पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी बाबर आज़म

आंकड़न | खेल

क्या बाबर आजम की तुलना विराट कोहली से करना सही है?

जब से बाबर आजम ने आईसीसी की वनडे रैंकिंग में विराट कोहली की जगह ली है तब से दोनों खिलाडियों की तुलना की जाने लगी है

अभय शर्मा | 23 मई 2021 | फोटो : पीसीबी/फेसबुक

1

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान और बल्लेबाज बाबर आजम बीते एक हफ्ते से काफी चर्चा में हैं. उन्होंने हाल ही में आईसीसी द्वारा जारी की गयी ताजा वनडे रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया है. 50 ओवर के प्रारूप में वे ऐसा करने वाले चौथे पाकिस्तानी बल्लेबाज हैं. उनसे पहले साल 1983 में यह मुकाम जहीर अब्बास, 1988 में जावेद मियांदाद और 2003 में मोहम्मद यूसुफ ने हासिल किया था. बाबर आजम के रूप में किसी पाकिस्तानी बल्लेबाज ने आईसीसी वनडे रैंकिंग में 18 साल के बाद टॉप रैंक हासिल की है. लेकिन, उनके शीर्ष पर पहुंचने की चर्चा इसलिए ज्यादा हो रही है क्योंकि उन्होंने यह मुकाम भारतीय कप्तान विराट कोहली को वहां से हटाकर हासिल किया है. विराट कोहली बीते तीन साल से भी ज्यादा समय से वनडे क्रिकेट में दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज बने हुए थे. इस समय पॉइंट्स की टेबल में कोहली के 857 रेटिंग अंक हैं और पाकिस्तानी कप्तान के 865.

2

बाबर आजम द्वारा वनडे रैंकिग में भारतीय कप्तान की बादशाहत खत्म किए जाने के बाद से इन दोनों खिलाड़ियों की तुलना की जाने लगी है. पाकिस्तानी क्रिकेट फैंस और वहां के कई पूर्व क्रिकेटर बाबर आजम को कोहली से ज्यादा बेहतर बल्लेबाज बताने लगे हैं. हालांकि, कई क्रिकेट जानकार इन दोनों के बीच की तुलना को ही सही नहीं मानते हैं. उम्र में विराट कोहली से छह साल छोटे बाबर आजम, भारतीय कप्तान से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आठ साल जूनियर हैं. दोनों के आंकड़ों पर नजर डालें तो कोहली ने जहां अब तक 91 टेस्ट, 254 वनडे और 89 टी20 मैच खेले हैं, वहीं बाबर आजम अब तक महज 31 टेस्ट, 80 वनडे और 51 टी20 मैच ही खेल पाए हैं. तीनों फॉर्मेट में कुल मिलाकर विराट कोहली के नाम 70 शतक और 22,000 से ज्यादा रन हैं, जबकि बाबर आजम अभी 19 शतक और 8,000 रनों का आंकड़ा ही पार कर पाए हैं. ऐसे में इन आंकड़ों के आधार पर कुछ लोगों को दोनों की तुलना करना ठीक नहीं लगता है.

3

लेकिन अगर बाबर आज़म ने अब तक जितनी क्रिकेट खेली है उसके आधार पर दोनों की तुलना करें तो अब तक उन्होंने 31 टेस्ट मैचों में 44 से ज्यादा के औसत के साथ 2,167 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्होंने पांच शतक लगाए हैं और उनका अधिकतम स्कोर 143 है. विराट कोहली ने जब 31 टेस्ट मैचों का आंकड़ा पार किया था, तब उनका औसत 43 था. उस समय उनके खाते में सात शतकों के साथ 2,111 रन थे और उनका अधिकतम स्कोर 141 था. वनडे क्रिकेट में आजम ने अब तक 78 पारियां खेली हैं. इनमें 56 से ज्यादा के औसत के साथ उनके 3,808 रन हैं. बाबर आज़म ने एकदिवसीय मैचों में अब तक 13 शतक लगाए हैं और उनका अधिकतम स्कोर 125 रन है. उधर भारतीय कप्तान ने वनडे क्रिकेट की 78 पारियों में 45 से ज्यादा के औसत से 3100 रन बनाए थे. उन्होंने इस दौरान कुल आठ शतक बनाए और उनका अधिकतम स्कोर 118 था. टी20 प्रारूप में जहां आजम ने 50 मैचों की 48 पारियों में 1916 रन बनाए हैं, वहीं विराट ने 50 मैचों की 46 पारियों में 1830 रन बनाये थे. हालांकि, टी20 के इन मैचों में विराट का औसत आजम से काफी ज्यादा था.

