कोविड 19 की वजह से मरने वाले लोगों की चिताएं

आंकड़न | कोरोना वायरस

भारत में अब तक कोरोना वायरस की वजह से कितने लोगों की मृत्यु हुई होगी?

सरकार के सेरोसर्वेज़ के आधार पर भारत में कोरोना वायरस की वजह से हुई मौतों के तीन अनुमान लगाये जा सकते हैं

ब्यूरो | 27 मई 2021 | फोटो: यूट्यूब/द गार्डियन

1

भारत में कोविड संक्रमण की सही संख्या मालूम करना आसान नहीं है लेकिन यह तय है कि जो संख्या हमें आधिकारिक आंकड़ों से मिल रही है वह सही नहीं है. इसे दूसरे शब्दों में कहें तो भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या उससे बहुत ज्यादा हो सकती है जो मामले सरकारी आंकड़ों में शामिल हैं. इसकी कई वजहें हैं: इनमें से पहली तो यही है कि भारत में आंकड़े लेने और दर्ज करने की व्यवस्था बेहद लचर है. दूसरी यह कि अस्पताल न होने या उनमें जगह नहीं होने से तमाम लोगों की मृत्यु अपने घरों में ही हुई है. और तीसरा भारत में टेस्टिंग की सुविधा भी बहुत सीमित स्तर पर उपलब्ध है. लेकिन ऐसा केवल भारत में ही है ऐसा भी नहीं है. डब्ल्यूएचओ का कहना है कि पूरी दुनिया में कोविड की वजह से हुई असल मौतों की संख्या, दर्ज की गई मौतों से दो-तीन गुना ज्यादा हो सकती है.

2

अमेरिकी अखबार द न्यूयॉर्क टाइम्स ने राष्ट्रीय स्तर पर हुए तीन सेरोसर्वेज के आधार पर भारत में कोविड संक्रमण के तीन ही अनुमान लगाये हैं. सेरोसर्वे में जनसंख्या के एक छोटे से हिस्से के खून की जांच करके यह पता लगाया जाता है कि उनमें कोरोना वायरस के एंटीबॉडीज हैं या नहीं. खून में एंटीबॉडीज होने का मतलब है कि किसी व्यक्ति को कोविड-19 हो चुका है. अगर भारत के तीनो सेरोसर्वेज़ की बात करें तो इनमें से पहला सर्वे पिछली साल मई-जून में किया गया था. उस समय भारत में कोरोना संक्रमण के 226713 मामले दर्ज किये गये थे. उस सेरोसर्वे का अनुमान था कि संक्रमण की संख्या इसकी 28.5 गुना होनी चाहिए.  दूसरे सेरोसर्वे (अगस्त-सितंबर 2020) का अनुमान था कि संक्रमण की संख्या दर्ज किये गये मामलों से 13.5 गुना ज्यादा हो सकती है. जबकि दिसंबर 2020-जनवरी 2021 में हुए तीसरे सेरोसर्वे का मानना था कि संक्रमण की संख्या दर्ज मामलों से 26.1 गुना ज्यादा हो सकती है.

3

न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक दर्जन से ज्यादा विशेषज्ञों के साथ इन सर्वेक्षणों का अध्ययन करने के बाद भारत में कोरोना संक्रमण से जुड़े तीन तरह के आंकड़े दिये हैं – कंजूस अनुमान (कंजर्वेटिव एस्टीमेट), संतुलित अनुमान (अ मोर लाइकली सिनारियो) और डरावना अनुमान (वर्स सिनारियो). सबसे पहले यानी कंजूस अनुमान में कुल संक्रमणों की संख्या, दर्ज संक्रमणों से 15 गुना ज्यादा रखी गई और कोरोना संक्रमितों की मृत्यु दर (इन्फेक्शन फटैलिटी रेट या आईएफआर) को सिर्फ 0.15 प्रतिशत ही माना गया. इस अनुमान के आधार पर 24 मई तक भारत में कम से कम 40 करोड़ लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और इनमें से करीब छह लाख लोगों की मृत्यु हो चुकी है.

4

दूसरे यानी संतुलत अनुमान में यह माना गया कि कोरोना वायरस से संक्रमित कुल लोगों की संख्या सरकार द्वारा दर्ज किये गये आंकड़ों से 20 गुना ज्यादा होगी और इनमें से 0.3 फीसदी लोगों की मृत्यु हो गई होगी. यह अनुमान कहता है कि 24 मई तक भारत में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 53.9 करोड़ होनी चाहिए और उनमें से कुल 16 लाख लोगों की मृत्यु कोविड-19 की वजह से हो गई होगी. ध्यान देने वाली बात यह है कि भारत सरकार द्वारा 24 मई तक करीब तीन लाख लोगों की मृत्यु कोरोना वायरस की वजह से हुई, दर्ज की गई है.

5

तीसरा और सबसे डरावना अनुमान यह है कि कोरोना संक्रमण के मामले दर्ज मामलों से 26 गुना ज्यादा होंगे जैसा कि तीसरा सेरोसर्वे भी कहता है. और इसके मुताबिक कोरोना वायरस से होने वाली मौतों की दर 0.6 फीसदी हो सकती है. इस हिसाब से 24 मई तक भारत में कोरोना संक्रमण के करीब 70 करोड़ मामले होने चाहिए और इनमें से करीब 42 लाख लोगों की मृत्यु कोविड-19 के चलते हुई होगी. यह आंकड़ा मृत्यु के दर्ज आंकड़े से 12 गुना ज्यादा है.

  • लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ज्ञानकारी | तकनीक

    लगभग हर वेबसाइट पर मौजूद रहने वाले डार्क पैटर्न्स के बारे में आप क्या जानते हैं?

    ब्यूरो | 19 अक्टूबर 2021

    रियलमी नार्ज़ो 30 5जी मोबाइल फोन

    खरा-खोटा | मोबाइल फोन

    रियलमी नार्ज़ो 30 (5जी): मनोरंजन के लिए मुफीद एक मोबाइल फोन जो जेब पर भी वजन नहीं डालता है

    ब्यूरो | 03 जुलाई 2021

    ह्यूंदेई एल्कजार

    खरा-खोटा | ऑटोमोबाइल

    क्या एल्कजार भारत में ह्यूंदेई को वह कामयाबी दे पाएगी जिसका इंतजार उसे ढाई दशक से है?

    ब्यूरो | 19 जून 2021

    वाट्सएप

    ज्ञानकारी | सोशल मीडिया

    ‘ट्रेसेबिलिटी’ क्या है और इससे वाट्सएप यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा?

    ब्यूरो | 03 जून 2021