अमेरिका की नीतियों से जूझ रहे ह्वावे को क्या उसका नया ऑपरेटिंग सिस्टम राहत दे सकता है?

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    महबूबा मुफ्ती

    समाचार | बुलेटिन

    महबूबा मुफ्ती की बेटी को उनसे मिलने की इजाजत दिए जाने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 05 सितंबर 2019

    भारतीय उच्चायोग

    समाचार | बुलेटिन

    कश्मीर को लेकर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर पथराव होने सहित आज के बड़े समाचार

    ब्यूरो | 04 सितंबर 2019