4

विराट कोहली की बाबर आजम से तुलना का एक कारण यह भी है कि बीते सालों में आजम ने क्रिकेट के कई मुकाम भारतीय कप्तान की तुलना में तेजी से हासिल किए हैं. टी20 क्रिकेट में सबसे तेज 27 पारियों में एक हजार रन बनाने का रिकॉर्ड पहले विराट कोहली के नाम था, जिसे पाक कप्तान ने ध्वस्त किया. उन्होंने 26 पारियों में ही एक हजार बना दिए. हालांकि, बाबर का यह रिकॉर्ड हाल ही में इंग्लैंड के बल्लेबाज डेविड मलान ने तोड़ दिया है. उन्होंने एक हजार रनों का आंकड़ा महज 24 पारियों में ही पार कर दिया. वनडे क्रिकेट में भी कई आंकड़ों तक आजम, कोहली से पहले पहुंच गए. वनडे की 86 पारियां खेलने के बाद विराट कोहली ने 13 शतक बनाए थे, जबकि आजम ने 76 पारियों में ही 13 शतक बना दिए. इसके अलावा भारतीय कप्तान ने वनडे क्रिकेट में एक हजार, दो हजार और तीन हजार रनों के आंकड़े तक पहुंचने के लिए जितनी पारियां खेली थीं, आजम ने ये मुकाम उनसे काफी कम पारियों में ही हासिल कर लिए.

5

क्रिकेट के खेल में किसी खिलाड़ी को बड़ा बनने के लिए कई और मानकों पर भी अपने आपको साबित करना पड़ता है. बाबर आजम के आंकड़े पाकिस्तान और यूएई में तो बेहतर हैं, लेकिन उपमहाद्वीप से बाहर वे कुछ खास नहीं कर सके हैं. उदाहरण के तौर पर टेस्ट क्रिकेट में विदेशी पिचों पर उनका औसत 37.10 ही है और वे वहां महज एक शतक ही लगा सके हैं. जबकि, विराट कोहली ने अपने टेस्ट करियर के शुरूआती पांच सालों में विदेशी धरती पर भी अपना डंका बजा दिया था. विराट कोहली में लंबी पारियां खेलने की भी अद्भुत क्षमता है, वे वनडे क्रिकेट में चार बार 150 से ज्यादा रन बना चुके हैं जबकि टेस्ट में सात दोहरे शतक लगा चुके हैं. क्रिकेट के कुछ जानकार कहते हैं कि विराट कोहली ने खुद को जबरदस्त अनुशासन में बांध रखा है. इस समय दुनिया के किसी अन्य खिलाड़ी की फिटनेस उनके स्तर की नहीं है, चोटों से भी उन्हें कम ही जूझना पड़ा है और फॉर्म तो उनकी सदाबहार है ही, और इसीलिए उनके प्रदर्शन में एक गजब की स्थिरता बनी हुई है. इन जानकारों के मुताबिक 26 साल के बाबर आजम के पास कोहली के स्तर तक पहुंचने के लिए जरूरी हुनर तो है, लेकिन वह कोहली बन पाएंगे कि नहीं, यह उनकी फिटनेस, फॉर्म और चोटों आदि पर भी निर्भर करेगा.

  • रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021

    कोविड 19 की वजह से मरने वाले लोगों की चिताएं

    आंकड़न | कोरोना वायरस

    भारत में अब तक कोरोना वायरस की वजह से कितने लोगों की मृत्यु हुई होगी?

    ब्यूरो | 27 मई 2021